24 NOV 2019 AT 4:10

आ कभी देख मेरी हर नज़्म में तेरे अहसास का मंज़र,
तू भी महसूस कर हर हर्फ़ में चुभता हुआ खंजर ।

- Meenakshi Sethi #Wings of Poetry