Switty Singh   (Demira)
1.9k Followers · 14 Following

Jhalli
🎂25th june
Joined 30 June 2018


Jhalli
🎂25th june
Joined 30 June 2018
Switty Singh 13 MAY AT 8:51

थोड़ी सी तो खुद्दारी लाजमी थी,
उसने कभी अपना नहीं समझा,
तो उम्मीद हमने भी छोड़ दी !!

-


24 likes · 1 share
Switty Singh 8 MAY AT 11:41

हमेशा उन लोगों के सम्पर्क में रहें,
जो आपका दिल दुखाते हैं,
उन लोगों की company हमें अकेले में भी खुश रहना सिखाती है, वो लोग हमें सिखाते हैं कि खुश रहने के लिये कभी किसी के ऊपर
depend नहीं रहना चाहिए !!

-


24 likes · 2 comments · 2 shares
Switty Singh 4 MAY AT 17:12

कुछ लोग ऐसे पूछते हैं हाल मेरा,
जैसे उन्हें बस मेरे मरने का इंतजार हो!! ❤️

-


28 likes · 4 comments · 1 share
Switty Singh 29 APR AT 21:17

आज घण्टों निहारा तेरी तस्वीर को मैंने,
ताज्जुब की बात ये है,
तेरी आँखों में आज भी, मैंने मेरा चेहरा नहीं देखा !!

-


21 likes · 1 share
Switty Singh 29 APR AT 11:55

दुश्मन सारा जहाँ सूना घर लगता है,
साँसों पर भी मानो कर लगता है,
लड़ लेती हूँ हर परेशानी से यूँ तो शेरनी की तरह,
दिखे ना मुस्कुराता हुआ चेहरा माँ का,
तो जरा से अँधेरे से भी मुझे डर लगता है❤️

-


23 likes · 3 comments · 2 shares
Switty Singh 21 APR AT 16:29

अपनी ही बाहों में सर रखकर रोते हैं आजकल,
ना जाने लोगो को कौन सा बैर है मुझसे,
जो मुस्कुराने भी नहीं देते !!!

-


32 likes · 2 shares
Switty Singh 14 APR AT 17:13

आज मायूसी देखी थी मैंने उसके चेहरे पर
जो कभी मेरे बिना भी शौक से मुस्कुराया करता था
आज इंतजार था मेरे लिये बातों में उसकी
जो कभी बात ना करने के लिये बहाने दिया करता था
आज नजरें चुरा रहा था वो शख्स मुझसे
जो कभी नजरों से मुझे डराया करता था
आज देखी मैंने उसकी आँखों में मोहब्बत अपने लिये
जो कभी मुझे बेगैरत कहके भगाया करता था
आज सुकून सा मिला देखके तड़प उसकी आँखों में अपने लिये
वो जो हर पल हर घड़ी कभी मुझे तड़पाया करता था !!

-


27 likes · 3 comments · 1 share
Switty Singh 14 APR AT 17:09

यूँ मेरा बोलते बोलते अचानक चुप हो जाना
क्या मेरी खामोशी की सिसकियाँ तुम्हें सुनाई नहीं देती !!

-


26 likes · 1 share
Switty Singh 14 APR AT 12:09

लगी रहूँ तेरे सीने से जी भरके रोऊँ
मौका मिला है तो क्यूँ ना अधूरे ख्वाबों में खोऊँ
रोएं,तड़पे, बिल्लायें सब मुझे जगाने को
खुले ना आँख कभी ऐसी नींद में सोऊँ
ऐरा गैरा आके भी मुझपर चिल्लाता है
बिना खता के क्यूँ कोई इतना झल्लाता है
खुदा करे कभी ना मैं अपना आपा खोऊँ
फरमान है मेरे अपनों का कभी सपने ना सजोऊँ !!

-


14 likes · 2 comments · 1 share
Switty Singh 10 APR AT 12:48

वजह तो नहीं मालूम, मुझे मेरी उदासियों की
बस राब्ता सा हो गया है, खामोशियों से आजकल !!

-


30 likes · 2 comments · 1 share

Fetching Switty Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App