Khushi Yadav   (ऊर्जा के किताब से...खुशी)
1.0k Followers · 79 Following

read more
Joined 18 February 2020


read more
Joined 18 February 2020
16 HOURS AGO

साएँ के इंतज़ार में खुद से लिपट जाएगी
खुद में आज वो एक बार फिर बिखर जाएगी,
संभालने के लिए मन को एक तस्वीर वो देख जाएगी...

यूँ गुज़रते शाम की लाली में,
कुछ रंग दिखाए फिर से बहक जाएगी,
यादों यादों में वो पुरानी महफ़िल जमा मन को हंसा जाएगी....

तन्हा तन्हा कर शाम गुज़र जाएगी,
अता पता मगर चलेगा नहीं तो गृहणी याद में डूब जाएगी,
राह पर नज़र रखे वो कदम कदम की आहट रखती होगी ,
जैसे जैसे शाम गुज़रती होगी...

-


18 HOURS AGO

बारिश की इन बूदों में आज अलग ही चाह दिखी,
कुछ कर जाने की भुख इसकी आज हमको कड़ती बिजली में दिखी...

-


16 SEP AT 17:20

ताज़ा हो जाए मेरे कुछ अनकहे दास्ताँ हर चुसकी संग,
शाम होते ही याद आए कुछ अपने पराये से उनके दिए हर जख्म जब दर्द दे...

-


16 SEP AT 16:55

संदेशें आते हैं कहीं से चुपके से दिल में ठहर जाते हैं,
रोज़ सुबह शाम नए अरमानों संग निखार जाते हैं...

-


14 SEP AT 17:26

जहाँ थोड़ी ही सही याद हमारी आती होगी तुम्हें,
बात हमारी जहाँ तुम्हारे दिल में चलती होगी,
कुछ पल पुराने वो फिर कहीं खुलती होगी,
उस रोज़ कहीं तुम गलतियां निकालते होगे मगर,
हंसी देख मेरे चेहरे पर तुम सहम जाते होगे देख निडर
मुझे सवाल खुद से कर जाते होगे....

-


14 SEP AT 16:05

...हिंदी...

मेरी मातृभाषा हिंदी हैं दिल से जुड़ी यही है,
अ-आ-ई-उ जैसे शब्दों को जुड़ बनाती गजब सी भाषा की कहानी हैं....

संस्कार कूट कूटकर भर रखी ऐसी हिंदी हैं,
बिगड़ बोल जो संभाल ले मन को जो सम्मान दे ऐसी मेरी हिंदी हैं...

आदर से जीते रहने की देती यही समझ हैं,
गर्व कराती यह हिन्दी मुझे जब बोल उठते सब "जय हिन्द"....


-


14 SEP AT 11:28

सोच बैठा हूँ आज फिर कल के बारे में,
खो ना दूँ कहीं कुछ हसीन चेहरे को यही सोच लो आज पुरी रात मैं जगा रहा....

-


14 SEP AT 9:22

महसूस करतीं हूँ जब आँख बंद कर तुम्हें,
चहेरा भी तुम्हारा दिखने लगता हैं मन में हंसते मेरे....

-


13 SEP AT 17:53

कलाकार भरे हैं सब अपने देश में तभी सबसे अलग हैं,
बस तारीफ करने वाले और कला को निखारने वालों की कमी हैं यहाँ....

-


13 SEP AT 17:33

कुछ दुर की यह बस दुरियाँ हैं बनाने तो अभी बहुत बहाने हैं,
नखरे झेलने हैं कई, वादें भी जो किए हैं उन्हें हँसते संग निभाने हैं....

-


Fetching Khushi Yadav Quotes