Priti Jaiswal   (Shivarga_PerplexingThoughts)
658 Followers · 54 Following

read more
Joined 30 November 2017


read more
Joined 30 November 2017
Priti Jaiswal 15 NOV AT 18:25

तेरे नजरों में डूब जाऊँ, अब ये कहे कौन?
मैं ही डूब जाऊँ तो फिर तुम्हें नजरों से सँवारे कौन?
नजरों से गर सँवारूँ तो फिर तुम्हें निहारे कौन?
मैं तुमको निहारूँ तो जग की नजरों से बचाये कौन?

-


18 likes · 5 comments
Priti Jaiswal 15 NOV AT 6:11

ड्योढ़ी के बाहर,
जो अपने घर का
जलता इकलौता दिया रख दिया है ना
वो बस तुम्हें राह दिखाने के लिए है।

तुम कहते हो ना,
अपना प्यार तारे तोड़ कर जताओ,
तुम्हारे लिए घर से बाहर कदम रखना
ब्रह्माण्ड को केन्द्रित करने जैसा था।

तुम्हारे दिये गये जो फूल हैं
सालों बाद अब मुरझा गये हैं,
मैंने खुद को ये कह कर उन्हें सम्भाल रखा है
कि ये चिरकालिक है।

-


19 likes · 5 comments
Priti Jaiswal 10 NOV AT 18:14

जिसे हो जाना था अबतक, ओझल निगाहों से,
दर्द भेजता है, है सामने मेरे ऐसे खड़ा।
बेपलक आँसूओं की सान्द्रता को मैं चीरती हूँ,
बस उठा नहीं सकती, टूकड़ो में टूटा है मेरा दिल पड़ा।

-


21 likes
Priti Jaiswal 8 NOV AT 10:24

Your heart in mine.

-


16 likes
Priti Jaiswal 2 NOV AT 9:43

मुत्तसिल हो गया मेरे "वो" दूरियाँ होते हुए,
मैं इश्क़ में डुबा रहूँ वो भी इश्क़ लुटाते हुए।

-


23 likes · 3 comments · 1 share
Priti Jaiswal 25 OCT AT 0:41

वो कहीं और जाती, पर मैं महफिल जमा बैठी,
मैं गज़लें सुनाती रही, और "जाम" होश गवाँ बैठी।

-


17 likes · 6 comments
Priti Jaiswal 25 OCT AT 0:08

मिसरों की आवाज पर, आवाम फिसल बैठी,
आगाज बड़े आमों सी, और अंजाम रही ऐसी।

-


18 likes
Priti Jaiswal 24 OCT AT 23:45

मैं रंज-रंज से गुजरूँगा,
तुम तंज-तंज सा चुभना,
मैं रंग-रंग सा पिघलूँगा,
तुम संग-संग में जलना।

-


19 likes
Priti Jaiswal 24 OCT AT 23:34

वो कहीं और जाते, पर हम महफिल जमा बैठे,
मैं नज़्में सुनाता रहा, और लोग होश गवाँ बैठे।

-


13 likes · 2 comments
Priti Jaiswal 24 OCT AT 23:27

मसला ये है कि तेरा शौक नहीं,
पर तू नहीं तो कोई और नहीं।

-


9 likes · 1 share

Fetching Priti Jaiswal Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App