Jiddy Nidhi   (#Ziddynidhi)
36 Followers · 5 Following

read more
Joined 3 May 2018


read more
Joined 3 May 2018
9 MAY AT 14:17

सबका भला हमनें चाह,,,, हमारा भला किसने चाह,,,, कुछ ने अपने रूतबे के लिए गिरवीं रख दिये जज्बात हम दोनों के....

-


9 MAY AT 14:07

Mother's Day हर एक को मनाना है,
माँ के आँचल में सर रख कर सभी को सोना है,
माँ के हाथों का खाना हर किसी को खाना है,
माँ का लाडला हर एक को बनना है.......
पर बेटी पैदा किसी को नहीं करना है,,,,
कोख में बेटी को जहर देना है हर एक को,
बेटी पैदा होते ही उसे मार देना है
...... पर माँ चाहिए हर एक को,
माँ जिदंगी भर साथ रहें
....... पर बेटी की जिंदगी छीननी है हर किसी को,

..... वाह रे दोगला समाज...!!!!

-


30 DEC 2020 AT 17:51

.......

बहकने के बाद मुझे याद आया की मैं होश में था
उलझनें के बाद मुझे यकीन हुआ की मेैं तो सुलझा हुआ था...!!!!

-


30 DEC 2020 AT 17:50

.......
गम नहीं मुझे इतनी की मैं नशा करूँ
होश आया तो पता चला
मैंने बेहोशी में नब्ज लिख दिया...!!!!

-


30 DEC 2020 AT 17:49

......

तुम्हारे दिल में
क्या मेरी कोई शोर सुनाई नहीं देती
या तुम अनसुना कर रहे उन्हें,
या तुम चाहते हो कि
मैं तुम्हें मनाती रहूँ
तुम्हें पुकारती रहूँ
और तुम मुझे यूँ ही
दुत्कारते रहो....!!!!

-


30 DEC 2020 AT 17:48

.......

तुम कभी मुझे याद नहीं आते हो
मुझे कभी नहीं लगता कि
तुम्हारे बगैर मैं जी नहीं सकती,
पर हाँ जब भी मेरा दिल रोता है
तुम्हारा चहेरा मेरे आँखों के सामने घूमता है..!!!!

-


30 DEC 2020 AT 17:48

.......

बस,,,,
बस एक आदत बुरी है मुझमें की
कि,,,, मुझे कोई भी रिश्ता छुपाना नहीं आता,,,,

-


30 DEC 2020 AT 17:47

......
बिखरे सपने तो ऐसे बिखरे
जैसे हाथों से फिसलती रेत हो.....!!!

-


30 DEC 2020 AT 17:46

......
आत्महत्या करने का केवल एक वजह नहीं होता है, कई होते हैं.....!!!

-


30 DEC 2020 AT 17:46

हम दो शहर के ,दो अजनबी हैं
पर हम मिलतें रोज हैं
सूरज की ढलटी किरणों के साथ...!!!

-


Fetching Jiddy Nidhi Quotes