Upasana Gupta   (Upasana)
8.6k Followers · 768 Following

read more
Joined 23 September 2016


read more
Joined 23 September 2016
14 SEP AT 15:17

आप अगर हिंदी में बात करते हैं
और उसको पसन्द करते हैं
तो इसका ये कतई मतलब नही की
आप उर्दू, अंग्रेजी, मराठी, तेलुगु, मलयालम,
और अन्य भाषाओं का आदर नही करते हैं।


भाषा का बस एक उद्देश्य है
आपस में बातचीत करना
औऱ जुड़ कर रहना।

एक दूसरे की भाषा का अनादर करना नही।

भाषा कोई भी हो
इंसान एक ही है।

भाषा अच्छी या बुरी नही हो सकती है
मगर, ये इंसान के उपर है कि
वो कैसा बनना चाहता है।

-


6 SEP AT 17:03

तेरी ख़्वाहिशें और तेरी किस्मत
एक तेरे हाथ में हैं

तेरी कोशिशें और तेरी मेहनत
एक तेरे हाथ में है

तेरी कीमत और तेरी इज़्ज़त
बस तेरे हाथ मे हैं

तेरी हिम्मत और तेरी ताकत
एक तेरे हाथ में है

तू जो चाहे
तो तू कुछ भी कर सकता है

तू जो चाहे तो
ज़मीन को आसमा कर सकता है

तू आज सोचे तो
खुद की ताकत बन सकता है

तेरी ज़िन्दगी औऱ तेरे सपने
बस तेरे हाथ में है।

-


3 SEP AT 1:40

You don't always have to fall in love
To get yourself broken.

Sometimes, A friend does it quite well.
Unexpectedly and beautifully.

-


3 SEP AT 1:33

At night, Often I stay wide awake
And think about the stuff you always told me

About you and us & I wonder

What could have made you lie
About everything.

And how hard was it
To be true

And to shatter
My faith or my silly heart.

-


2 SEP AT 0:08

Kuch Khwahishein
Aur Kuch Tum

Uljhe Hue
Un Sawalon Ki Tarah Hain
Jise Main Jitna Bhi Suljhau

Uljhati Jati Hain.

-


1 SEP AT 23:52

ख़्वाहिशें आज बढ़कर तुम तक पहुंची थी

तुम सामने तो थे
मगर किसी और के साथ।

-


1 SEP AT 23:44

मोहब्बत कुछ ऐसी की हमनें

तुमने कुछ वादें भी नही किये
और हमनें सब कुछ तुम्हारे नाम कर दिया।

-


1 SEP AT 23:38

रोक लो हमें
कि इस बार जो गए

तो अब तुम्हें आना होगा
और शायद मैं फिर भी ना आऊं।

-


1 SEP AT 1:44

आज सोचा है
रात भर तुम्हें लिखूं

सुबह तुम जब उठो
तो तुम्हे ये किताब दूं

वही, जिसमे तुम्हारी हर बात लिखी होगी
जो मुझे बेहद भाती हैं

कुछ पन्ने फिर
शिक़वे और ख्वाहिशों के भी होंगे

जो तुम एकदम से पलट दोगे
जैसे मुझे देख कर अपनी नज़रें पलट लेते हो

आज सोचा है
रात भर तुम्हें लिखूँ

मगर, वो क़िताब
शायद, मेरे तक ही रहेगी।

-


1 SEP AT 1:32

Tumhe sochti hoon
Aur sochti rehti hoon.

Is soch se aage
Hamara milna mumkin kahan hai.

-


Fetching Upasana Gupta Quotes