Rajat Dwivedi   (©रजत द्विवेदी)
3.6k Followers · 207 Following

read more
Joined 16 November 2017


read more
Joined 16 November 2017
9 HOURS AGO

राम नाम मधु सुरसरि धारा। जिमी तरहहीं सकल संसारा।।
राम जगत जीवन अधारा। स्वास समीर राममय सारा।।

-


20 HOURS AGO

जीने की चाह मन के सभी अवसाद मिटा देती है।
सांसों की लय उम्मीदों की तान पर छेड़ो साथी।
कभी जो टूट जाओ गर विषम स्थितियों में,
तो टुकड़े ख़ुद के जोड़ जोड़कर, जी उठो साथी।

-


YESTERDAY AT 13:31

जो तय ना की जा सके।
ऐसी कोई मजबूरी नहीं,
जो मिटाई ना जा सके।
मुझे यकीन है एक रोज़
तुम्हारे क़रीब आऊंगा।
तुम्हारे हांथ थामूंगा मैं।
तुम्हें गले लगाऊंगा।

-


12 MAY AT 22:54

खुशकिस्मती मनाएं कि
हम अभी तक बचे हुए हैं।
मृत्यु से।
त्रासदी से।
महामारी से।
विपदाओं से।
और, हां,
सरकार से।

-


12 MAY AT 22:20

सहज नहीं अपनी मासूमियत को खोना।
बहुत जटिल है गांवों का शहर होना।

-


12 MAY AT 17:41

दुःखों को सहना होगा।
पीड़ाओं के दौर में भी,
हमें मुस्कुराते रहना होगा।
दिन बदलेंगे, मौसम बदलेगा।
पतझड़, सावन आयेगा।
जैसा भी, जो कुछ भी होगा,
सब कुछ में ढ़लना होगा।

-


12 MAY AT 10:00

दिल के क़रीब हो जाओ ना।
तुम चाय की तरह कभी तो
सुकून दे जाओ ना।
स्वाद मिठास का
मेरे लबों पर लगाओ ना।
तुम चाय की तरह ही
इश्क़ की पहचान बन जाओ ना।

-


11 MAY AT 22:22

त्रासदी पर लिखना,
त्रासदी का उपहास करने जैसा है।
और अपने लिखे हुए का प्रचार करना,
त्रासदी द्वारा दी गई पीड़ाओं को
सौ गुना बढ़ाने जैसा है।
मैं शायद इसलिए ख़ामोश हूं,
कि कहीं त्रासदी की आलोचना
उसे और भयावह न बना दे।

-


11 MAY AT 12:16

दिल में ही बसे रहना।
इश्क़ जताते रहना।
मुस्कुराते रहना।
दिन रात सताते रहना।
हम याद आते रहना।

-


10 MAY AT 20:07

तुम्हें हर जगह।
जाने तुम आख़िर हो कहां!
दिल को बेसब्री से
तुम्हारा इंतज़ार है।
तुम्हारी मोहब्बत में
तबीयत बेज़ार है।

-


Fetching Rajat Dwivedi Quotes