yqtv
412
Quotes
1.5k
Followers
269
Following

Pardeep Chahal

मुसाफिर हूँ यारो...
Pardeep Chahal 4 DEC AT 21:16

ग़मों का क्या है, कहीं भी मिल जाते हैं
खुशियों को देखो, कहीं पे भी खो जाती हैं
बेटों का क्या है, मन्नतों से मिल जाते हैं
बेटियों को देखो, मिल के भी खो जाती हैं

-


10 likes
Pardeep Chahal 4 DEC AT 8:41

रुकना भी नहीं है
और ठिकाना भी नहीं
टिकट भी नहीं है
और कटवाना भी नहीं

-


20 likes · 1 comments
Pardeep Chahal 12 NOV AT 20:05

इस तरह नाकामियों में शुमार हो गये हम,
इश्क़ बनने चले थे, पर बाज़ार हो गये हम।

-


199 likes · 7 comments · 2 shares
Pardeep Chahal 12 NOV AT 19:46

Boys don't cry.
They die.

-


Show more
20 likes · 4 comments
Pardeep Chahal 7 SEP AT 21:15

मैं गिरा, तो हाथ देने,
एक शख़्श ना आया।

मैं मरा, तो कंधा देने,
कितनी भीड़ आ गयी।

-


23 likes · 3 comments
Pardeep Chahal 12 JUN AT 21:57

सारे शहर को अपना घर बनाने चला था मैं
अपने ही घर में जाने कितने घर निकल आये।

-


21 likes · 1 comments · 1 share
Pardeep Chahal 13 MAR AT 21:18

जिंदगी इस तरह तेरा हर कर्ज़ चूकाते हैं हम
ये क्या कम है कि तस्वीरों में मुस्कुराते हैं हम

-


57 likes · 4 comments · 4 shares
Pardeep Chahal 23 JAN AT 16:55

ये कम्बख़त दिल तो आज भी
गिल्ली-डंडा और
बैट-बॉल में अटका है।

सियासत ने हाथों में
बंदूक और गोले थमा रखे हैं।

-


53 likes · 2 comments

Fetching Pardeep Chahal Quotes