Rohit Singh Thakur   (Shayar-e-udgir)
6.5k Followers · 199 Following

read more
Joined 1 October 2017


read more
Joined 1 October 2017
Rohit Singh Thakur 16 HOURS AGO

जो तुमको तुम्हारे हर रूप में पसंद करता है
बस एक वही इंसान तुमसे सच्चा प्यार करता है।

देकर ज़ख़्म हज़ार आख़िर में प्यार भरा मरहम करता है
वो मोहब्बत नहीं तुम पर खा कर तरस एहसान करता है।

-


128 likes · 5 comments · 2 shares
Rohit Singh Thakur 17 HOURS AGO

चाहे कुछ हो जाए
कुछ लोग हमेशा ख़ास होते हैं।

कोयले की खदानों में से ही तो
दोस्ती के बेशमकीमती हीरे मिलते हैं।

-


70 likes · 4 comments · 2 shares
Rohit Singh Thakur YESTERDAY AT 19:57

इंसानी सोच से ज़्यादा
गहरे लगने लगे है ये रास्ते।

जितना हम नहीं कहते
उससे ज़्यादा कहने लगे है ये रासते।

बड़े ही हैरान-परेशान
लगने लगे हैं ये रास्ते।

यक़ीन क्या ज़रा से भी
बंगलुरु वाले नहीं लग रहे ये रास्ते।


-


78 likes · 1 comments · 1 share
Rohit Singh Thakur YESTERDAY AT 17:44

आँखों की ग़लती दिल भुगते
दिल की ग़लती इंसान भुगते

ग़लती करता है इंसान
हर ग़लती छिपाने के लिए

जो छिपा नहीं पाता तो चुप रह कर सोचता है
कि शायद सब सही हो जाएगा।

जो तोड़ था दिल किसी का
बस एक चुप रहने से जुड़ जाएगा।

आँखों की ग़लती दिल भुगते
दिल की ग़लती इंसान भुगते

-


70 likes · 1 share
Rohit Singh Thakur 2 APR AT 17:31

प्यार करने ख़ातिर घर बसाना ज़रूरी नहीं
ये मुहब्बत है साहब, कोई जायदात की वसीहत नहीं।

-


112 likes · 4 comments · 2 shares
Rohit Singh Thakur 2 APR AT 16:15

Pyaar ho gehra to
har ishaara samajh aata..

Apne dilbar ki aankhon
me hi sansaar nazar aata..

-


76 likes · 1 comments · 1 share
Rohit Singh Thakur 2 APR AT 16:04

तो कम ही समझूँगा

लबों से ज़्यादा तुम्हारी
आँखों पर तूल दूँगा।

तुम मुस्कुराओ तो
उस मुस्कुराहट पर जान नहीं छिड़क के।

क्या वो मुस्कुराहट दिल से निकली है
मैं ये समझने पर ज़ोर दूँगा।

यक़ीनन तुम्हारी “ख़ुशी” और “मुस्कान” के बीच का अंतर
मैं बख़ूबी समझूँगा।

-


67 likes · 1 share
Rohit Singh Thakur 2 APR AT 15:55

नहीं है कहना लबों से कुछ
तो अपनी मूँदी आँखें तो खोल।

अब तो निगाहें ही सारे राज़ खोलेंगी
रिश्ते को अपने ये और मज़बूत करेंगी।

-


Show more
63 likes · 6 comments · 2 shares
Rohit Singh Thakur 1 APR AT 19:46

इस मतलबी दुनियाँ में बेमतलब की दोस्ती करलो

बड़ा चैन-ओ-सुकून और आराम मिलेगा।

हम जैसा नाचीज़ क्या नवाजेगा तुम्हें

तुमको तो ख़ुद वो परवादिगार नवाजेगा।

-


88 likes · 5 comments · 3 shares
Rohit Singh Thakur 1 APR AT 11:59

बरसते बूँदों की आवाज़ भी
कानों को चीर देती है।

जब ज़िंदगी में हमारे
घनी तन्हाई होती है।

-


73 likes

Fetching Rohit Singh Thakur Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App