Sahil Bhardwaj  
15.9k Followers · 126 Following

read more
Joined 21 June 2017


read more
Joined 21 June 2017
Sahil Bhardwaj 5 JUL AT 19:15

मुझे शौक है लिखने का
पर मैं तुम्हें पढ़ना जानता हूँ

मेरी निगाहें दूर उस मंज़िल को ताकती है
पर मैं सफर में तुम्हें साथ लेना जाना चाहता हूँ

मुझे आदत है भूलने का
पर मैं तुम्हारी ख्वाहिशें जानता हूँ

मैंने सौदा किया है नींदों से
पर मैं ख्वाबों में सिर्फ तुम्हें देखना चाहता हूँ

मुझे जमीं पर रहना पसंद है
पर मैं तुम्हारे सपने पूरा करना जानता हूँ

मेरी जरूरतें मुझे धूप में भटकाती है
पर मैं तुम्हारी जुल्फों के छांव में रहना चाहता हूँ

मुझे शौक है नज़्में गढने का
पर मैं उन्हें तुम्हारे नाम करना भी जानता हूँ

-


Show more
166 likes · 93 comments
Sahil Bhardwaj 4 JUL AT 15:13




-


Show more
145 likes · 50 comments
Sahil Bhardwaj 2 JUL AT 12:35

जि़स्म से ज्यादा मैं रूह पे मरना चाहता हूँ
हां, मैं इश्क़ अब भी 90's वाला चाहता हूँ

व्हाट्सएप, फेसबुक से नहीं
ख़तों के जरिये प्रेम करना चाहता हूँ

मूझे बाबू शोना पसंद नहीं
तुम्हें अपनी प्रेयशी ही कहना चाहता हूँ

जब मैं मिलूँ तुमसे कहीं अचानक
तो अप्रतिम सी ख़ुशी तुम्हारे चेहरे पे देखना चाहता हूँ
 
तुम आओ कपड़े सुखाने छत पर
तो वहीं तुमसे चोरी चोरी मिलना चाहता हूँ

जो सबसे छुप के मुझसे प्रेम करें
मैं ऐसी महबूबा चाहता हूँ
 
हां, मैं आज भी मोहब्बत
वही पुराने जमाने वाला चाहता हूँ

-


Show more
258 likes · 137 comments · 1 share
Sahil Bhardwaj 27 JUN AT 11:42

तुम्हरे लबों की तलब
तलब ही नहीं मेरी चाहत है
उस चाहत में तलब है, और इश्क़ भी
ये इश्क़ मुझे करना है
तुम्हें देखना है बेलिबास, बेहिसाब
होना है मुझे संग तुम्हारे एक जिस्म एक जां..

तुम्हारी कहानी के सारे किस्सों में
तुम्हारे जिस्म के सारे हिस्सों में
होना मेरी जरुरत है
ये जरुरत मेरी तलब है, और इश्क़ भी
ये इश्क़ मुझे करना है
तुम्हें महसूस करना है बेलिबास, बेहिसाब
होना है मुझे संग तुम्हारे एक जिस्म एक जां..

खोना है मुझे तुम्हारी सांसों में
सोना है मुझे तुम्हारी बाहों में
तुम्हारी बाहों में ही
मिटती मेरी तलब है, और वहीं मुकम्मल है इश्क़ भी
ये इश्क़ मुझे करना है
तुम्हें छूना है बेलिबास, बेहिसाब
होना है मुझे संग तुम्हारे एक जिस्म एक जां..

-


Show more
241 likes · 69 comments · 1 share
Sahil Bhardwaj 26 JUN AT 9:44


उसके लिए जहन में इक आस जगा लिया जाए
हर शाम अब बस उसके नाम कर दिया जाए

उसके लिए आँखों में इक कशिश क़ैद कर लिया जाए
हर लम्हा अब बस उसके लिए जिया जाए

उसके लिए लबों पे इक प्यास जगा लिया जाए
हर जाम अब बस उसके नाम का पिया जाए

उसके लिए जुबां पे तारीफ़ें सजा लिया जाए
हर नज़्म अब बस उसके नाम लिखा जाए

उसके लिए दिल में मोहब्बत भर लिया जाए
हर ख्वा़ब अब बस उसके नाम का देखा जाए

उसके लिए ज़िन्दगी में उम्र तमाम उसका कर दिया जाए
हर पल अब बस उसके नाम कर दिया जाए

-


Show more
275 likes · 86 comments · 1 share
Sahil Bhardwaj 24 JUN AT 21:22

देखता हूँ जब भी कभी मैं चेहरा तुम्हारा
लबों पे मेरे, ख़ुशी छा जाती है
भूल जाता हूँ हर दर्द हर ज़ख्म
दिल में मेरे, सुकून भर आती है...

-


Show more
298 likes · 80 comments
Sahil Bhardwaj 21 JUN AT 19:47

-


Show more
338 likes · 93 comments
Sahil Bhardwaj 19 JUN AT 15:19

Dear komal, let me say
something on this special day
though we never met,
but friend, you are close to my heart.

I cherish those chats,
our conversations and talks
and how we knew each other
stayed connected, year before and after.

May your face light up with glee
I wish you never ever feel murky,
I pray God to be always by your side
I want you to
always lift up your head in pride.

My friend, on your birthday
all just I want to say is
this world is changing rapidly,
needs to live strongly
so keep smiling,
keep flourishing.

-


Show more
332 likes · 55 comments · 1 share
Sahil Bhardwaj 19 JUN AT 9:37

खयाल तो है कि अभी जीना है मुझे
भारत माँ का
सपूत होने का फ़र्ज़ अभी निभाना है मुझे
शहीद होना तो मेरा सौभाग्य है
पर ऐ मातृभूमि तेरा गौरव बढ़ाने को
अभी बहुत कुछ करना है मुझे..

-


Show more
406 likes · 117 comments
Sahil Bhardwaj 14 JUN AT 19:35

बेशक
तकलीफ बड़ी रही होगी ज़िन्दगी से
बेवजह
मौत को उसने थोड़े ही चुना होगा !

-


Show more
614 likes · 65 comments · 9 shares

Fetching Sahil Bhardwaj Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App