QUOTES ON #MUHARRAM

New to YourQuote? Login now to explore quotes just for you! LOGIN

#muharram quotes

Trending | Latest
©rᎥZ_✿_aZოᎥ 8 SEP AT 22:54

Woe to the life without YOU !
Ya Hussain (A.S.)




-


Show more
133 likes · 30 comments · 7 shares
Deepmu 21 SEP 2018 AT 19:40

Read in caption...

-


Show more
126 likes · 45 comments · 32 shares
Mohammad Shiblee 7 SEP AT 20:20

Wo thi unke zindagi ki dastaan jispe ummati dhol-nagade bajate or mela lagate hue guzar gye,

"Fir bhi mangi thi nabi-e-paak ne sirf ummat ke liye hi Dua"

Haalanki dekha bhi tha mere ummati hi mere 'Aulaad' ko zibah kar gye...

-


Show more
113 likes · 45 comments · 16 shares
Shifa Iram 9 SEP AT 19:41

शर्मिंदा शमशीरे भी रही होगी
बोसे करबला ने लिए होंगे
क्या ही अश्क परिंदो ने तर किए
जो गूँज "अल्लाह ओ अकबर"उठी होगी
मुकम्मल थे सजदे वो आदमज़ात के
जँहा पीछे तीन दिन की प्यास
और आगे यौमे शहादत मुंतज़िर थी।।

-


Show more
90 likes · 21 comments · 8 shares

होली पर पानी ना बहाएँ।
दीवाली पर पटाखे ना फोड़ें
महाशिवरात्रि पर दूध बर्बाद ना करें।
मकर संक्रांति पर पतंग ना उड़ाएँ।

मुहर्रम पर अपनी शरीर से रोड पर खून ना बहाय आलाह नहीं मिलते खून दान करो।

-


79 likes · 5 comments
muskan mk 10 SEP AT 12:35

यह मत कहो की पानी को तरस गए,
की पानी तरस गया था उन तक आने के लिए

प्यासे ही शहीद हो गए वो ईमान के लिए

“सुब्हानअल्लाह”

-


71 likes · 7 comments · 19 shares
Shamsher Khan 7 SEP AT 17:18

شہادت سب کے حصے میں کہاں آتی ہے دنیا میں
میں تجھ پہ رشک کرتا ہوں، ترا ماتم نہیں کرتا!

शहादत सब के हिस्से में कहाँ आती है दुनिया में
मैं तुझ पे रशक करता हूँ तिरा मातम नहीं करता!

-


67 likes · 36 comments · 19 shares
Satish Yadav 10 SEP AT 12:32

सब्र-ए-हुसैन का करबला भी क़ायल हो गया
सर दे दिया पर यज़ीद को सजदा नहीं किया

"हुसैन इब्ने-अली को लाखों सलाम"

-


Show more
64 likes · 15 comments · 7 shares
Noor Hayat 12 AUG AT 10:48

Is Tarah Zindagi Doobi Hai Andheron Mein Hayat...

Ab Hua Karti Hain Eiden Bhi Muharram Ki Tarah...

-


63 likes · 36 comments · 14 shares
Dilnasheen Dilshaan 7 SEP AT 19:48

सलाम या हुसैन -2

गमों में डूबी है फिजा करबला की
मेरे लाल को कहां ले जारहे हो
ना करो तन से जुदा मेरे असगर को
ये इल्तज़ा है दुखिया मां की
खुश्क लब हैं दर्द से भरा है सिना
खून से नम है ज़मीं करबला की
दिल रेजा रेजा होता है हमारा
सुनो दास्तां शहीद ए करबला की
कहने लगी बीमार सुगरा
लाड़ली हूं मैं बाबा जान की
मुझे भी साथ ले चलो इल्तज़ा है
इस बीमार जां की।
कहने लगे शाह अपनी जान से
बीमार हो मेरी लखतेजीगर
सफ़र बड़ा तवील है करबला की।

-


53 likes · 6 comments · 8 shares
YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App