Mād Mohııt   (Maddy❤️)
6.7k Followers · 1 Following

Joined 27 December 2018


Joined 27 December 2018
Mād Mohııt YESTERDAY AT 15:10

❣One sided love❣
हाँ, मुझे प्यार है उससे और मेरा प्यार बेवजह है
हां, कोशिश की मेने पर प्यार की वजह नहीं ढूँढ सका
हाँ, इकरार नहीं किया कभी उससे
उसे बताने से घबरा जाता है ये दिल
कहीं इनकार ना कर दे
मगर प्यार है मुझे उससे बेपनाह, बेवजह
हाँ, वो दोस्त है मेरा सबसे प्यारा, सबसे न्यारा
कई दफा सोचा इज़हार-ए-मोहब्बत कर ही देता हूँ
मगर मैं डर जाता हूँ, कही वो इनकार ना कर दे
मेरा प्यार मेरी बेवकूफी करार ना कर दे
कही मेरे प्यार की आड़ में
मैं अपना सबसे अच्छा दोस्त ना खो दूँ
बस यही सोच हर दफा अपने दिल की खता पर रो देता हूँ
पर मैं अपने प्यार को एक तरफ़ा कब तक
ज़िन्दा रख सकूंगा, प्यार अकेला नहीं जी सकता
प्यार एक खूबसूरत एहसास है,जो जीता है
तो दो दिलो में, मरता है तो दो दिलो में
हाँ, ये अधूरा सा एहसास ही है
जो अब तक मेरे दिल में एक आस लगाये बैठा है
शायद तू भी इस इश्क़ से अनजान नहीं
पर जान कर भी ना जाने क्यों मेरी जान लेने पर तुला है
ये एक तरफ़ा मोहब्बत है, साहब
इसकी तड़प जो करें, वो जाने।।

-


Show more
608 likes · 366 comments · 28 shares
Mād Mohııt 13 JUN AT 14:16

तेरी यादो में ये दिल सुबह-शाम बेकरार रहता है
यूं ही नहीं मुझे तुझसे बेइंतहा प्यार रहता है।।

-


Show more
896 likes · 283 comments · 29 shares
Mād Mohııt 12 JUN AT 14:48

जब गुमनाम था मोहब्बत से तो कितने सुकून से सो जाता था
मेरी आवारगी में कुछ दखल तुम्हारी ऐसी हुई
रातो की नींद ना जाने कब जिंदगी की तरह तबाह सी हो गयी
अब तू रहा ही नहीं शिकवा-ए-गम किस से करू
पर तू अब आना भी नहीं, दर्द-ए-दिल बया होगा भी नहीं।।

-


877 likes · 301 comments · 28 shares
Mād Mohııt 10 JUN AT 14:49

टूटे हुए दिल से आसरा आख़िर कौन लेता है
हर किसी को पसंद है दिल-ए-नादान से खेलना।।

-


Show more
1131 likes · 286 comments · 27 shares
Mād Mohııt 8 JUN AT 15:14

तू इंतजार बन कर कब तक यूं ही दूर रहेगा मुझसे
रूह बनकर मुझमे समाता क्यूँ नहीं है
मेरी मोहब्बत को दिल्लगी का नाम दे कर यूं बदनाम ना कर।।

-


1043 likes · 229 comments · 7 shares
Mād Mohııt 7 JUN AT 15:10

मेरे लबों पर लफ्ज़ भी अब तेरी तलब लेकर आने लगे हैं
तेरे ज़िक्र से महकते हैं अल्फाज़ मेरे, तेरे सजदे में कुछ यूं बिख़र जाने लगे हैं।।

-


1132 likes · 232 comments · 6 shares
Mād Mohııt 6 JUN AT 15:03

तेरा दिल यूं छल्ली कर चले जाने की कोई ख्वाहिश ना थी मेरी
तुझसे यूं मुँह फेर कर चले जाने की हिम्मत ना थी मुझमें
पर मजबुरियों तले कुछ इस हद तक दब चुकी थी
कि कुछ बोलने सुनने की आरज़ू ना रही थी
सोचा मैंने भी था, तुझसे मिलेंगे तो सुकून-ए-दिल को राहत पाएंगे
मगर कसमो तले कुछ इस हद तक टूट चुकी थी
कि कुछ कहने सुनने की हालत ना रही थी
वो एक मेरे पिता की जिद्द ने मुझे तेरा दिल चीर कलेजा निकालने पर मजबूर जो कर दिया था
मेरी माँ को जान से मार देने की धमकी से इतना डर गयी थी
कि तुझे मार,खुद मर जाना वाकिफ समझा
बेवफा तेरी नजरो में इसलिये बनी, कि कसूर तेरा ना था
तूने तो बस मुझे टूट कर दिया था,
और मैं उसी दिल के हजार टुकड़े कर चल दी
हां गुनाह किया है मैंने,
सजा भी खुद ही दूंगी
तेरा दिल अपनी बाहो में रख सज कर
डोली में चैंन की नींद सो जाउंगी।।

-


Show more
898 likes · 249 comments · 5 shares
Mād Mohııt 5 JUN AT 14:06

°°unconditional love °°
मेरी खामोशियों में भी फसाना ढूँढ लेती है
बड़ी शातिर है वो,मोहब्बत की गलियों में
आये बिना दिल चुरा लेने का बहाना ढ़ूँढ लेती है वो
जानती है कुछ तो वजह रही होगी
जो मैं करीब ना जाने के हजार बहाने ढूंढ लेता हूँ
मन ही मन इतराती है, मुस्कुरा कर गुस्सा छुपा लेती है वो
तेरी बातों में ज़िक्र मेरा, मेरी बातों में ज़िक्र तेरा हो जाता है
तेरा ख्याल तेरी तलब एक तेरी आरज़ू अजब सा ये इश्क़ है
ना तू मेरी, ना मैं तेरा हो पाता हूँ
जिस रफ्तार से तेरा इश्क़ बढ़ता जा रहा है ना
लगता है इस दफा टूट कर फ़ना हो ही जाऊंगा मोहब्बत में तेरी।।

-


963 likes · 223 comments · 7 shares
Mād Mohııt 3 JUN AT 15:04

मेरा दिल छ्ल्ली कर चल तो दिये हो तुम
मुझसे यू मुँह फेर कर, जाते-जाते मेरा गुनाह तो बता दिया होता
सोचा था मिलेंगे तुमसे तो सुकून एे दिल को राहत पाएंगे
मगर तुमने तो दर्द बढ़ने तक का वक़्त ना दिया
कलेजा चीर मेरा दिल जो निकाल चल दिए यू मुझसे मुँह फेर कर
अगर साथ नहीं निभा सकते थे तो बता दिया होता 
तेरी एक चुप्पी ने मेरी ज़िन्दगी को ही मुझसे अलग कर दिया
माना रही होगी कोई मजबूरी तेरी, बता कर तो देखा होता
शायद मैं तेरी इस भूल का खुद-बा-खुद साजेदार बनता।।

-


978 likes · 306 comments · 10 shares
Mād Mohııt 2 JUN AT 15:02

जब होता हूँ अकेला
तेरे सिवा हाल-ए-दिल बताने को
कोई नाम नहीं मिलता,,
मिलते तो बहुत है
पर किसी की भी बातो से
दर्द-ए-दिल को आराम नहीं मिलता।।

-


1208 likes · 316 comments · 7 shares

Fetching Mād Mohııt Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App