QUOTES ON #URDU

New to YourQuote? Login now to explore quotes just for you! LOGIN

#urdu quotes

Trending | Latest
Mayanka Dadu 25 MAY 2017 AT 13:05

मेरे वजूद की थी बस इतनी सी निशानी
किसी ने कहा शराब किसी ने कहा पानी

-


Show more
5400 likes · 122 comments · 420 shares
Deepak Shah 7 AUG 2018 AT 9:25

इक नज़्म
जो नहीं चाहती
किसी मंच पे आना
इक ग़ज़ल
जो नहीं चाहती
किसी तरन्नुम में बंध जाना

इक एहसास
जिसको गँवारा नहीं
किन्हीं अल्फ़ाज़ में गढ़ना
इक रंग
जिसका मुमकिन नहीं
बाहर से आँखों पे चढ़ना

ये जो दे रहा चुपचाप
इंद्रधनुषी रंग
इस बूँद को
वो तेरा इश्क़ है

-


Show more
2611 likes · 191 comments · 84 shares
Abhilekh 7 JAN 2017 AT 9:43

Moan like it hurts you,
And pretend like you missed it!


-


Show more
1915 likes · 57 comments · 69 shares
Anshul Nagori 6 SEP 2018 AT 19:48

इश्क़ में हर रंग सतरंगी
इश्क़ में हर ढंग अतरंगी
इश्क़ में हर मन तरंगी
इश्क़ में हर तन मृदंगी

इश्क़ में क्यों लिंग प्रसंगी
इश्क़ में क्यों दुनिया जंगी

इश्क़ में हर हयात उमंगी
इश्क़ में क़ायनात रंगीं
इश्क़ में सब हों मलंगी
इश्क़ में जय हो बजरंगी

-


1525 likes · 52 comments · 31 shares
Pratik Raj Mishra 21 AUG 2017 AT 23:20

नयी नयी दुल्हन सी वो बन के आती है ,
कि जैसे धुप भी पत्तों से छन के आती है ,

किसी परी से कम नहीं लगती मेरी बच्ची ,
जब अखाड़े से मिट्टी में सन के आती है ।

-


Show more
1366 likes · 61 comments · 33 shares
Srivastava Vikram 19 FEB 2018 AT 11:51

प्यासे को पानी बरसाना पड़ता है
सागर को बादल बन जाना पड़ता है

जिनके पास न हो मरने की ख़ातिर कुछ
उनको जीते जी मर जाना पड़ता है

दुनिया में दर यूँ ही नही खुलते प्यारे
दीवारों से सर टकराना पड़ता है

नद्दी से जितना चाहे लड़ ले पत्थर
मिट्टी बन उसको बह जाना पड़ता है

एक जुनूँ का पेड़ सींचने की खातिर
कुछ ख़्वाबों का खून बहाना पड़ता है

बुनियादें मजबूत यूँ भी हो जाती हैं
उनको घर का बोझ उठाना पड़ता है

-


1275 likes · 68 comments · 76 shares
Mahender Kumar 3 APR 2018 AT 0:17

मैं जागता भी नहीं और सो रहा भी नहीं
कि पा रहा हूँ किसी को तो खो रहा भी नहीं..

मिरे लबों पे हँसी का कोई निशान नहीं
मिरी इन आँखों से ज़ाहिर है रो रहा भी नहीं..

बदन की किश्त में एक ऐसी फ़स्ल काटता हुँ
जिसे मैं ख़ुद तो किसी तरह बो रहा भी नहीं..

जो सोचता हूँ तो कोहराम सा मचा हुआ है
जो देखता हूँ, कहीं कुछ तो हो रहा भी नहीं..

मिरे वजूद पे लम्हों की गर्द जमती हुयी
मैं बे ख़बर कहीं से ख़ुद को धो रहा भी नहीं..

उसी की याद में दिन रात अश्कबार है चश्म
वो एक शख़्स मिरा अब के जो रहा भी नहीं..

'SANI'

-


Show more
1219 likes · 40 comments · 22 shares
Anshul Nagori 24 APR 2017 AT 0:28

महफ़िल वो नहीं, जहाँ चेहरों की तादाद हो,
महफ़िल तो वो है, जहाँ ख़याल आबाद हो,
महफ़िल वो नहीं, जहाँ कल्में इरशाद हों,
महफ़िल तो वो है, जहाँ तारीफ़ आज़ाद हो...

-


1170 likes · 100 comments · 85 shares
Mahender Kumar 29 MAR 2018 AT 15:37

मैं हो कर भी कहीं होता नहीं हूँ
मगर ख़ुद को कभी खोता नहीं हूँ..

میں ہو کر بھی کہیں ہوتا نہیں ہوں
مگر خود کو کبھی کھوتا نہیں ہوں..

"SANI"

-


1072 likes · 30 comments · 14 shares
Pratik Raj Mishra 3 JUN 2017 AT 14:58

हर शेर सच्चे ईमान से लाता हूँ ,
मैं गज़लें सीधा आसमान से लाता हूँ ,

इतनी भी क्या जल्दी है थोडा सब्र करो ,
तूफ़ान से कश्ती भी मैं इत्मीनान से लाता हूँ ।

-


1033 likes · 110 comments · 47 shares
Trending Videos
Fetching Feed..
YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App