Siddhi Verma   (Siddhu)
1.3k Followers · 388 Following

read more
Joined 5 June 2019


read more
Joined 5 June 2019
13 MAY 2021 AT 20:57

उलझनें .......

क्या करूँ क्या ना करूँ कुछ समझ नहीं आ रहा

कभी अपने पराय तो कभी पराय अपने बन जा रहे है

जिन्दगी के बीते लम्हो की यादें कभी खट्टे तो कभी मिठे बन जा रहे

इस उलझी सी जिन्दगी में कुछ समझ नहीं आ रहा

रिश्तों की डोर बस खुली सी नजर आ रही है

क्या करूँ क्या ना करूँ कुछ समझ नहीं आ रहा ।।।




-


30 APR 2021 AT 8:38

मेरे एहसास हो तुम
मेरे जज्बात हो तुम
मेरे चाँदनी के चाँद हो तुम
यू तो हजारों से मिले होंगे हम
पर मेरी दुनिया हो तुम ।।

-


21 SEP 2020 AT 22:40

बस बहुत हुआ अब
नहीं लिखनी अब कोई कविता कोई दोहा

बस बहुत हुआ अब
नहीं कहना वो कहानी वो किस्से
नहीं बाँटने काली रातों के वो अनछुए हिस्से

नहीं दिखानी वो खारी सी नजर
और फिर नहीं जाना कड़वी यादों के शहर.....

बस बहुत हुआ अब।।।।

-


18 SEP 2020 AT 10:54

हसरतें तो बहुत सी थी जिंदगी से
पर दिल में ही दबी रह गयी

कहना हम तो बहुत कुछ चाहते थें
आपसे पर क्या करें कुछ बातें अनकहीं
ही रह गयी

कोशिश तो बहुत की हमनें मुस्कुराने की
पर फिर भी ना जाने क्यूँ इन आँखों में
कुछ नमीं सी रह गयी

शायद मेरी ही कोशिशों में कुछ
कमी सी रह गयी

-


14 SEP 2020 AT 14:05

हिन्दी हमारी मातृभाषा ही नहीं
हम भारतीयों की आन वान शान हैं

हम से हिन्दी नहीं हिन्दी से हम
पहचाने जाते है
हम भारतीयों का यही तो सम्मान है ।।


-


10 SEP 2020 AT 0:48

चलो आज मैं एक नन्ही परी से मिलाती हूँ
इसको जन्मदिन की ढेरों बधाईयाँ दिलाती हूँ

वैसे तो मेरी छोटी बहन है पर
मेरी दादी अम्मा से कम नही है

नौटंकी तो इसके हजारों है पर
खाने में फेवरट पनीर और रसगुल्ले है
चॉकलेट की तो पूरी दिवानी है

कभी मेरा पढ़ने का मन ना करे तो
खुद ही मेरी कापी बुक लेकर दे जाती है

कभी झगड़ती है कभी रूठती है
मेरे रूठने से खुद ही गुस्सा हो जाती है पर
मेरे रोने पर सबसे पहले वही आँसू पोछने आती है

हम दोनों लड़ते है झगड़ते है पर
फिर भी एक दूसरे की जान हैं ।।
( Siddhu)




-


5 SEP 2020 AT 6:16

हमारे कपिल सर जी कुछ ऐसे है
एक अच्छे अध्यापक होने का हुनर रखते है

अपनी हर पोस्ट पर धुआँ उड़ते है
लिखते ही इतना कमाल है

इन्हें सरल सीधा बन्दा समझने की गलती
ना करना
हमारे सर जी tit for tat की नीति रखते है

अपने खुले अंदाज से सबका दिल जीत लेते है
अपनापन का अलग ही अंदाज रखते है

अध्यापक के साथ शायर भी कमाल के है
अपनी हर लेखनी में बेहतरीन जज्बात रखते है

हमारे कपिल सर जी रश्मिका के दीवाने है
कुछ ऐसा ही सबसे अलग अंदाज रखते है

कॉमर्स के अध्यापक है अपना डाटा बेहतरीन रखते है
अपने स्टूडेंट को उनकी मंजिल तक पहुँचाने का
जज्बा बेमिसाल रखते है ।।।

-


3 SEP 2020 AT 17:29

शाम की चाय के साथ
तुम्हारा साथ मिल जाए
तो क्या कहना ....

डूबती नाव को किनारा मिल
जाय तो क्या कहना ।।।

-


2 SEP 2020 AT 20:32

बेरोजगारो का सुख और चैन खो गया है
अरे देखो यारो पबजी बैन हो गया है
घर वालों को सुकुन मिल गया है।😂😂

-


1 SEP 2020 AT 17:54

याददाश्त का कमजोर होना भी
इतनी भी बुरी बात नहीं
बैचैन रहते है वो लोग
जिन्हे हर बात याद रहती है ।।

-


Fetching Siddhi Verma Quotes