11 APR AT 20:11

तुम्हारा ख्याल आ ही जाता है
जतन करता हूँ समझाने की
मगर दिल बेचैन हो जाता है
खो जाता हूँ अतीत के लम्हों में
तुम्हारा चेहरा सामने आ जाता है
हर शाम गुजरती यूँ ही कशिश में
दिल मिलने को तड़प जाता है

-