प्राश ✍️..   (प्रShant✒️)
9.7k Followers · 51 Following

Joined 23 September 2017


Joined 23 September 2017

भूखा चाहे निवाला,युवा रोजगार; ☸️✝️☪️
धर्म,जाति-पाति के नारे बेकार!📢
रोज़ पेट काटकर,जीने वालों को;
रोटी,कपड़ा,मकान की दरकार!🏘️
फिर गूंजी,"चौकीदार" की ललकार;
जनता को,विकास पर्व का इंतज़ार!
क्या वंचितों को,मिलेगा "आधार";🎈 Again,Modi sarkar;
सपनों के गुब्बारे,होंगे क्षितिज पार?


People's aspirations..
Politicians' ambitions;
Will the two ever align..
By accident,or design? सपने इनके होंगे साकार?
Path of true progress..
Hope our Netas define;
Not just rile & malign..
Tart tone;'ll they refine?

-


Show more
472 likes · 108 comments · 7 shares

जानी दुश्मन कल के,बन गए आज जिगरी यार..
काँटे जिन्होंने बिछाए,पहनाए वो फूलों का हार!
ठीकठाक थे इस तरफ़,यकायक चले उस पार.. 🌫️🚣🌫️
इन दलबदलू नेताओं की,मिलकर जयजयकार;
सकते में जनता,पल्ले न पड़े ये अज़ीब व्यवहार!

नियत भली,समाज प्रति समर्पित और ईमानदार; 📢🎙️📢
कुटिल चुनावी चक्रव्यूह में,पर न हुआ बेड़ा पार! 'Poll pledge;
सब के बस की बात नहीं,वोट-नोट का चमत्कार.. h⭕️ll⭕️w ring!
सत्ता के सौदागरों को,हैं हमारा साष्टांग नमस्कार; Little relief;
बदलता चरित्र राजनीति का,करना होगा स्वीकार! it will bring!'

-


Show more
492 likes · 92 comments · 7 shares

हिफ़ाज़त के लिए तेरी, ईश्वर से रोज मैं दुआ माँगूँ; "No need
सो पाएं जो तू चैन से, पहरा दे सारी रात जागूँ!😾 to worry;
एहसानों का कर्ज़ तेरे, साथी कुछ ऐसे अदा कर दूँ; mate..
तुम्हें नसीब हो फ़ुर्सत के लम्हे, मैं चाहे जितना भागूँ! 'm with you
🍃😻🍃
Time to let whiskers down, and unwind.
Today, it indeed has been a tough grind! साथी मेरे;
Tired you're buddy, catch forty winks..🙀 मैं सदा..
One's on guard, when the other blinks! तुम संग हूँ!"

-


Show more
609 likes · 109 comments · 5 shares

Yes! of the people, and by the people;
Dangling carrot🥕fruit of democracy..
For we the people; its core so simple;
Why then a few, appear more equal?

Weary masses, the elite in fine fettle;
Unkept promises🙌blatant hypocrisy..
Hefty manifestos, seem a dull sequel;
Old wine, poured in fancy new bottle!

-


Show more
629 likes · 103 comments · 3 shares

बिठा देते हैं मुझे 'मंदिर' में,परंपराओं के चंद बाशिंदे;
ऊँची-ओछी नसीहत देकर..पती ही अब तेरे परमेश्वर!
'गर करना हैं बिटिया,पार तुम्हे संसार का भवसागर;
आँखें मूंदकर चलना तुम,बस उनके नक़्शे कदम पर!

'अष्टपुत्रा सौभाग्यवती'..बड़े-बूढ़े दे,सौ सौ आशीर्वाद;
बदल जाते ज़िंदगी के मायने,शादी की रस्म के बाद!
ससुराल की पक्की दीवारें,बनती सहमी सीमा रेखा;
चौतरफ़ा फ़ैला खुला क्षितिज,शायद ही कभी देखा।

दिल करे मंद पवन की सुगंध,कभी साँसों में भर लूँ;
ख़्वाईशों के पंख लगाकर,आसमान मुठ्ठी में कर लूँ!
दूर उड़ जाऊँ मस्तमगन,रिवाज़ों की बंदिशे छोड़कर।
लांघ दूँ चौखट,रिश्तों नातों की 'नर्म' जंजीरें तोड़कर!

-


Show more
569 likes · 101 comments · 6 shares

Lord Shiva as a deity.. देवों के देव,भोले महादेव;
attains true divinity,🙏 ⚜️ पार्वती बिन,अधूरे सदैव!
with Goddess Parvati🏵️

If he denotes fire & fury..
she resonates empathy!🌺

Rever you Umapati, Girdhari..
thy incarnation of ardha-nari🌱

-


Show more
552 likes · 78 comments · 14 shares

Time to stop bickering,
in these moments of..
grief and deep anguish!

Petty posturing versus,
guiding voice of valour.
we need to distinguish!

For sake of our martyrs,
fan the flame of revenge..
🔥let it never extinguish!

-


Show more
676 likes · 90 comments · 15 shares



शहीदों को🙏
26 जनवरी:जागे जुनून,जोश बेशुमार;
14 फ़रवरी:दिल की कश्ती,राही सवार!
असीम त्यागभाव,या मतलबी प्यार;
क्या धरोहर हमारी;कौनसे संस्कार?
समेटने मोह की कलियाँ,सारे बेक़रार;
काँटों पे चलने,सिर्फ़ मतवाले तैयार!
माटी से मोहब्बत,ना मानेंगे कभी हार;
सुलगाए नई पीढ़ी में,राष्ट्रप्रेम का अंगार!

-


Show more
756 likes · 71 comments · 67 shares

💥रंज-ए-सफ़र 💥
रंगीन कागज़ का मखमली लिबास;
मन विभोर,सजाती सुनहरे ख़्वाब।
लग रही थी छुईमुई,बड़ी ही ख़ास;
दुल्हन नवेली जैसे,मिलन की आस!

नुक्कड़ की,खचाखच भरी दुकान;
भीड़ में शामिल,पारखी खरीदार।
न पता,जा पहुंची कौन से मुक़ाम;
झोपड़ा कोई,या बंगला आलिशान!

अजनबी ड़ोर से कोई,बेवज़ह बंधी;
पल में छुआ,खुला नीला आसमान।
घूमी सर्रर फिरकी,ली ख़ूब गिरकी;
चले दांव पेंच,छिड़ी जंग घमासान!

लगा झटका,विवश ड़ोर से वो कटी;
खा हिचकोले,इक पेड़ जा अटकी।
क़िस्मत के टुकड़ों में,पतंग यूँ बंटी;
आसरा तलाशते,जीवन भर भटकी!

-


Show more
1112 likes · 137 comments · 16 shares
प्राश ✍️.. 26 DEC 2018 AT 7:25

✨पैमाने बदले.. 💖
आहटें मधुर न महसूस हो जिनमें तेरी;
रोक ले सूनी राह को,ऐसा इशारा नहीं।

🌫️सागर बदले..
लहरों को जो मख़मली तेरे कदम न चूमे;
डूबती कश्ती का,उस पार किनारा नहीं।

🌾करवटें बदले.. 💖
तेरी ताबीर न मिले जिन ख़्वाबों को;
उस नींद से अपना,भला गुजारा नहीं।

🌦️मौसम बदले..
जिन हवाओं में तेरी साँसें न समाई;
ख़ुश्क उस बहार को,हमने पुकारा नहीं।

💌साल बदले.. 💖
जिन तारीखों में सनम तू शामिल नहीं;
वक्त थमा सा,जीना हरगिज़ गवारा नहीं।

-


Show more
1431 likes · 162 comments · 33 shares

Fetching प्राश ✍️.. Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App