QUOTES ON #LOVE

New to YourQuote? Login now to explore quotes just for you! LOGIN

#love quotes

Trending | Latest
Abhijeet JUST NOW

बारिशें अपनी नाराज़गी सहराओं में छोड़ आईं ,
बची-कूची मोहब्बत को दरियाओं में छोड़ आईं ,

उस रोज़ तो पानी हमनशीं की आंखों में उतरा ,
बारिशें अपनी मस्तियाँ उन निगाहों में छोड़ आईं ,

फिर कुछ किस्से कहे गए रात भर , सहर तक ,
के बारिशें अपनी फ़ितरत किताबों में छोड़ आईं ,

उन दीवारों के बीच एक गुल के खिलने पर ,
सारी ख़ुशबुओं को बारिशें दरारों में छोड़ आईं ,

'ख़्याल' तो आया ही नही की अभी सर्दियाँ हैं ,
बारिशें अपना वक़्त यानी रिवाज़ों में छोड़ आईं !

-


Ananya Pandey 13 SECONDS AGO

है वो दोस्त मेरा, मेरा रहनुमा है,
मुसीबत में हमेशा मेरे साथ वो खड़ा है,
कुछ रिश्ते प्यार से बढ़कर होते हैं,
उनकी गहराई दुनिया की समझ से परे है,
लोग आते हैं, दो बातें बना , हमें न जाने क्या समझ जाते हैं,
अरे इश्क़-मुश्क़ से हटकर , एक रिश्ता यार का भी है,
जानते हैं वो पर,पता नहीं क्यों हर बार ,
ख़ुद की ज़बान को सिखाना भूल जाते हैं !!

♥️

-


Chetan Bhoye 14 SECONDS AGO

तुम यूँही इंतजार करते रहना
तुम्हारा इंतजार ही
मुझे तेरे पास आने के लिए मजबूर कर देगा,,

-


Yahid SFY 20 SECONDS AGO

I need
Some one
Who cares me like
no one else

-


1 likes
Abhishek Omar 39 SECONDS AGO

लंबी लंबी खामोशियो से गुज़रा हूँ!
किसी को कुछ कहने के चक्कर में!!

-


Show more
2 likes
Insomniac 53 SECONDS AGO

उसके चले जाने के बाद हम महोबत नहीं करते किसी से, छोटी सी जिन्दगी है किस किस को अजमाते रहेंगे|

-


1 likes
Harjot Singh A MINUTE AGO

Aaj kuch alag hua
Apka naam kisi aur ke muh se sun liya ..
Baat to jara si thi par pagle dil ne bura man liya...

-


1 likes

कोई भी खुबसूरत है इसलिए.. उस से प्यार नहीं होता
हर किसी का मनचाहा.. हर सपना साकार नहीं होता
हर किसी हसिन सुरत पे.. ना मर मिटना ये मेरे दोस्त
क्योंकि हर किसी के दिल में.. सच्चा प्यार नहीं होता
DAD_PATIL

-


Rahul Chauhan A MINUTE AGO

यूं ना श्रृंगार करके आईने के सामने आया करो चौहान
देखो कहीं नजर ना लग जाए तुम्हें आईने की!!

-


1 likes · 1 share
Sourav Banerjee A MINUTE AGO

रुके रुके इंतज़ार में ही मर गए,हम तो खड़े रहे। तुम्हारे चाहने वाले कतार में ही मर गए।।
हम देखते,देखते ही रह गए,बेचारे कितने थे बिना दीदार किए ही मर गए।।
थी कितनी ख्वाइश की ज़रा,आवाज़ ही सुनी ले।
उन बेगैरों का सोच के रुक गए ,जो बेगैरत में ही कफ़न में लिपट गए।।

-


1 share
YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App