YOLO ADII🖤   (ADITYA PANDEY)
14.1k Followers · 1 Following

read more
Joined 30 May 2018


read more
Joined 30 May 2018
4 SEP AT 19:02

कुछ तुम मिलने की प्यास लिखो,
कुछ हम बरसों का इंतज़ार लिखें।
चलो हम एक किताब लिखें,
हम दोनों के जज़्बात लिखें।।

कुछ तुम हमारी बात लिखो,
कुछ हम तुम्हारी याद लिखें।
चलो हम एक किताब लिखें,
हम दोनों के जज़्बात लिखें।।

तुम अधूरी सी वो रात लिखो,
हम एक छोटी सी मुलाकात लिखें।
चलो हम एक किताब लिखें,
हम दोनों के जज़्बात लिखें।।

कुछ तुम अनकहा सा प्यार लिखो,
कुछ हम सच्चा सा एहसास लिखें।
चलो हम एक किताब लिखें,
हम दोनों के जज़्बात लिखें।।

कुछ तुम संग जीने की आस लिखो,
कुछ हम संग फ़ना होने की बात लिखें।
चलो हम एक किताब लिखें,
हम दोनों के जज़्बात लिखें।।

-


27 JUN AT 19:22

अब कैसे कहूँ मैं कितना चाहूँ तुझे,
तू कह दे तो ये दिल चीर कर दिखाऊँ तुझे।
एक अरसा हो गया है मुझे लिखते तुमको ,
तू बोल तो सही अब पढ़ कर सुनाऊँ तुझे।।

-


14 MAY AT 20:57

माना ये मोहब्बत में दूरियाँ हमें बहोत तड़पाती है,
कभी हँसाती तो कभी-कभी बहोत रुलाती है।।
हम दोनों के दिल का रिश्ता कुछ यूँ है यारों की ,
मैं उसे शायरी तो वो मुझे हमसफ़र बुलाती है।।

-


2 APR AT 21:58

आखिर कैसे समझ पाते मेरी तड़प को तुम,
मैं दर्द में चीख़ता भी बड़ी खामोशी से जो हूँ।।

-


5 FEB AT 20:08

हार जैसे सजाए तू मुझे ,
और मोतियों की तरह टूट कर मैं मिलूँ।।
काश ऐसा भी हो कि किसी मोड़ पर,
मुझसा तू मनाए मुझे,और रूठकर मैं मिलूँ।।

-


5 DEC 2020 AT 19:36

मेरे किस्से ना सुनो,मैं तो अब कहानी लिख रहा हूँ,
इश्क़,प्यार,मोहब्बत,अब सब कुछ रूहानी लिख रहा हूँ।
उसकी बातें ,उसकी यादें , उसे पाने की हसरत ,
इन पन्नों पे अब सब कुछ मैं मुँहजुबानी लिख रहा हूँ।।

-


1 NOV 2020 AT 17:25

जिस दिन तू बदला उस दिन,
कलम का रुख़ मोड़ दूँगा मैं।।
जितने लफ़्ज वफ़ा के लिखे हैं,
वो सारे बेवफा से जोड़ दूँगा मैं।।

-


29 SEP 2020 AT 18:39

कागज़ की कश्ती हूँ,मगर किनारा ढूँढ लाऊँगा
इस 'तुम' की बस्ती में,मैं कोई 'हमारा' ढूँढ लाऊँगा।
आसमां से टूट कर जो मेरी ख्वाइशों को पूरा करे,
यारों मैं एक दिन वो सितारा भी ढूँढ लाऊँगा।।

-


30 AUG 2020 AT 19:10

चलो हम बर्बाद हो जाते हैं,
तुम कहीं आबाद हो जाना।
बना मुझे सूखा सा तालाब कोई,
तुम कहीं बहते पानी की धार हो जाना।

बना मुझे ख़्वाइशों का चाँद कोई,
तुम कहीं अधूरे से अरमान हो जाना।
मैं बन जाता हूँ इश्क़ का शागिर्द कोई,
तुम कहीं वफ़ा पे बदनाम हो जाना।

बना मुझे इक तनहा सी रात कोई,
तुम कहीं मेरे अधूरे से ख़्वाब हो जाना।
मैं बन जाता हूँ बीती बात कोई,
तुम कहीं किसी के सपनों का साज हो जाना।।

बना मुझे मिट्टी की धूल कोई,
तुम कहीं धुंए का गुबार हो जाना।
मैं बन जाता हूँ इश्क़ की किताब कोई,
तुम कहीं उस पर लिखे अल्फ़ाज हो जाना।।

-


14 JUL 2020 AT 19:29

वादे करने हो तो साथ जीने के करिये गा,
यूँ तो हर कोई वादे मरने के किया करते हैं।।
बातें करनी हो तो रूह की करिये गा,
ज़िस्म तो अब बाज़ारों में भी बिका करते हैं।।

-


Fetching YOLO ADII🖤 Quotes