Shrey Saxena   (रहनुमा)
8.0k Followers · 315 Following

read more
Joined 27 November 2016


read more
Joined 27 November 2016
Shrey Saxena 13 OCT AT 1:12

ना मिलने की थी कसम, क्या करामात हो गई,
राहों को ही थी तलब और मुलाकात हो गई।

हर बागान में था शजर जो वही काम दे गया,
और वो नीम का एक लिबास दे परीजात हो गई।

-


94 likes · 6 comments
Shrey Saxena 9 OCT AT 23:45

वो समझता है तेरी हर खामोशी को बखूबी, रे खुशनसीब,
जाने उसे समझने का भरोसा है या ना समझ पाने का डर।

-


90 likes · 2 comments
Shrey Saxena 7 OCT AT 16:48

ना मिलने की थी कसम, क्या करामात हो गई,
राहों को ही थी तलब और मुलाकात हो गई।

-


Show more
109 likes · 10 comments · 1 share
Shrey Saxena 1 OCT AT 1:25

आती - जाती रहती हैं आवाज़ें हर वक़्त,
और वर्चस्व सन्नाटे का ख़त्म नहीं होता।

-


567 likes · 16 comments · 7 shares
Shrey Saxena 28 SEP AT 23:34

But I guess it is for the best that you aren't.

(Caption)

-


Show more
58 likes · 3 comments · 1 share
Shrey Saxena 23 SEP AT 2:09

सैर करती हुई फितरत एक दिन गुम हो गई थी रंगों में,
परछाइयों से डरकर भी ज़िंदगियां गुजरी हैं लोगों की।

-


108 likes · 7 comments · 2 shares
Shrey Saxena 23 SEP AT 2:00

तुम्हारी - मेरी ज़िन्दगी जो ऐसे काठ - पत्ती हो जाए,
दिन देहलीज़ पर ठहरे और शाम शामियाने में उतर आए।

-


86 likes · 6 comments
Shrey Saxena 18 SEP AT 2:28

चोट दे जाता है तुम्हारा आंखें तरेर लेना,
हमको समेट कर यूं ख़ुद को बिखेर लेना।

-


109 likes · 6 comments · 4 shares
Shrey Saxena 10 SEP AT 12:13

Pleasure isn't the same as
The habit you've of blowing a puff.

(Caption)

-


Show more
79 likes · 4 comments · 2 shares
Shrey Saxena 8 SEP AT 2:49

// Lost & found //

Lost some blood
In containment.
For it to live in
Someone else.

-


97 likes · 1 comments

Fetching Shrey Saxena Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App