shraddha pawar   (sp)
7.8k Followers · 22 Following

read more
Joined 31 January 2017


read more
Joined 31 January 2017
9 MAY AT 20:52

When the world
endlessly demanded me
to burn the bridges
she taught me
it is better
to let the gasoline
stroke it on the edge
and watch it
turn into ashes
even a God once manifested
why there's always
more than one way
to cross the water

-


1 MAY AT 21:06

I have clogged up
this ashtray
with the remians of
immortal love
and longing.
Even I don't know why
anyone would ever breathe
in a graveyard.

-


26 APR AT 0:06

I have seen death
sharpen its beak
on the deserted land
and life hovering over
the starved bones
becoming one with the wind.
If bones and thirst
can persist this abandoned space
I too, could dig out
a pulse through these succulents
as if they might dive beneath the water,
and re-emerge breaths
into mine.
In desert,
the heart itself turns dense
when Sun heats the sand -
which in turn - heats the air,
just above it.

In this way, who was I
to misinterpret thirst, for love
and mortality,
for an opportunity to survive?
What are you
but a mirage
that couldn't reflect itself,
no matter how deep I dived
into death
to dig out life; spine by spine?

/
I have seen your claws
thawing,
one with the wind.

-


24 APR AT 21:12

My poetry
will neither feel the Sun
on its face
nor the Moon
on its skin
the only life
these words have
is in the black hole
of your eternal memories

-


23 APR AT 22:58

मै अब वैसी नहीं रही
जैसे तुमने छोड़ा था| 
तुम्हारा आँखों के मूंद जाने तक
मुझे शिद्दत से देखते रहना,
और मेरा बिस्तर की सिलवटों में
यूँ ही रह जाना; 

हर कहानी के इख़्तिताम पर
किसी अल्पविराम का आग़ाज़
फिर उसी क़ब्र पर लौटा देता है,
जहां  तुमने अनगिनत किताबों को
अधूरा पढ़ कर दफ़ना दिया था|  

तुम्हारी आँखों के मूंदने से पहले
मेरे ज़िंदा रहने के संघर्ष में
कुछ काग़ज़ गर्द में सिमट गए थे; 

जो तुम्हारे बिस्तर से कई दूर
नई कहानियाँ लिख रहे है, 

पढ़ लेना किसी दिन| 


-


18 APR AT 20:55

"वक़्त और मौसम के साथ बदलना मुनासिब है"
कितनी सरलता से कभी तुमने कहा था|
मैंने वह सारे बदलाव अपनी मुट्ठी में दबोच लिए
जैसे किसी बच्चे को
अपने हिस्से की टॉफ़ी खो देने का डर हो|
क्यूंकि जो छूट गए थे पहले भी - वक़्त,
के ना जाने कितने सिरे
आज ठहर गए है|
उन लम्हों को किसी और तदबीर से
जी लेने की आशा में
क्या तुमने भी अपनी मुट्ठी दबोच ली थी -


इस मौसम के बदलने से ठीक पहले?

-


19 MAR AT 21:32

होगा कुछ यूँ ही
के मेरी ख़ुश्क स्याही से
तुम्हें एक ख़त लिखा जाएगा
सुना है सोच की सरहद के उस किनारे
एक लम्हे में वक़्त
अपनी ही हयात खो देता है
मेरे लफ्ज़ लिफ़ाफ़े में नहीं
समंदर की लहरों में बहेंगे
एक नाव, बिना ना-ख़ुदा के
तकदीर की गहराइयों को चीरते-फाड़ते,
और अब्र की धज्जियाँ उड़ाते हुए
तुम भी
कुछ लफ्ज़ लिखना -
जवाबी,
जो तशरीह के खोज में
ठेल देंगे खुदको
बेवक़्त, बेनाम, या सिर्फ बेजान से
जैसे मेरी रूह  
जब सरहद के उस किनारे तक
नहीं पहुंच पाती मेरी सोच|

विश्वविख्यात कवि रवींद्रनाथ टैगोर ने कहा था
"सिर्फ खड़े होकर पानी देखने से
आप समंदर पार नहीं कर सकते"
अगर यही सदाक़त है
तो वक़्त के साथ
मेरी ख़ुश्क स्याही भी खो चुकी है;  
तुम तक पोहोचे तो बहा देना उन लफ्जों पे
जो तुमने अभी नहीं लिखे|

-


25 FEB AT 0:20


No matter how deep someone buries it,
I cannot stop pointing
to what's still there.
The nightmares journeying
before the grief,
to smile & caress
its uncultivated cheeks.
A shrieking silence wafting across
the last exhale
every speck within darkens
and then fumes all at once
like a ceased dream defers
to the first sunrays.

An euology left unread
at the gates of a graveyard,
echoing the variances wandering
between mapped paths and fate
sculpted,
in an unfamiliar direction.

Sometimes I believe
all the archaeologists
are pointless.

On days like these
I too, could root out a heart
from my thudding chest
but do any of you know
how to assemble the memories
without concealing the soil?

A smile and the last caress
is the only evidance that remains
washing the dirt
pointing
towards another growing seed.

-


12 FEB AT 21:27

I have seen death
sharpen its beak
on the deserted land
and life hovering over
the starved bones
becoming one with the wind.
If bones and thirst
can persist this abandoned space
I too, could dig out
a pulse through these succulents
as if they might dive
beneath the water,
and re-emerge breathes
into mine.
In desert,
the heart itself turns dense
when Sun heats the sand -
which in turn - heats the air,
just above it.

In this way, who was I
to misinterpret thirst, for love
and mortality,
for an opportunity to survive?
What are you
but a mirage
that couldn't reflect itself,
no matter how deep I dived
into death
to dig out life; spine by spine?

/
I have seen your beak
thawing,
one with the wind.

-


28 DEC 2020 AT 22:44

मन के भीतर रंज सी उठ आयी
यह सोच कर की
हर चीज़ इतनी बिखरी हुई क्यों है?

ज़िद थी, 
कब्रिस्तान से दिखने वाले इस मक़ाम को
फिर घर जैसा बनाया जाए|  

दीवारों की गर्द हटाते वक़्त, 
अनगिनत दरारें दिखने लगी
और उनको खुरचने के प्रयास में,  
अंधेरे कोनों से
असहज़ कर देने वाले किस्से|

अपने ही वजूद की नींव डालते हुए
समझा ही नहीं, 
के घर कितना बेबुनियाद होता जा रहा है|

कितनी छिछली है हमारी रूह, 
कितना कमज़ोर होता है, हमारा 'मै'|  

किसी रोज़ इस कब्रिस्तान की
दरारों से झांक कर देखा
तो एक पूरा दश्त इंतज़ार कर रहा था, 
बिखरते हुए मक़ाम से
गर्द को पूरी तरह मिटाने का| 

लेकिन हमारी ही ज़िद थी,
असहज कर देने वाले किस्सों से
अपना घर बनाने की|
   
उसके बरगद और चील - 
हर बढ़ती दरार के साथ

हँसते होंगे हम पर|

-


Fetching shraddha pawar Quotes