Upload Video

#yourquote

449060 quotes

YourQuote
YourQuote
हक़ीक़त बदल गयी हम ख्वाब देखते रहे,
सारी रात बीत गयी हम तेरी राह देखते रहे, 

पूरा आज बीत गया हम कल देखते रहे, 
पूरा वर्तमान बदल गया हम इतिहास देखते रहे, 

पतझड़ से झड़ गए जिंदगी के सारे अरमान,
हम आँखों में आब लिए उनके लबों की मुस्कान देखते रहे, 

हम आस लगाए बैठे थे, लौटेगा मेरे भी सपनों का कारवाँ, 
कारवाँ गुज़र गया, हम गुबार देखते रहे।

गोपालदास नीरज हिंदी साहित्य जगत के मूर्धन्य कवि व गीतकार हैं। कल 19 जुलाई 2018 को उनका देहांत हो गया। पद्म श्री, पद्म भूषण तथा अपने फ़िल्मी गीतों के लिए 3 बार फ़िल्म फ़ेयर से सम्मानित रहे। कई पीढ़ी के गीतकार व श्रोता उन के गीतों से प्रभावित रहे। आज हम उन महान गीतकार को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। उनके एक सुप्रसिद्ध गीत की पंक्ति को आधार बनाकर काव्य रचना करें। #देखतेरहे #yqdidi #collab #yourquoteandmine Collaborating with YourQuote Didi #yqbaba #yqtales #yqquotes #yourquote

"What is gradual love?",he asked

She replied with a smile," It's the purest one as the threads of the two hearts get woven slowly and steadily and makes the perfect masterpiece!"

#GradualLove#truelove#masterpiece#yqbaba#yourquote#like#follow

But it will be easier with you

Challenge 1: What do you #Want? Or what do you think people want from you? Challenge 2: Today is Alexander the Great's birthday. He conquered most of the known world in his time. Use #ICouldTooBut and share what are the things that keep you busy or what are the hurdles in your path of conquering the world. :P ____ If you like to laugh, then follow Yourquote Humour #yqbaba #YourQuoteAndMine Collaborating with YourQuote #sameediyat #yourquote #writetoexpress






।। हमारा जमाना ।।



                       ~ दक्षता

बड़ा ही खुशरंग और सुकून भरा था वह 90s का ज़माना, ना पोस्ट और अपलोड की माथापच्ची थी और ना ही स्टेटस अपडेट का टेंशन। दिखावा नहीं करते थे, वास्तविकता में जीते थे लोग, विलासिता की वस्तुओं की बजाए घर के बने पकवानों से लगते थे भोग। गर्मी की छुट्टियां महज एक मौसम नहीं त्योहार हुआ करती थी, बच्चों की टोली घर की दहलीज लांघकर गलियों में धमा-चौकड़ी मचाया करती थी। खेलते थे चोर-पुलिस, पकड़ा-पकड़ी, सतोलिया और छिपम-छिपाई, सेलफोन की काल-कोठारी में छिप गया बचपन, अब ना कोई धप्पा करने वाला है, ना ही आई-स्पाई। कॉमिक्स का रट्टा लगाया जाता था, पिंकी, चाचा चौधरी, बंटी-बबली, सुप्पन्डी मानो दोस्त थे हमारे, चंपक, बाल-भास्कर और बाल-हंस ने बड़े स्नेह से सँजोए थे ये किरदार सारे। जहाँ खाली कागज मिल जाता, चित्र उकेरे जाते थे, भद्दे से ये चित्र हमारे दिल को अत्यंत लुभाते थे। फेवरेट होलिडे डेस्टिनेशन तो नानी का घर होती थी, अंताक्षरी और कैरम खेलने की एक्साईटमेंट ही कुछ और होती थी। डोरेेमॉन, हत्थोड़ी और परमैन जैसे खोखले चाइनीज़ पात्र नहीं थे अस्तित्व में, शक्तिमान हुआ करता था सबका मसीहा, सोन परी और शाका-लाका बूम-बूम की पेंसिल माहिर थे जादू दिखलाने में। दादी-नानी के बुने स्वेटर पहन, किया करते थे घमंड, ना प्राइस टैग सताते थे, ना ही लेबल्स और ब्रांड। बड़े चाव से तैयार होकर, स्टूडियो में फोटो खिंचवाने जाते थे, टोपी लगाकर, गिटार थामकर, फूलों के गुलदस्ते से सटकर हम कुछ ज्यादा ही इतराते थे। बरसात के पानी में चलाते थे कागज की किश्ती, "गंदे पानी में मत खेलो" कहकर हमारी माँ नहीं करती थी कोई जबर्दस्ती। इम्युनिटी तब भी स्ट्रोंग थी हमारी, क्योंकि जरूरी अलर्जंस से हो जाता था सामना, हाईजीन के नाम पर एटोपिक बीमारियों का हाथ नहीं पड़ता था थामना। मटके के पानी से ही बुझती थी प्यास,फ्रिज का पानी भाता न था और R.O. भी नहीं होता था कहीं आसपास। पापा के साथ छत पर खूब पतंग उड़ाते थे, और कई दफा तो प्लास्टिक की थैली/पन्नी से ही काम चला लिया करते थे। जो हो जाए मौसी/भुआ की शादी, बड़ी रील वाली कसैट का रहता था इंतजार, VCR को TV से जोड़कर मिल-बैठकर देखता पूरा परिवार। बिजली के जाते ही मानो लॉटरी लग जाती थी, सभी घरों के बाहर रौनक-सी छा जाती थी, राजनीति, सरकार, सिनेमा पर बड़ों की बहस होती थी, कपड़े और अखबार की पंखियां चलने लगती और बच्चों की आँख-मिचौली तब नया रूप धर लेती थी। कोई माने या न माने, हमने टेक्नोलॉजी को जन्म लेते और यौवन में ढलते देखा है, PC को लैपटॉप और टैब बनते देखा है, उस रिलायंस व नोकिया के की-पैड फोन को स्क्रीन टच बनते देखा है, बड़ी वाली रंगीन TV को LED बनते देखा है, कसैट को CD/DVD और पैन-ड्राईव में बदलते देखा है, हम 90s के बच्चे हैं, हमने ट्रांसफोर्मेशन देखा है ।। #yqdidi #yqbaba Follow my writings on https://www.yourquote.in/dc3196.dc #yourquote

🤢🤢🤢😢😢

*इन्ना लिल्लाहे वा इन्ना इलैहे राजेऊन* हुज़ूर ताजुशशरिया हज़रत अजहरी मियां साहब का अभी कुछ देर पहले विसाल हो गया हैं आप सब उनके दरजात बुलंद होने की दुआँ करें🤲🏻🤲🏻🤲🏻। आमीन 😭😭😭😭😭😭😭😭😭 #meredilse #yourquote #love #yqtales #yqbhaijan #yqbaba #yqdidi #yqdada