24 NOV 2019 AT 3:46

उल्फ़त कब्र में उतरते जिस्मों से लगा बैठा नादान,
फुरक़त देख तेरी किस मंज़र पर ले आई या खुदा ।

- Meenakshi Sethi #Wings of Poetry