Roli Abhilasha   (Abhash)
4.3k Followers · 244 Following

read more
Joined 16 May 2017


read more
Joined 16 May 2017
Roli Abhilasha AN HOUR AGO

आपके कंधे पर बैठी
तितली को चूम लिया था
टहलनी थी दुनिया
आपके शब्दों की परिधि को घूम लिया था
अँधेरा पसरा हमारे पास
हमने छेड़ी स्पर्शज्या,
इन आँखों से आपकी कलम तक
पर आपको न चूमा, न छुआ, न छेड़ा
हमने माना कि ग़लती हुई है
आपके शहर आकर आपसा तो होना था.

-


Show more
30 likes · 2 comments
Roli Abhilasha 2 HOURS AGO

मेरा दिल जाने क्यों लेखकों पर फ़िदा रहता है;
उनकी हर बात का मतलब जुदा रहता है।

-


Show more
44 likes · 4 comments · 1 share
Roli Abhilasha 4 HOURS AGO

sun in good
mornings-- alarms our body to leave the bed and shed the shield of coziness.

-


Show more
35 likes
Roli Abhilasha 6 HOURS AGO

जीने का रिवाज़ भी कब एक सा किसी का
कुछ जीकर जुदा रहते हैं, कुछ जुदा होकर जीते हैं।

-


Show more
58 likes · 3 comments
Roli Abhilasha 6 HOURS AGO

The distance between two pages makes no feel good when it is more than a book.

-


37 likes · 1 comments · 1 share
Roli Abhilasha 13 HOURS AGO

गुस्ताख़ी सी लगती है जाने क्यों हमारी इल्तिज़ा
अग़र यही सच है तो सबसे बेहतर है अलविदा।

-


50 likes · 8 comments
Roli Abhilasha 14 HOURS AGO

I'm too caring
about nothing!

-


Show more
21 likes
Roli Abhilasha 14 HOURS AGO

"come on!"

"Very close to fire!"

"Shut up! Your wings are of wax."

"So what? I know the fact."

-


Show more
35 likes · 4 comments
Roli Abhilasha 14 HOURS AGO

शाम होने से पहले ही चराग़ बुझा देते हैं
इस तरह वो दर्द के अंधेरों को हवा देते हैं

-


सारे रास्ते रुक गए 💔

#sto

49 likes · 5 comments
Roli Abhilasha 16 HOURS AGO

तुम्हारी होना ही कब चाहती थी मैं
क्या कशिश है कि अब तक मिल रही हूँ मैं!

-


Show more
39 likes · 3 comments

Fetching Roli Abhilasha Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App