Mahendra Inaniya  
1.6k Followers · 134 Following

read more
Joined 1 April 2018


read more
Joined 1 April 2018
Mahendra Inaniya YESTERDAY AT 11:57

निगाहें बहुत कुछ कहती है,
बशर्ते समझने वाला कोई हो।

-


35 likes · 12 comments
Mahendra Inaniya 13 DEC AT 16:53

आयो
गाजरा रो सिरो खायो
सियाळो रो मोसम आयो
हल्दी रो साग खायो
सियाळो रो मोसम आयो
रजाई रो साथ निभायो
सियाळो रो मोसम आयो
चाय रो संबंध बढ़ायो

-


Show more
20 likes · 3 comments
Mahendra Inaniya 13 DEC AT 9:40

हम इश्क मोहब्बत की बात कर रहें हैं,
और वो साइंस की बात कर रहें हैं!

-


31 likes · 12 comments
Mahendra Inaniya 12 DEC AT 9:46

फेसबुक, ट्विटर के जमाने मे

संभलकर चलो
कौन पीठ पीछे छुरा खोप दे

-


Show more
33 likes · 3 comments
Mahendra Inaniya 11 DEC AT 8:48

उठ जाओ अब

सूरज आ गया अब
रजाई से निकलो अब

योग करो अब
आलस भगाओ अब

-


Show more
36 likes · 14 comments
Mahendra Inaniya 11 DEC AT 8:26

सुन पगली-
उतना ही अकेला हूँ,
जैसे बिन चाय की सुबह!

-


28 likes · 10 comments
Mahendra Inaniya 9 DEC AT 14:17

सुनो प्रिये- तुम महंगी प्याज सी,
अब आलू मै बेस्वाद सा!!

-


35 likes · 22 comments · 1 share
Mahendra Inaniya 9 DEC AT 13:11

सिर्फ जिस्म ही अलग है,
शामिल तो तूं मेरी हर सांस मे है.!!

-


44 likes · 6 comments
Mahendra Inaniya 6 DEC AT 8:35

एक खुबसूरत, गुलाबी ठंड की सुबह,
सूरज की किरणे और उगता हुआ सूरज,
अच्छे बहाने हैं तेरे मे खो जाने के !

-


38 likes · 22 comments
Mahendra Inaniya 4 DEC AT 8:13

सुनो सनम 💕
तुम इतना सा वादा निभा देना
जब हम रुठें तुम चाय पीलाकर मना लेना 😍

-


35 likes · 19 comments

Fetching Mahendra Inaniya Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App