Mahender Kumar   (Sani)
3.7k Followers · 204 Following

Urdu Poet
Joined 29 November 2017


Urdu Poet
Joined 29 November 2017
Mahender Kumar 12 HOURS AGO

मैंने सपने में उसको हँसते देखा
खिली खिली है मेरी आँखों की रेखा

-


Show more
67 likes · 9 comments · 1 share
Mahender Kumar 6 AUG AT 0:34

मेरे भाई! नहीं मैं नहीं जानता
कुछ नहीं जानता
मुझसे पूछो न कुछ
मुझसे कुछ मत कहो
जो भी दिल में तुम्हारे है तुम वो करो
मेरा तुम पे कोई हक़ नहीं न ही दुनिया पे है
मैंने दुनिया बनाई नहीं
और न इसके बिगड़ने से कुछ वास्ता है मुझे

यानी?

यानी कुछ भी नहीं
कि यहाँ के सफ़ेदो-सियह में मिरा दख़्ल कुछ भी नहीं
कुछ न कुछ हो रहेगा कि गर्दिश में हैं सात आसमाँ रात-दिन
मैं किसी को बचाने का दावा करूँ भी तो कैसे करूँ
मैं कहाँ ख़ुद भी ज़िंदा हूँ
और इस सड़ी लाश को भी अगर ग़ोल गिध्दों के छोड़ें नहीं
नोच डालें कभी
कोई हैरत नहीं
मुझमें ग़ैरत नहीं

-


59 likes · 10 comments · 2 shares
Mahender Kumar 25 JUL AT 20:00

یہ مری ذات کا ثمر ثانی
کس اداسی کے باغ کا گل ہے

ये मिरी ज़ात का समर सानी
किस उदासी के बाग़ का गुल है

-


#mksani #ज़ात *समर - फल
#cinemagraph

61 likes · 13 comments · 1 share
Mahender Kumar 23 JUL AT 22:47

آنکھوں سے دکھائی دے رہا ہے
یعنی وہ رسائی دے رہا ہے
خاموش ہوا تو میں نے دیکھا
وہ مجھ کو سنائی دے رہا ہے

आँखों से दिखाई दे रहा है
यानी वो रसाई दे रहा है?
ख़ामोश हुआ तो मैंने देखा
वो मुझको सुनाई दे रहा है..

-


#mksani #ख़ामोश #cinemagraph
*रसाई - access, पहुँच

158 likes · 14 comments · 5 shares
Mahender Kumar 22 JUL AT 0:19

سزا کے طور پر سب کو یہاں ہونا لکھا ہے
کہ ہر ملنے ملانے میں کہیں کھونا لکھا ہے

सज़ा के तौर पर सबको यहाँ होना लिखा है
कि हर मिलने मिलाने में कहीं खोना लिखा है

-


86 likes · 19 comments · 2 shares
Mahender Kumar 16 JUL AT 18:53

شام ترے پہلو سے اٹھی
میرے دل میں بیٹھ گئی

शाम तिरे पहलू से उठी
मेरे दिल में बैठ गई

-


56 likes · 12 comments
Mahender Kumar 14 JUL AT 21:48

ये बात किसी और को कहने की नहीं है
है जीतना किस टीम ने ये मैच मेरे दोस्त

तूतिया बन जाएँगे सब फ़ैन्स और ये वर्ल्ड कप
हाथ से दोनों के कोई तीसरा ले जाएगा

@mukesh & mandi
Cheers for Double M

-


17 likes · 1 share
Mahender Kumar 13 JUL AT 23:31

تیرے بدن کا دھیان عبادت سے کم نہیں
میں روح کے قریب ہوا ہوں اسی طفیل

तेरे बदन का ध्यान इबादत से कम नहीं
मैं रूह के क़रीब हुआ हूँ इसी तुफ़ैल

-


#mksani #cinemagraph #रूह
*तुफ़ैल - के कारण

65 likes · 11 comments · 3 shares
Mahender Kumar 13 JUL AT 23:19

دیکھو تو کوئی رنگ نہیں اس بدن میں، اور
سوچو تو رنگ و نور کی بارات ہے یہ جسم

देखो तो कोई रंग नहीं इस बदन का, और
सोचो तो रंगो-नूर की बारात है बदन

-


64 likes · 10 comments · 2 shares
Mahender Kumar 13 JUL AT 22:56

آوارگی نہیں تھی مجھے اس قدر پسند
شہر_بدن تمہارا بلا کا حسین تھا

आवारगी नहीं थी मुझे इस क़दर पसंद
शहरे-बदन तुम्हारा बला का हसीन था

-


#mksani #आवारगी
*शहरे-बदन - बदन का शह्र

54 likes · 7 comments · 1 share

Fetching Mahender Kumar Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App