Upload Video

#poem

41886 quotes

YourQuote
YourQuote
मिलेगा वक्त अग़र, किसी वक्त, तो मिलने आओगी क्या,
कांच से नाजुक दिल से तुम फिर खेलने आओगी क्या?
मिल गए अगर कभी ,कहीं ,किसी  राह पर चलते-चलते,
तुम फिर देख के जुल्फे संवार, हौले से मुस्कुराओगी क्या?

सूरज ढल गया है, शाम हो चली है, तुम्हारे इंतेज़ार में,
रात को तुम ख्वाबों में ,एक दफा मिलने आओगी क्या?
रात काली है, चलो गुज़ार लूंगा तुम्हे याद करते-करते,
मग़र सुबह मिलने फिर , किसी बहाने से आओगी क्या?

कहो तो सुना दूँ ,आज महफ़िल में कोई शायरी तुमपे,
तुम बन शेर मुक़र्रर ,मेरे नज़्म के होने आओगी क्या?
जो शुरु की थी साथ मे इश्क़ की प्यारी इक दास्तां हमने,
उस अधूरे किस्से की कहानी पूरी करने आओगी क्या?


दिखा दूँ अग़र जख़्म अपने ,तुमसे तोहफ़े में मिले हुए,
तुम अब सहेज हाथों से फिर मरहम लगाने आओगी क्या?
तुम जो कहते हो कि 'साहेब',आज-कल तुम जहर कहते हो,
साहिबा! अमृत कहूँ तो तुम होंठो से लगाने आओगी क्या??

आओगी क्या? कुछ सवाल , एक ग़ज़ल , तुम मैं और मोहब्बत। कोई पूंछे अगर मोहब्बत के किस्से तुमसे। तुम मेरा नाम सोंच मुस्कुराओगी क्या ? #love #poem #urdupoetry #hindi #yourquotes #yourquote #saheb #yqbaba