Pawan Goyel   (💕पवन गोयल 💕)
1.0k Followers · 308 Following

read more
Joined 16 April 2018


read more
Joined 16 April 2018
3 HOURS AGO

समेट कर खुद को ज़माने से बिखर गई उनकी बाहों में
बुझा चिराग जला बैठी देखकर तपन राहों में

ख़ामोश था आईना वर्षों से ना ख़बर थी कोई मयखाने की
फिर भी शतरंज बिछा बैठी देख घड़ी खुद को आजमाने की

-


4 HOURS AGO

घर की तलाश करती
एक जिंदा लाश

-


10 HOURS AGO

आज का विचार

तूफानों से बचना है तो तैरना सीखना ही होगा

-


YESTERDAY AT 15:00

सो जन्म वार दूँ
सिर्फ तुम्हारी एक मुस्कान पर

-


YESTERDAY AT 14:55

बंदिशें खुली सी मुझे नित बिखेरती है राई सा
हर ज़िक्र लगता यूँ ख़ामोश हो ज्यों खाई सा

साथ है जहांँ सारा पर नदारद है मोहब्बत की हस्ती
ज़र्रा ज़र्रा जताता है एहसास एक जुदाई सा

खलती है खलिश खलकत की साँस साँस व्रजपात है
ख़बर नहीं नज़ारों की जो कोई साथ दे परछाई सा

-


YESTERDAY AT 8:37

आज का विचार

अगर कुम्हार के हाथ ना पड़ती
तो इस माटी का क्या मोल होता

-


30 NOV AT 17:52

सामाजिक दायरे जिज्ञासाओं पर प्रतिबंध नहीं
एक तपस्या हो बीज से फल होने का

दीपक की लौ जलती रहे नित अंधेरी रातों में
ना डर हो चिराग को अपनी रोशनी खोने का

ना कटे पर पंछी के उड़े वो आसमां को चीर के
ना मिले मौका जग को आंँख अपनी भिगोने का

कमल सा खिले जीवन साँस साँस बेदाग हो
ना मोल करे कौड़िया तराशे गए नगीने का

-


30 NOV AT 17:47

दिल की बात क्या कहे
दिल तो पागल है

-


30 NOV AT 8:39

आज का विचार

गुरु कृपा बड़भागी पावे

-


29 NOV AT 8:53

आज का विचार

शब्दों की कतार है सुख-दुख का खेल

-


Fetching Pawan Goyel Quotes