Priti Jaiswal   (Priti Jaiswal (Shivarga))
962 Followers · 48 Following

तुकबंदी और उलझनों का मिश्रण है।
Joined 30 November 2017


तुकबंदी और उलझनों का मिश्रण है।
Joined 30 November 2017
23 NOV AT 17:07

राह उगाना कीकर को;
प्रेम में पीड़ा सहने की
आदत तुम्हें पड़ जायेगी।

प्रेम डगर पर चलने वाले
राह उगाना नीम को भी ;
प्रेम में होगा जब मधुमेह
ये राहत तुम्हें पहुँचायेगी।

-


25 SEP AT 10:04

चाहतें,
मुद्दतों से जो "अधूरी" रहीं,

सुनने में आया,
वही चाहतें तो "पूरी" रहीं।

-


25 SEP AT 9:58

जो फाँद नहीं पाती थी,
घर की दीवार,
देखने को सिनेमा ;

आज फाँद के चार किताब,
वो देख रही,
रंगमंच दुनिया का।

-


12 AUG AT 10:09

शिकायतें नहीं करती, शिकायतों में रखा क्या है;
जो बदल गया, उसके बदलने से अच्छा क्या है।

-


9 AUG AT 12:25

तुम्हारे घर से आते वक़्त

मैं अपनी दी हुयी किताबों के ढ़ेर से
उठा लाया
वो दीमक

जिसने मेरे कलम से लिखे तुम्हारे नाम पर
अपना घर बना रखा था।

-


9 AUG AT 12:16

मेरे लिए
बहुत आसान होती हैं
वो परिभाषाएँ
जिनमें तुम्हारा नाम होता है।

-


9 AUG AT 10:26

प्रेम में मिल रही असफलताओं के बाद
होगा बस यही

कि बचा रहेगा प्रेम
उसी रूप में

पर होंगे प्रेमी प्रेमिका
काल्पनिक।

-


9 AUG AT 8:47

लम्बी दूरी के रिश्तों के प्रेम में

प्रेमी प्रेमिका को
भेंट करता है

चाँद, तारे, सूरज, आसमान, ब्रहमाण्ड;

नहीं भेंट कर पाता है तो,
वो तीन शब्द और एक गुलाब।

-


8 AUG AT 14:06

आसमाँ की सादगी तो देखो,
अपनी सादगी पे इसको जरा भी गुमान नहीं।

बयाँ तो करता है ये बहुत कुछ,
पर बयाँ करने को भी रखा है ज़ुबान नहीं।

-


7 AUG AT 17:38

वक़्त के साथ,

देह वृद्ध हुआ;
प्रेम प्रगाढ़।

-


Fetching Priti Jaiswal Quotes