UTKARSH KRISHNA   (Manyavar writing:-$)
21.1k Followers · 87.4k Following

read more
Joined 25 June 2018


read more
Joined 25 June 2018
UTKARSH KRISHNA 4 DEC AT 9:17

आराम़ गुजारी थी जिन्दगी मनमर्जीयां चलाते चलाते
तेरे होने के बाद से इजाफे ग़ुलाम हैं हमारी इजाज़त के..

-


Show more
329 likes · 29 comments
UTKARSH KRISHNA 17 NOV AT 12:15

काश मेरे जज्बातों की एक कब्र होती...
हर सुबह उसमें दफ्न होके हर रात उसमें मग्न होती
दिन भी कट जाता यूं ही मसलों में
शाम मुरझायी सी झगड़ों से बेहतर कफ्न होती

रौंदने वाले को पता भी नहीं चलता
और मुझे अन्दर घुटन होती
जिस्म का जनाजा निकलता
मगर जज़्बात कफ्न में लिपटे दफ्न होती

उस कब्र पर मेरे अल्फ़ाज़ गुंगे से होते
पराये लोग बहरे और अपने ज़रा अंधे से होते
मैं दफ्न हूं समझके बेहिसाब बातें होती
कुछ लोगों की बदनियती मजाले होती

कुछ मासूम कुछ खौफनाक शातिर होते
बातें मेरी और जज़्बात उनके होते
होती एक जगह जो मुझसे जुड़ी होती
काश मैं बेगैरत किसी एक पर तो नैमत साबित हुई होती

- A..superwoman writing'$

-


Show more
216 likes · 28 comments · 1 share
UTKARSH KRISHNA 12 NOV AT 7:06

जिन्दगी सख्त गुजरी मुश्किल इम्तिहानों में हम भी बिना तैयारी के मजबूती से लड़ते गए
अब हिसाब ही ऐसा जो हमारे हिस्से में आया कि आंखों में अश्क भी बेहिसाब उमड़ते गए
ना ही वक्त था साथ ना ही हम थे पास फिर भी कुछ था जिसके सहारे हम आगे बढ़ते गए
जिन्दगी सख्त गुजरी मुश्किल इम्तिहानों में हम भी बिना तैयारी के मजबूती से लड़ते गए

-


Show more
324 likes · 38 comments · 4 shares
UTKARSH KRISHNA 26 OCT AT 12:31

इस बार मिट्टी के दीपक अपने पक्के मकानों में भी जला लेना
कुछ इसी बहाने कच्ची बस्ती में रहने वालों संग दिवाली मना लेना...

-


Show more
409 likes · 46 comments · 1 share
UTKARSH KRISHNA 8 OCT AT 9:00

वो हमारे हो चुके हैं पर फिर भी हमारे होना नहीं चाहते हैं
शायद उन्हें बहुत जरूरी है हम इसलिए हमें खोना नहीं चाहते हैं..

-


Show more
467 likes · 51 comments · 8 shares
UTKARSH KRISHNA 22 SEP AT 9:56

हमारी मोहब्बत, मां बाप की इज्जत पर ना लगे कोई दाग जिससे
उस थोड़ी तकलीफ़ भरी जिंदगी को जीने में मुझे नुकसान नहीं है
रूह के मिलने से बना रिश्ता तो किसी और बंधन की जरूरत नहीं
ऐसे हालात में खुद का टुटना फिर भी ना बिखरना आसान नहीं है

-


Show more
284 likes · 25 comments · 2 shares
UTKARSH KRISHNA 14 SEP AT 16:16

जिन्दगी के रहगुज़र में सिर्फ खुशियां ढूंढोगे तो गम के गर्द ही करीब मिलेंगे
रिश्तों के आहें सर्द में उम्मीदें कम रखो तो वो रिश्ते तुम्हें तुम्हारे करीब लगेंगे

-


Show more
421 likes · 57 comments · 5 shares
UTKARSH KRISHNA 29 AUG AT 11:32

नहीं मिलता ज़मीर बिक जाने के बाद ना ही मिलती ज़मीन ये कर लो यक़ीन
वो सब कुछ बना रहा दे रहा सिवाय जमीन और ज़मीर खो के पाने के मौके हसीन

-


Show more
479 likes · 53 comments · 2 shares
UTKARSH KRISHNA 13 AUG AT 20:57

💞💞

In this past year
Something changed
Some remained same

Sometimes we sacrificed
Sometimes we compromised
Sometimes we fought
Most times we loved

But this past year
Taught me the
Actual form of love...❤️

-


323 likes · 29 comments · 3 shares
UTKARSH KRISHNA 11 AUG AT 10:58

ऐसी कश्ती में नौका हम अपनी चलाते हैं ना हक में हवाएं हैं ना ही कर पाते हैं
अलग ही मज़ा है इस जर्जर सफर का जिंदगी जी नहीं पाते हैं बस काट ले‌ जातें हैं

-


Show more
559 likes · 83 comments · 3 shares

Fetching UTKARSH KRISHNA Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App