अब उनमें प्यार का नहीं चिड़चिड़ाहट का रिश्ता रह गया है। पास आने पर पता भी न चले की कोई अनबन भी थी, दूर रहने पर समझ न आए की होती थी तो क्या बात होती थी।

- www.shatadal.com