21 OCT AT 12:31

इक परिंदे सी जिन्दगी काश हो जाए,
सब छूट जाए पीछे दिल आजाद हो जाए।

- Nirmesh