Mād Mohııt   (Maddy❤️)
8.5k Followers · 2 Following

Joined 27 December 2018


Joined 27 December 2018
Mād Mohııt 11 AUG AT 15:30

❣MY SECOND FIRST LOVE❣
दुनियाँ की इस बेबाक भीड़ में एक राही ऐसा भी मिला
जो मेरा हमसफ़र बन चुका था
इस बात से अनजान में औरों की तरह उससे भी थोड़ा जुदा- जुदा सा था
फ़ासलो से नजदिकियो के सफर का आलम कुछ यूं रहा
वो मोहब्बत की एक जानी पहचानी सी, मेरे दिल पर दस्तक दे रहा था
लड़खड़ाते हुए कदमों से में आगे की तरफ बढ़ तो गया पर डर था,
कही फिर से मोहब्बत ना कर बैठें उससे पहले की तरह
कशमकश में कदम कुछ इस कदर आगे बढ़ चुके थे
जहाँ से मैं खाली दिल लिए वापस ना हट सका
वो अलग है सबसे ये मान मेरे मन के आगे एक ना चली
दिल फिर से एक दफा खिचा चला गया उसकी ओर पहले की तरह
अब मोहब्बत इस हद तक हो गयी है मुझे उससे
दूर जाने से घबराता है ये दिल दो पल भी दीदार ना हो उसका
तो ये दिल झटपटा उठता है पहले की तरह।।

-


Show more
562 likes · 142 comments · 27 shares
Mād Mohııt 7 AUG AT 16:06

❣वो कहती थी❣
वो कहती थी तुझे एक दिन छोड़ दूंगी मैं, तेरा
पत्थर सा सख्त दिल तोड़ दूंगी मैं__मत ले वक़्त की तासीर तू इतनी
तुझे प्यार को मोहताज कर दूंगी मैं__वक़्त से पहले समझ ले प्यार को तू मेरे
वरना तुझे अंदर तक झकझोर दूंगी मैं__आदतों को सुधार ले तू अपनी जल्द
जिस तरह जोड़ा था तुझे ठीक उसी तरह बिखरा छोड़ दूंगी मैं, तुझे तोड़ दूंगी मैं।।

-


715 likes · 296 comments · 31 shares
Mād Mohııt 29 JUL AT 14:44

❣🙇❣
मोहब्बत में अपनी खवाहिशे जताना
तो सब चाहते हैं मगर कुछ वक़्त बाद
रिश्तों की कदर करना भूल जाया करते हैं
अहमियत का दिखावा दिखा कर
सालों साल साथ रहने के गुन-गान गाया करते हैं
प्यार को हासिल करना तो सब चाहते हैं
पर कदर करना भूल जाया करते हैं।।

-


849 likes · 336 comments · 48 shares
Mād Mohııt 27 JUL AT 15:22

मोहब्बत में गर जीतना
ही सब कुछ होता तो
तेरे काफिले में ना जाने
कितनी लाशें बिछी होती,,
तू मेरे साथ ज़रूर
होती मगर तेरी
खुशियाँ कब का दम
तोड़ चुकी होती।।

-


959 likes · 313 comments · 33 shares
Mād Mohııt 25 JUL AT 15:10

....

-


Show more
924 likes · 245 comments · 27 shares
Mād Mohııt 22 JUL AT 15:32

❣वो❣
मेरा दर्द पूरी रात कागज़ पर बिखरता रहा
मैं हर शाम चिरागों सा जल तेरे बारे में लिखता रहा
कमाल का इश्क़ किया था मैनें उससे
खुद को जलाता रहा,उसके जख्मों पर मरहम लगाता रहा
कोई पहरा सा लगा रखा था उसने ख्यालों पर मेरे
बड़ी मासूमियत से मैं उसके सवालों में उलझता रहा
मैं बारिश की तरहा उस पर प्यार बरसाता रहा
वो मुझे सब्र-ए-मोहब्बत का वासता दे कर तरसाता रहा।।

-


966 likes · 307 comments · 30 shares
Mād Mohııt 20 JUL AT 14:16



....

-


960 likes · 264 comments · 34 shares
Mād Mohııt 18 JUL AT 14:04

....

-


969 likes · 268 comments · 35 shares
Mād Mohııt 15 JUL AT 15:21

❤A conversation b/w a shy boy & girl ❤
मेरी ख़ामोशी भी कुछ कहती है
बिन कहे समझ जाया करो,
ऐसा जरुरी भी तो नहीं होता
कि हर बात का लफ्ज़ो में जिक्र किया जाए,,
गर समझ सको ख़ामोशी को मेरी
तो हिचकिचाना नहीं एे सनम,
वादा करते हैं, उसी वक़्त हाथ थाम
ये सांसें, ये ज़िंदगी सिर्फ तेरे नाम
लिख दी जाएगी।।

-


1052 likes · 285 comments · 34 shares
Mād Mohııt 14 JUL AT 15:31

....

-


1007 likes · 245 comments · 31 shares

Fetching Mād Mohııt Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App