Upasana Gupta   (Upasana)
8.8k Followers · 768 Following

read more
Joined 23 September 2016


read more
Joined 23 September 2016
5 MAY AT 0:10

आज जरूरत है इंसान को इंसान की
वरना कल तक लोग घरवालों को भी नही पूछते थे।

इक महामारी लगी,
इंसान को इंसान की अहमियत बताने के लिए।

-


5 MAY AT 0:08

Stop feeding me the sweet lies
Woven in your words,

I can see the truth,
Scattered around me.

But still decide to overlook them
Bcz, I am scared to let you go.
For now.

-


20 APR AT 12:38



जिंदगी महज़ एक आंकड़ा रह गयी है।
कुछ जिंदा आंकड़े, कुछ मुर्दा।

Life Is Just A Number Now.
And we refresh it
To know the latest Updates.

-


20 APR AT 11:58

अब समझ आता है जब हम छोटे थे और बीमार होते थे,
तो माँ पापा रात भर क्यूं जागा करते थें,

जैसे अब हमें नींद नहीं आती,
जब तक उन्हें नींद ना आये।

-


20 APR AT 11:54

As a doctor,
We have been dealing with deaths n CPR and ICU patients,
But we never filmed them.

But these days,
People are filming the deaths, CPR, and everything
As if it a show going on.

Please be kind.

If you are so free and bored,
Go to the nearest covid centre,

Wear the PPE n help the patients
Instead of filming dying people n sharing.

You don't need to be a medico, to monitor, and help them.

-


20 APR AT 11:50

Stop being Unkind.
Stop talking shit and Illogical thing.

Empathize
Stay Useful rather than being useless junk on the earth.

You have been given a Brain,
Don't let us know that
You should have been a monkey instead.

Help.
Learn.
Survive.
That's the need of the hour.

-


18 APR AT 23:05

कोई दवा मांग रहा है, कोई दुआ मांग रहा है
कोई वक़्त मांग रहा है, कोई बेवक़्त मांग रहा है
कोई जमीन मांग रहा है, कोई हवा मांग रहा है
कोई जन्नत मांग रहा है, कोई मन्नत मांग रहा है

सब मांग ही रहें है, मगर देने वाला कहाँ है।

-


13 APR AT 22:04

I love writing your name,
Under my ink,
Letting it dry,
And make an impression,
Touching every letter,
And caressing the curves,
Taking my time
To absorb the feeling of your presence
And then
Erase it again
To hide you
From the world
And keeping you safe
Only in my heart
And mind.

-


13 APR AT 0:42

डर और दीवार।

दीवारें इतनी ऊंची ना बनाओ,
कि कोई आना भी चाहे तो अफ़सोस करके
आगे निकल जाए।

आखिर ऐसा क्या है छुपाने को
कुछ एहसास?
मगर वो तो सबके ही पास है

या फिर कोई खज़ाना रखा है
इश्क़ का।
जो बांटना नहीं चाहते।

-


13 APR AT 0:32

उसे डर था, कोई उसके अंदर झांक कर ना देख ले
इस डर से उसने दीवारें ऊंची बनाई

और अब ये हाल है कि

लोग उसके दिल को घर नहीं,
फ़क़त दीवार समझ के आगे निकल जातें हैं।

-


Fetching Upasana Gupta Quotes