Sahani Baleshwar   (Sahani Baleshwar)
92.2k Followers · 1.0M Following

November 13 , Scorpion 🦂
Joined 20 June 2017


November 13 , Scorpion 🦂
Joined 20 June 2017
Sahani Baleshwar YESTERDAY AT 9:23

गुज़रा हुआ क़ल और मर चुका Love
कभी लौट कर नहीं आते हैं |

( Read in Caption )

-


Show more
926 likes · 52 comments · 6 shares
Sahani Baleshwar 2 APR AT 14:51

काश होती तु कोई किताब
तो रख लेता मैं तुझे अपने पास ,
तेरे हर एक पन्नों को
मैं पढ़ता बार-बार |

आंखें मेरी एक पल के लिए भी ना तुझसे हटती
चेहरे पर मुस्कुराहट मेरे
तेरे हर एक शब्द के साथ रहती |

तु पल-पल कुछ कहती
और मैं पल-पल तुझे सुनता
तेरे साथ बिताए लम्हों में मैं चांद सा चमकता |

तु रंगों सी मुझे अपनी कहानियों में रंगती
और मैं मुसीबतों सा उनमें फस्ता ,
मौत को फरेब से ठगता और संभलता |

तुझसे दूर मैं कभी ना जाता
तेरे साथ उम्र भर यहीं रह जाता ,
तु बार-बार मुझे शितानियों से तंग करती
और मैं तुझे अपने सीने से लगा चुप-चाप सो जाता |

-


816 likes · 80 comments · 6 shares
Sahani Baleshwar 31 MAR AT 22:15

तुम अब किसी और की हो गई हो
फ़िर भी कहता हूं तुम्हें चाहूंगा दिलों जान से |

( Read in Caption )
👇

-


Show more
907 likes · 58 comments · 13 shares
Sahani Baleshwar 30 MAR AT 18:42

उसकी सिर्फ़ एक रात से तो
देवों के देव महादेव और हर मनुष्य के जीवन में अंधकार हैं |

( Read in caption )
👇

-


Show more
829 likes · 16 comments · 5 shares
Sahani Baleshwar 30 MAR AT 8:44

वो पंजाब के एक गांव की
और मैं समन्दर किनारे नारियल के पेड़ के छाव का ,
वो लिपटी सोलह श्रृंगार में
और मैं बिखरा ज़ालिम रेगिस्तान सा |

वो हुस्न की मल्लिका
और मैं पापी जल्लाद के समाज का ,
कोमल , मुलायम , उसके नयन
और मैं पुजारी काम देव के नाम का |

वो इत्र की रानी
और मैं बागों में माली सिर्फ़ गुलाब का ,
बेफिक्र , मदहोश , उडे आसमान में
और मैं कमरे में क़ैद ज़िन्दा लाश सा |

वो रोम-रोम भक्त सदा प्रभु राम की
और मैं राजा सदैव अपने आप का ,
धीमे-धीमे उसके ज़ुल्फ लहराएं
जब मैं बासुरी बजाऊ श्री कृष्ण के नाम का |

-


954 likes · 78 comments · 9 shares
Sahani Baleshwar 29 MAR AT 18:51

मेरे जाने के बाद
अपना वजूद तुम भी खो दोगी |

( Read in caption )
👇

-


Show more
1062 likes · 93 comments · 12 shares
Sahani Baleshwar 28 MAR AT 19:11

तुम हर जनम में
सिर्फ़ मेरी और मेरी जान बनती हो |

( Read in Caption )
👇

-


Show more
1001 likes · 68 comments · 11 shares
Sahani Baleshwar 27 MAR AT 9:19

आत्माओं के शहर में
मेरा जिस्म एक भटका परिंदा हैं |

कई दफा पंख़ तोड़
मुझे अपनों ने किया शर्मिंदा हैं |

उनके बनाएं रस्मों-रिवाज
मुझे आज भी समझ नहीं आते हैं |

इन्सान तो इन्सान
यहां शैतान भी साफ़-साफ़ नज़र आते हैं |

चंद्र कि रोशनी में अक्सर
आत्माएं देवों को भोग लगाती हैं |

इन्सान सुधर जाए थोड़ा
वर्ना मौत तो सुहागन सी संसार में आती हैं |

-


936 likes · 51 comments · 7 shares
Sahani Baleshwar 24 MAR AT 20:49

समस्याओं से घिरा हैं मेरा मन
चांद-तारों से पूछा भी मैंने
कि क्यूं हैं वो इतने नम ,
क्या भाग्य ने किया कोई ईशारा हैं
मुस्कुरा कर बोले
" अंधेरों के बाद , उजला सवेरा तुम्हारा हैं "|

-


Show more
991 likes · 18 comments · 15 shares
Sahani Baleshwar 22 MAR AT 23:30

कुछ रिश्तों से हाथ छुट गया हैं
जो कभी साथ थे
वो आज पास नहीं ,
और जो पास हैं
उनका आज नामो-निशान तक नहीं |

दिल फ़िर भी सब जान कर
बार-बार अंजान बन जाता हैं ,
ज़िल्लत और नाकामयाबी के बाद
थोड़े से इज़्ज़त और प्यार की तलाश में
ये फ़िर निकल जाता हैं |

-


928 likes · 30 comments · 9 shares

Fetching Sahani Baleshwar Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App