Khushi Yadav   (Urja ki kitaab se...khushi)
780 Followers · 64 Following

read more
Joined 18 February 2020


read more
Joined 18 February 2020
Khushi Yadav 3 HOURS AGO

नज़रें झुकाएँ पढ़ रही थी मैं कुछ गहरा जैसे खो ही गई मैं अपने आज से थी,
पन्नें पलट पलट कर फिर हटा रही ऐसे ही नज़रें मैं मानो अपने भंयकर अतीत से थी.....

-


Show more
25 likes · 8 comments
Khushi Yadav 6 HOURS AGO

अजनबी ही थे पहले हम मगर बात जाने अनजाने हो ही जाती थी,
अब दोस्ती हो गई हमारी मगर बात उनसे ना जाने वैसी कभी होती नहीं....

-


22 likes · 4 comments
Khushi Yadav 6 HOURS AGO

हम मिलने के लिए आस लगाए बैठे थे उनसे और वो हमें तंग कर रहे थे,
हर बार नए बहाने तैयार कर वो मिलने से दूर ही रहते थे....

मशक़्क़त हम कर रहे थे एक झलक उनको देखने के लिए,
वो जान कर मशक़्क़त हमारी हमें मना ही किए जा रहे थे....

जान हमारी अधमरी हो ही जाती थी जब मना वो हर बार करते थे,
मगर एक बार समय ऐसा आया शर्मिंदा वो हो रहे थे और हम मज़े उनके ले रहे थे क्योंकि झूठ
उनका हमने रंगेहाथ पकड़ लिया था...

-


Show more
25 likes · 8 comments
Khushi Yadav 8 HOURS AGO

सफ़र पर यूँ ही नहीं निकलते हम कुछ लोगों से ऐसे ही नहीं झगड़ते हम,
कुछ बात ज़रा सी ऐसी ही नहीं कहते हम आपकी तरह ऐसी ही किसी का नहीं दिल दुखाते हम.....

-


Show more
18 likes · 2 comments
Khushi Yadav 8 HOURS AGO

लोग आपको प्यार करते हैं और हम आपको याद आपकी असलियत से कराते हैं,
लोग आपको बहला कर फेंक देते हैं और हम आपको उठाकर उन्हें भूल जाना सिखाते हैं...

-


Show more
27 likes · 11 comments
Khushi Yadav 20 HOURS AGO

अंधकार इतना है मेरे इस कुटिया में कि सिर्फ चांद ही जो दिखता है,
नूर इतना है इस चांदनी की मेरी चार दीवारी की सारी गोशा में चमक बिखरता है.....

-


Show more
25 likes · 3 comments
Khushi Yadav YESTERDAY AT 17:54

तुम्हारा इस तरह आना मुझको आज फिर भा गया,
दरखास्त मेरे खुदा ने मेरी यूँ ही मिलाने का जो मान लिया....

-


34 likes · 2 comments
Khushi Yadav YESTERDAY AT 17:39

दीप प्रज्ज्वलित हो रहे हैं चारों दिशाओं में कुछ आपके आगमन के लिए,
कुछ मेरे प्यार भरे मंदिर के लिए और हमारी मुलाकात में जान डालने के लिए....

-


Show more
35 likes · 2 comments
Khushi Yadav YESTERDAY AT 17:13

छुप छुप कर घायल अक्सर उनकी कातिल निगाहें हमें करती थी,
हर मुलाकात पर कुछ इस कदर बिन इजहार किए वो हमें प्यार करती थी....

-


Show more
30 likes · 2 comments
Khushi Yadav YESTERDAY AT 11:12


When my friends bunk the classes and the teacher is very angry on them..



Then me to friends :

-


Show more
25 likes · 4 comments

Fetching Khushi Yadav Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App