The_unreadable_ writer   (दिव्यांशु गुप्ता 'दिव्य')
613 Followers · 5 Following

The_unreadable_ writer YESTERDAY AT 9:15

अपनों का न मिलता साथ पराए काम आते है
जिन्दगी के मायने ही हमें अनुभव सिखाते है
अपनों को अपनों की जान से बड़ा लगता है काम
पराए एक आवाज पर दौड़कर साथ आते है

-


10 likes · 1 share
The_unreadable_ writer 8 OCT AT 13:31

रावण जैसा महाज्ञानी मिलता नहीं है आज
उसके जैसा बलशाली मिलता नहीं है आज
लेकिन महाबलशाली होकर भी वो हार गया
रावण को बस उसका अहंकार ही तो मार गया

किसी से न हारने का अहंकार था उसको
भूत और भविष्य का ज्ञान का था उसको
तभी शायद राम से वो पूरी लंका को तार गया
रावण को बस उसका अहंकार ही तो मार गया

बहन की खातिर काल से भी लड़ा था वो
बेटों की मौत पर भी व्याकल न हुआ था वो
अपनी जिद के चक्कर में लंका को हार गया
रावण को बस उसका अहंकार ही तो मार गया

बाली से भी अहंकार में एक बार लड़ा था वो
जीत की आस में आगे को तेजी से बढ़ा था वो
बालि की कांख में दबकर उससे भी हार गया
रावण को बस उसका अहंकार ही तो मार गया

दिव्य इस जहां को अहंकार की न जरूरत है
एक साथ मिल-जुलकर जीने की जरूरत है
अहंकार के चक्कर में पता नहीं मिलता है क्या
अहंकार छोड़ कर सादगी की जरूरत है

#विजयादशमी_पर्व_की_हार्दिक_शुभकामनाएं

-


16 likes · 2 shares

भारत देश की अविरल शान थे तुम बापू
अहिंसावादियो के तो मान थे तुम बापू
सत्य की राह पर चलने को बोला हम सबको
अहिंसा के प्रचारक सच में महान थे तुम बापू

#जन्मतिथि_पर_नमन

-


9 likes · 2 shares
The_unreadable_ writer 30 SEP AT 10:07

मां तेरे नवरात्रे का हर दिन मतवाला है
हर हिम्मत हारे वाले को हिम्मत देने वाला है
द्वितीय दिवस मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करके
हर कोई आज मां को मनाने वाला है

#जय_माता_दी

-


15 likes · 1 share
The_unreadable_ writer 29 SEP AT 9:40

मां तेरे नवरात्रों की आयी पावन घड़ी है
पूरी दुनिया तेरे दर्शन को लाइन में खड़ी है
मां मुझे भी कर दे तेरे पास आने लायक
मां मुझको तेरे दर्शनों की बहुत ज्यादा पड़ी है

#नवरात्रि_की_हार्दिक_शुभकामनाएं

-


9 likes · 2 shares
The_unreadable_ writer 28 SEP AT 11:38

देश को आजाद भगत सिंह ने कराया था
आजादी के लिए प्राणों को लगाया था
साथ दिया था पूरे भारत ने उनका एक साथ
अंग्रेजो को छठी का दूध याद दिलाया था
#112वीं_जयंती_पर_नमन

-


Show more
17 likes · 1 comments
The_unreadable_ writer 28 SEP AT 11:23

देश को आजाद भगत सिंह ने कराया था
आजादी के लिए प्राणों को लगाया था
साथ दिया था पूरे भारत ने उनका एक साथ
अंग्रेजो को छठी का दूध याद दिलाया था
#112वीं_जयंती_पर_नमन

-


10 likes · 1 share
The_unreadable_ writer 27 SEP AT 12:34

दुनिया तो हो रही बिल्कुल ही मुफ्तखोर है
घोटालों के चर्चे आजकल तो चारों ओर है
चौकीदार चोर कहने वाले सब कहां गए
बोल लो अब ये भी कि चिदंबरम चोर है

-


5 likes · 2 comments
The_unreadable_ writer 27 SEP AT 12:20

देश की खातिर जिन्होने दी थी अपनी जान
निभाई थी देश की आजादी की जिसने आन
असेम्बली में बम फेंक के नानी याद दिलाई
झूले थे फांसी पर तब दिल में अब भी है सम्मान

-


13 likes · 1 share
The_unreadable_ writer 27 SEP AT 10:48

मां बोली बेटे से सरहद पर गोलीबारी होती है
सेना की जिद छोड़ दे बेटा चिंता मुझको होती है

करले इसके अलावा कोई भी नौकरी तू बेटा
तेरे बिना मेरी जिंदगी बिन अस्तित्व की होती है

बेटा बोला मां मै तो सेना में ही जाऊंगा
हर सैनिक की माई क्या ऐसे ही तो रोती है

अगर ऐसा सोच ले भारत मां का हर बेटा
तब तो अपनी मां दुश्मन के साए में होती है

नौकरी सभी होती है भारत मां की ही सेवा को
सारी नौकरी इस सेवा के आगे छोटी होती है

मां समझो तुम अपने लाडले दिव्य की मंशा को
दिव्य की मंशा सीमा पार तिरंगा फहराने की होती है

-


6 likes · 1 share

Fetching The_unreadable_ writer Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App