Shrey Saxena   (रहनुमा)
9.9k Followers · 276 Following

read more
Joined 27 November 2016


read more
Joined 27 November 2016
23 SEP AT 2:31

भारी से शब्द हैं,
उनसे भारी तुम्हारी अपेक्षाएं।
कद्र उनकी,
इच्छा मेरी।

लिखता हूँ, लिखने दो।

-


21 SEP AT 0:09

अक्सर चुपके से तस्वीर तुम्हारी मोबाइल में देख लेता हूँ,
मैं मुस्कुरा लेता हूँ और खुशी बंट जाती है।

-


5 SEP AT 12:14

Gifting three premium subscriptions.
Edit: Three gifted.

Please comment if you want one with a reason why you want it. Will gift subscription on my personal discretion.

Thanks!

-


26 AUG AT 0:32

I realised lately that I get tired of listening to excessive cribbing. With the most sung "last one and a half year", cribbing kind of comes along with it; much like your 'buy 2 get 1 free' offer. Funny thing about these offers is that most people buy without having a need. So, instead of saving the money of one, they end up paying for two unnecessarily.

And this offer also, feels like life. Instead of saving yourself, you end up costing yourself twice. One, the incident, two, the thoughts as a part of effect.

Dreams have a way of curing you. It has energies to encase your sleep with. While best naps are dreamless. What cures you are the dreams you see with your eyes open. What you do for your dream is something that ensures good sleep.

-


19 AUG AT 0:10

// तबीयत //

पिछले डेढ़ साल में सबसे अधिक उपयोग हुए इस शब्द ने जाने कितने परिवारों को जोड़ा। कभी सुख में, कभी दुःख में। तबीयत हरी हो जाना - एक मुहावरा; बचपन में टीचर ने पढ़ाया। मैंने कई जगह उपयोग भी किया। समझ में जल्दी आता है।
तुम अस्पताल में थे और तुम्हारे रिश्तेदार कोविड के खतरे से बाहर आ गए। तबीयत हरी हो गई होगी। तुम्हारा खुद का टेस्ट नेगेटिव आया तो नीली, लाल, पीली भी हुई होगी। इस बीच अगर कहीं तुम्हारी तनख्वाह बढ़ गई हो बात ही क्या।

पर क्या ऐसा हुआ कि बरसों बाद तुम इतने महीने घर रहे और किसी एक दिन तारों को रात में देर तक निहारा?
और उन तारों में से एक तारा शायद तुम्हारा हाथ थामे हुए हो। तबीयत के मायने कई रंगों में हैं। पर आप हरी ही रखें।

-


10 JUL AT 19:53

स्टीमर

(कैप्शन पढ़ें)

-


27 JUN AT 20:46

// Happiness //

A raindrop that was
searching for
it's reflection
in your eyes
as it slid across the
window pane,

Smiled.

-


27 JUN AT 10:52

तुम्हें देखे जाने आज कितनी मुद्दत हुई,
कि जितनी मुद्दत हुई, उतनी शिद्दत हुई।

-


22 JUN AT 22:47

जब नाक चढ़ाए
ही दिन बीतता रहता है,

तो हवा में थोड़ी
मिट्टी की खुशबू
भर लिया करो।

-


25 MAY AT 0:32

// Days //

The durations of time
Between two of your sleeps
That you stash
Sometimes in hope,
Other times in despair,
A few times in excitement,
And then in disappointment.
Or you could simply

Develop a hobby.

-


Fetching Shrey Saxena Quotes