12 JUL AT 16:34

विश्वास रखो खुद पर अगर मंजिल तुम्हे पाना हैं
हर कदम चलो संभलकर नई राह तुम्हें बनाना है
फिक्र न करना अगर कोई साथ तुम्हारे न आए
हर हाल में जंग लड़ते हुए आगे को बढ़ते जाना है
घबराना नहीं है राह में आए आंधी और तूफानों से
बुलंद इरादों के साथ तूफान से हमको टकराना है
झुकना नहीं है हालात के सामने किसी मुकाम पर
हमें तो बस मंजिल पर पहुँच कर ही सुस्ताना है

-