yqtv
17
Quotes
11
Followers
29
Following

Sandeep Gaur

Sandeep Gaur 26 NOV AT 23:12

यादों की उन बरसातों में वो हल्की सी खिलकारीवां भी दफ़न सी होती चली गयी क्योंकि शायद कही न कही उसकी जिंदगी में हमारी नमौजदगी ही मुनासिब है ।।
फ़क्र यही सोच भर आती है आंखे अक्सर
वो कैसे बिछड़ कर मुझसे रोई नही अभी तक ।।
मेरा दिल से वो हमनसी गया नही अभी तक के
तदफीन में ताखीर मैं मरा नही अभी तक ।।
बड़ा मुश्किल होता है खुद को समझना कि वापस लौट कर उसकी जिंदगी में न है जाना ।।
अंत में बस कुछ अल्फाज ही तो है जो निछावर है दिलो-जान से ---
के आये कोई या जाये कोई छोड़ कर मुझे सदमा नही होता इश्क़ मजहब नही है मेरी जान इश्क़ का कोई कलमा नही होता ।।

-


3 likes
Sandeep Gaur 6 AUG AT 12:34

क्यों याद आ रहे हो तुम, बेशक़ दूर हो फिर भी पास आ रहे हो तुम ...
नही चाहता करु याद मैं तुम्हे ...
याद है मुझे वो पल जिन भरी निगाहों से तुमने मुझे देखा था बस वही से मुझे कुछ कुछ होने लगा था ...
याद है मुझे वो लम्हा भी जब आखिरी बार तुमको देखा था बस फर्क इतना था की तुमने जाते वक्त मुड़ कर न देखा था
तुमसे लड़ने का एक अलग ही जुनून था साधारण सी जिंदगी में कहा छुपा वो सुकून था ...
उन यादों की गहराईयों का बस एक लम्हा सा बन कर रह गया है जिनसे बस अब रिहाई चाहता हूँ ...
बस अब वापस अपनी जिंदगी में लौट जाना चाहता हूँ ।।।

-


2 likes
Sandeep Gaur 16 JUN AT 0:45

ये जिंदगी भी कितनी अजीब है
न तो शुकून है
और न ही दिखती कोई राह है ...
फिर भी ...

सुना है जिनके पास शुकून होता है उनके पास वक़्त नही होता
शायद इसीलिए आज भी लोगो के साथ वक़्त बाट रहा हूँ मै ...

-


Sandeep Gaur 11 MAY AT 2:17

Haseen Thi Ghadiyan , Haseen The Lamhe
Har Wo Lamha Un Lamho Se Judkar Reh Gya
Wo Waqt Si Badalti Chali Gyi
Or Mai Lamho Sa Gujarta Chla Gya

-


Sandeep Gaur 25 FEB AT 2:00

बहते आशिकों की जुबान नहीं होती ...
लफ़्ज़ों में मोहब्बत बयां नही होती ...
मिली हैं दोस्ती इसे निभाना है ...
किस्मत यू हमेशा मेहरबान नही होती .....

-


4 likes
Sandeep Gaur 15 FEB AT 14:19

na jane kaisi galti ho gyi jane anjane me ,
baat krte to suljha lete us masale ko ,
unko bhi talash thi aisi hi kuch baaton ka ,
shayad tabhi badha li thi dooriyaan mujhse ,
or unki khamoshi ne bhi mujhe majboor kr diya ,
Wo sath bitaye hue do pal bhool jane ko ...

-


Sandeep Gaur 14 FEB AT 9:17

शिव की ज्योति से नूर मिलता है,
सबके दिलों को सुरूर मिलता है;
जो भी जाता है भोले के द्वार,
कुछ न कुछ जरूर मिलता है
कालो के काल
जय महाकाल

-


Sandeep Gaur 11 FEB AT 13:20

ना कर वादा तुम मुझसे इस वादे के दिन ,
लगता है डर अब इन वादों को न पूरा कर पाने का ,
जो किया था वादा तुमने साथ निभाने का ,
फिर क्या ...
तुमने वादा-ऐ-वफ़ा ऐसा किनारा कर लिया ,
जो "हमारा" था उसको तुमने , "मेरा" और "तुम्हारा" कर लिया ।।।

-


Sandeep Gaur 10 FEB AT 14:03

मिट्टी हूँ मैं मिट्टी मर मिल जाऊंगा !
जिंदा हूँ आज , कल फिर से मर जाऊंगा !
कभी लकड़ियों के साथ जल जाऊंगा
तो कभी मिट्टी में मिल जाऊंगा !
फिर कहिंन मिलेगा दूसरा जन्म मरने के बाद ...
यही सृस्टि की रीत है !
मिट्टी हु मैं मिट्टी में मिल जाऊंगा !!!

-


Sandeep Gaur 9 FEB AT 11:11

intejar mujhe aaj ka nhi us kal ka rahega ...
dekhta hu mai , tu mujhse kab door rahega ...
hasil to mai tujhe karke
rahunga ...
buland hai mere hausle tujhe hasil
karne ko ...
bas abhi bhi us din ka mujhe besabri se intejar hai ...

-


1 likes

Fetching Sandeep Gaur Quotes