म्हारी मरुधर री कळम   (म्हारी मरुधर री कळम)
1.2k Followers · 84 Following

read more
Joined 31 March 2018


read more
Joined 31 March 2018

धूनी पर जमे जाजम ,

सुरज दादौ रेवे मस्त
ठंडा ठंडा हुवे अस्त ,
पेठि माइ सूं सुटर काढ़
पीरा टाबर नें माँ करे ळाड ,
भूख ळागै तन नें चार टैम
गुंद का ळाडू काढ़ै भेम ,
सुहावै जन जन नें सीयाळौ
खाऔ पीऔ मौज करौ भाईळौ ।

-


27 likes · 3 comments

बौ एक ढाणी कौ छोरों हौ ,
जिस्यू म्हारी बाळपण मेंं इस्कूण मेंं मुळाकात हूइ ,
केई बार गायां , भेस्यां के साथ गाँव कानी आतों हौ
म्हारे घर के सामे ' भाईळा ' हेलो मार
म्हाने दूध दोस्ती मेंं दे ज्यातौ हौ ,
मेंं बाबौसा के साथ सेहर रेह बा नें आयगौ
सुनी मेंं कि बौ तौ सेना कि भर्ती मेंं ळाग गौ ,
केई पत्र आया ळारे म्हारा घर म्हारा गाँव मेंं
भाईळा तुं कियां हे , मौज मेंं तो है ?
पूछ्तौ बौ म्हारो हाळ आ पत्र मेंं
ना बौ म्हारो नांव पुच्यौ नी मेंं ,
साँवरा कि ळिळा देखौ
एक दिन खबर आयी कि म्हारा गाँव कौ नांव चमक गो '
एक फौजी काश्मीर मेंं शहीद हुगौ ,
मेंं भाज्यौ गाँव
आखौ गाँव बिरौ नांव बौळै ही एक म्हारी ही जुबान
म्हारो खुद रौ नांव बौळै ही ,
ए भाईळा मेंं म्हारो नांव ळैर ,
आज भी बेट्यौ थारी बाट जौव्ता ।

-


30 likes · 6 comments

मोबाइळ मेंं एप्प ' अपडेट ' नही करा जरै
एप्प मेंं बि री चेतावणी आवै ,
अर कोई संबंध मेंं विश्वास नही रेवै ज्नेय
आपसरी प्रेम मेंं खामी आवै ।

-


Show more
32 likes · 6 comments · 1 share

गजानंद जी रौ आशीष फळ्यो
दौ घर सुगन दस्तूर रम्यो ,

शुभ घडी , शुभ काज मांड्यो
सघपण बाईसा रौ राच्यो ,

छप छप कुंकु पत्री आई
गाँव गनाईता के भिज्वाई ,

छपी शुभ घडी रे दिन अर बि ठोड
बाईसा बंध्या गठजौड ॥

-


Show more
35 likes · 10 comments · 2 shares

आज म्हने मेहनत स्यूं ,
म्हारो नाम तौ बना बा द्यौ ,
काळ घणा ळौग म्हारा नाम उं
खुद कौ काम कढा ळैइ ॥

-


Show more
36 likes · 4 comments · 1 share

भाईजी
म्हने तो गळती आपणी ळागै ,
बाळपण म्है
छोरा का औळ्मा हि सेहन हूया
जो छोरी का औळ्मा भी सुन ळैव्ता ,
तो आज आ मौम्ब्बाती ळैर कौनी उब्ता ।

-


Show more
39 likes · 4 comments · 2 shares

जेब्या म्है नोट कौनी
नित म्है खोट कौनी ,
मेहनती हाथ है
भूखा क्देय मरा कौनी ।

-


Show more
47 likes · 10 comments · 5 shares

आ रात चुपचाप किता एहसान कर देवै ,

आँख हूं पाणी पडतौ रेह्वै
अर आ स्यांनी स्यांनी पूछ देवै ।

-


Show more
40 likes · 4 comments · 1 share

बा रंग देख र बौळी
तु घणौ घेहरौ हूगो रे.......

बिरी आवाज सुन हियो बौळ्यो
' में जिव्तौ हूं रे ' ।

-


Show more
31 likes · 3 comments · 1 share

मटकी माइ गियोडौ पानी जरुर कम हूवेै ,
अर
आपणौ कोई चोट देवै तौ बिरी
आवाज कम पर मार गेहरी हूवै ।

-


Show more
35 likes · 3 comments · 1 share

Fetching म्हारी मरुधर री कळम Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App