113
Quotes
3.3k
Followers
56
Following

Sankalp Raj Tripathi (संकल्प)

Writer| Director| Singer| Former Creative Director- YourQuote| Curator- ReelLife '18 A Short Film Festival
Sankalp Raj Tripathi 8 FEB AT 18:20

शब्दों को गंभीरता से लेना,
बहुत कम बचे हैं जो बात के पक्के है।



-


शब्द

123 likes · 11 comments · 2 shares
Sankalp Raj Tripathi 7 FEB AT 22:06

समय कौन है?
और किसका है?
आता तब है जब बहुत कुछ पीछे छूट गया होता है।
समय ही लोगों को, रिश्तों को लील जाता है।
समय महत्वाकांक्षा से जलता है।
सपनो में समय नहीं होता, पर सपने देखने वालों का होता है।

समय सुरंग है।
समय सरकार है।
समय सुराग है।
समय ही राग है।

समय तमाशा है।
समय ही आशा है।
समय दरिया है।
समय ही आग है।

समय ही तकाज़ा है।
समय ही इफरात है।
जो कल तुम्हारा था।
वो मेरा आज है।
समय था, समय है, समय ही आगाज़ है।
तुम मैं सब बस भीड़ हैं -
समय ही समाज है।

-


समय

78 likes · 12 comments · 2 shares
Sankalp Raj Tripathi 6 FEB AT 23:13

A writer never retires.
He only reacts.
Reacts to everything he has to go through to tell a story,
By writing another story.

-


Writer's Retirement

249 likes · 6 comments · 3 shares
Sankalp Raj Tripathi 26 JAN AT 2:03

बहुत जतन के बाद ये वतन बना है,
इसे अपने भेस के साथ मत बदलो।
ये था, ये है, ये रहेगा ,
लाख कोशिश चाहो तो करलो-
इसे तोड़ने की,
कानून को मरोड़ने की,
धर्म को निचोड़ने की,
ईमान को झकझोरने की।
ये गणतंत्र मजबूत बहुत है,
नहीं कर पाओगे जो बेनियत करना चाहते हो।
तुम खप जाओगे, हम खप जाएंगे।
पर ये हिंदुस्तान है,
हर शाम कुछ ना कुछ बयां कर जाता है।
इसको नया बनाना नहीं पड़ता,
ये हर सुबह खुद ही नया हो जाता है।

-


हिंदुस्तान

309 likes · 9 comments · 16 shares
Sankalp Raj Tripathi 17 JAN AT 3:00


My beautiful journey with YourQuote as 'Creative Director' has come to an end. As the Creative Director of the company I tried to fulfil my duties with complete commitment and honesty. You all are part of my YourQuote family. I'm either found in films or in the hearts and so I assure you that we will keep meeting. My relationship with YourQuote is everlasting. It's a relationship that stands on the strongest foundation of emotions, love, democracy and compassion. I shall always be thankful to each and everyone of you for believing in, and appreciating my efforts. I will share some good news with all of you very soon.

-


YourQuote and I

#yqbaba

106 likes · 6 comments · 2 shares
Sankalp Raj Tripathi 17 JAN AT 2:59

YourQuote के साथ बतौर Creative Director मेरा सुंदर सफ़र अब थम गया है। Creative Director के तौर पर जो कर सकता था, पूरी ईमानदारी और लगन के साथ किया। मेरा YourQuote परिवार आप सबसे हैं। मैं फिल्मों और दिलों में ही मिलता हूं। मिलते रहेंगे। YourQuote के साथ रिश्ता बरकरार है। रिश्ता जज़्बात का है। दिल का है। दोस्ती का है। जहमूरियत का है। वो रहेगा। आप सबने हमेशा मेरी कोशिशों पर भरोसा दिखाया और उन्हें सराहा, उसके लिए आप सभी का बहुत शुक्रिया। जल्दी ही कुछ सुखद समाचार आप सबके साथ साझा करूंगा

-


YourQuote और मैं

#yqbaba

85 likes · 3 comments · 2 shares
Sankalp Raj Tripathi 12 JAN AT 14:57

Yes, I'm a writer. But definitely not the one who would make up and write his struggle story. There are amazing people in this city for whom the biggest struggle after getting initial success is- How to write the best struggle story!

-


Writer and Struggle

463 likes · 4 comments · 3 shares
Sankalp Raj Tripathi 6 JAN AT 1:58

किताबों के साथ तस्वीरें खिचाता नहीं हूं मैं।
और भी मोहब्बतें हैं मेरी जिन्हें दिल में खुद से ज़्यादा जगह दे चुका हूं।
अब कैसे कैद करवाऊं उन्हें तस्वीरों में अपने साथ -
जिनके घर में मैं बिना बताए रह चुका हूं।

-


किताबें, मैं और तस्वीरें

465 likes · 2 comments · 9 shares
Sankalp Raj Tripathi 5 JAN AT 1:45

एक लेखक का बुरा हाल तब नहीं होता जब वो बुरा लिखता है।
उसका बुरा हाल चाह कर भी ना लिख पाने पर होता है।
बुरा लिखकर तो खैर नींद ही नहीं आती है,
ना लिख पाने पर दिन दिन भर सोता है।
इसे लेखक का ब्लॉक ना समझिए -
ये एक लेखक के लिए शब्दों का डिप्रेशन होता है।
उफ़! शब्द!
उफ़! लेखक!
उफ़! लिखाई!

-


लेखक और शब्द

446 likes · 14 comments · 5 shares
Sankalp Raj Tripathi 1 JAN AT 13:47

तुम्हारा आना जाना लगा रहता है,
मेरा तुमसे नाराज़ होना, तुम्हे मनाना लगा रहता है,
उम्मीद खुद की तुमपे टिका देता हूं,
हर बार जब शुरू होते हो तो कुछ वादे खुद से कर लेता हूं।
जाते - जाते हर बार मुड़ कर पूछ जाते हो,
जब निभा नहीं सकते तो वादे क्यों करते जाते हो!
चलो इस बार कोई वादा नया नहीं करूंगा,
बस, हर कहानी पर तुम्हारी हर तारीख के साथ अपना दस्तखत करूंगा।

१.१.२०१९
1.1.2019



-


साल

417 likes · 13 comments · 9 shares

Fetching Sankalp Raj Tripathi Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App