Mishty _Miss_tea   (Mishty's moment ©)
2.7k Followers · 3.7k Following

read more
Joined 30 September 2018


read more
Joined 30 September 2018
17 FEB AT 17:09

Life 😊

-


13 FEB AT 20:01

તને પ્રેમ માં એકલું ગુલાબ શું ધરવું?
પછી મેં એમાં ચપટીક ચુંબન ઉમેર્યું....

-


26 NOV 2023 AT 8:21

किस्मत देखो
जीवन के सबसे सुखद
और सबसे दुःखद घटनाओं का सिरा
एक ही कील पर टांगा होता है
.
मैं तुमसे प्यार करता हुं......

-


10 AUG 2023 AT 16:10

पैर कांटों पर रखकर चलने की जीते हैं हम फितरत लिए
और वो बैठे हैं हमें अपने इशारों पर नचाने की हसरत लिए,

पैबंद रूह पर है जो हर एक शख्स यहां ज़ख्म दिए बैठा है,
खैर दास्तां बयां करते करते हम रो पड़े उनकी शिकायत लिए,

किसके दिल में क्या है बस मेरा ख़ुदा ही जानता है,
रोज़ जाया हो जाती है वफ़ा और हम होते हैं इबादत लिए,

-


19 JAN 2023 AT 13:30

है ईश्वर...
जो भटकता रहा प्रेम की खोज में
उसके हिस्से देना ठहराव का सुख

-


17 JAN 2023 AT 8:28

अश्रुओं से बचकर दिन लूंट जाता है जीवन
तुम्हारे बगैर जैसे रात नहीं लगती,
ये चाय से रिश्ता है जो गरमाहट लाती है
वरना ये जनवरी की ठंड है
लगता है जान ले कर जायेगी,



-


22 DEC 2022 AT 20:08

यादों ने तेरी मन में इक सवाल रखा है
जो तुने कभी कहा था इश्क़.. कैसे ये मलाल रखा है,

कौन कहेगा दिसंबर की बात कुछ और है,
जाते जाते तुने भी यही बरहाल मेरा हाल रखा है

दर्द_तन्हाई_अश्क और थोड़ी परेशानियां,
चराग_ए_मोहब्बत बुझने से पहले मैंने परदा डाल रखा है

मेरे सीने पर इक दाग है जो जलता रहता हैं,
कौन कमबख्त सुकून कहता है ये इश्क़ जो संभाल रखा है


-


20 DEC 2022 AT 8:11

लगता है इश्क़ का भारी नुकसान हो गया,
जब से बिछड़ना महबूब का इमान हो गया,

मुझे इश्क़ है कहा था उसने होठों से चुमके,
देखो ज़रा.. सीने पर बोसे का निशान हो गया,

पहले कभी ले कर आए थे सुराही आँखों की,
बेबसी, बेरुखी, बेखयाली जीने का सामान हो गया,

जिस्मों को कैसे पता रूह के टुकड़ों का दुःख,
किसी मोड़ पर कोई तस्वीर से दिल परेशान हो गया,

-


19 DEC 2022 AT 18:33

मुस्कुराहटों में अक्सर छिपे होते हैं गम के आंसू,
घने बादलों के पीछे छिपा चांद मुझे तन्हा लग रहा है

-


19 DEC 2022 AT 18:29

ये ज़ुल्फ तो नहीं जो उलझकर बिखर जायेगी,
ज़िंदगी धूप है लेकिन कभी तो निखर जायेगी,

कैद आसमां के क़फ़स में ये दर्द का परिंदा,
अंधेरा बहुत है मगर कभी तो ये रात गुजर जायेगी,

आदत जिसको समझते हो मजबूरी है मेरी,
तेरे दिलके सहारे ज़िंदा है नहीं तो धड़कने थम जायेगी

-


Fetching Mishty _Miss_tea Quotes