Hiral   (🌷Hir@L✒️)
10.4k Followers · 7 Following

Joined 19 July 2018


Joined 19 July 2018
Hiral 9 JUL AT 17:59

हर रोज़ नया दिन एक उम्मीद लेकर आता है
दिन ढलकर शाम होकर सब बिख़र जाता है

सपनें आँखों में लिए ज़िंदगी यूँ ही कट रही है
मंज़िल को ढूढ़ते ढूढ़ते रास्ता भी खो गया है

लड़कर कमजोरियों से मुझे ख़ुद को सवारना है
अभी तो अपनी ज़िंदगी की पूरी किताब पढ़नी है

तूफानों से डरना नहीं मुझे समुद्र में बहते जाना है
ख़ोज कर अस्तित्व अपना मुझे भविष्य बनाना है

-


Show more
112 likes · 26 comments · 2 shares
Hiral 3 JUL AT 14:20

आपके दरबार में अत्यसुंदर अनोखा सुकून है शिव
आपकी आराधना कर मन हर्षित हो जाता है शिव

यह जीवन के संघर्ष कभी कभी दुर्बल करते है शिव
आपको देखकर जीवन ऊर्जा से भर जाता है शिव

दूध, जल, फल अर्पण करने से आप प्रसन्न कहाँ शिव
इंसान के सच्चे भाव उसके गुण प्रिय हैं आपको शिव

प्रेम के दाता करुणा के स्वामी मेरे भोले भंडारी शिव
दुखहर्ता, सुखकर्ता मेरे हर हर महादेव, हर हर शिव

अंधकार को दूर कर ज्ञान का प्रकाश देने वाले शिव
आपकी कृपादृष्टि हर इंसान पर बनाये रखना शिव

-


Show more
174 likes · 76 comments · 1 share
Hiral 28 JUN AT 15:50

तू जब जब आग में
झोंको गी मुझे ऐ ज़िंदगी
मैं तब तब खरा सोना
बनकर निखरूंगी...))

पहाड़ हो या महासागर
उसे भी पार कर जाऊँगी
जीवन के इस जंगल में
अपना रास्ता बना लूँगी..))

सुनहरे उज्ज्वल कमल से
अपनी कहानी लिखूँगी
पतझड़ के मौसम में भी
नया पुष्प बनकर खिलूँगी..))

हिम्मत हौसलों के पंख से
अपनी उड़ान भरूँगी
अपने ज्ञान की खुशबू से
पूरा विश्व महेकाऊँगी...))

-


Show more
229 likes · 45 comments · 1 share
Hiral 20 JUN AT 18:51

सबसे खास सबसे अनमोल हो
मेरी तुम सबसे प्यारी दोस्त हो
इस दुनियां की सारी खुशियाँ तुम्हें मिले
प्रेम से सबके दिल में यूँही बसी रहो

घर की लक्ष्मी भाई की जान हो
दो घर की तुम शान बान हो
विश्वास और प्यार यूँही बना रहें
तुम्हारी हर ख्वाहिश हर तमन्ना पूरी हो

हैप्पी बर्थडे प्यारी भाभी...💐

-


Show more
232 likes · 38 comments · 1 share
Hiral 17 JUN AT 10:34

बच्चों को देखकर सपूर्ण होने का एहसास होता है
ऐसा अद्भुत सौभाग्य माता पिता बनने में होता है
जितना सुकून ख़ुशी बच्चे को गोद में लेकर होती है
उतनी पूरी दुनिया गुमले फिर भी नहीं हो सकती है
सारे रिश्तों से लेकर, नये रिश्ते की सुरुआत होती है
एक नया अध्याय एक नई ज़िम्मेदारी सुरु होती है
त्याग बलिदान अपनी खुशियां भी कुरबान करते है
तभ माता पिता यह रिश्ता निभाने में सफ़ल होते है
अच्छे गुण, संस्कार अच्छे चरित्र का निर्माण करते है
वहीं बच्चे अपने माता पिता का नाम रोशन करते है
जब सारे रिश्ते निभाकर ज़िम्मेदारियां पूरी होती है
तभ एक इंसान का जीवन वास्तवमें अर्थपूर्ण होता है

-


Show more
245 likes · 42 comments · 2 shares
Hiral 15 JUN AT 13:55

जो इंसान बहारी चीजें, इंसान, माहोल को
अपनी ख़ुशी मानता है वह ख़ुशी क्षणिक है
वास्तव में नहीं
लेकिन...
जो इंसान अपने भीतर
ज्ञान, शक्ति, आत्मा से ख़ुश रहें उसे समझें,
तो ख़ुशी सदा के लिए ख़ुद में ही स्थायी है

-


Show more
269 likes · 45 comments
Hiral 8 JUN AT 9:45

तू ही मेरी भक्ति तू ही मेरी शक्ति भोले
तेरी शरण में ही मुझे रहना है भोले!

मेरी श्रद्धा में, मेरे मन मेरी रूह में भोले
तू बसा है जैसे मेरे हर एहसास में भोले!

तेरी कृपा जब जब मुझ पर बरशी भोले
मैं न रुक पाई तुझे प्रेम करने से भोले!

मेरे हर कर्मो का मर्म तू जानता है भोले
मेरे ह्रदय के भाव तु समझता है भोले!

तू चाहे आबाद कर या बरबाद मुझे भोले
मैंने तो हर साँस तेरे नाम कर दी भोले!

-


Show more
322 likes · 49 comments
Hiral 28 MAY AT 19:04

ये कैसा दस्तूर और कैसा न्याय है तेरा ज़िंदगी
कभी हँसा देती हैं तो कभी रुला देती है तू ज़िंदगी!

कुछ अमूल्य देती हैं, तो बहुत कुछ छीन लेती है ज़िंदगी
ख़ुशी और ग़म में तू सारा जीवन बांट देती है ज़िंदगी!

तुझे जीने के लिए बहुत मूल्य चुकाना पड़ता है ज़िंदगी
कोई आसान रास्ता दिखा, अब कितना सहे ज़िंदगी!

संधर्ष, तकलीफ़े, दुख ये जो तोहफ़े में देती है ज़िंदगी
क्या अपराध हैं? जो इंसान तेरे सहारे जीता है ज़िंदगी!

-


Show more
336 likes · 48 comments · 2 shares
Hiral 22 MAY AT 21:53

गरमी के इस मौसम में...!
रात की चाँदनी में
अपने घर के छत पर
एक चेयर पर बैठे
सोच रही हूँ... क्या लिखूँ...!
यह ठंडी ठंडी हवाये
जो मुझे छूकर गुजर रही है
उसकी शीतल करुणा लिखूँ...!
या आकाश पर यह तारे
जो दूर से चमक रहे है
उसकी रोशनी का तेज़ लिखूँ...!
या वो पेड़ जो हवा के कारण
आवाज़ करतें हिल रहे है
उसका कोई गीत या धुन लिखूँ...!
या वो चाँद जो बादलों में छुपा है
उसका ना होने का कारण या
उसे ना देखने का ग़म, वियोग लिखूँ...!
या ह्रदय में उठी वह सुहानी यादें
जो कभी दुख तो कभी सुख के पल है
उस यादों की ग़ज़ल या शायरी लिखूँ...!
या अपने दिनचर्या के किस्से है
जो यूँही दिन होकर रात में ढल जाते है
उसके चूल बुले खट्ठे मीठे किस्से लिखूँ...!
या वो सुकून जो अभी महसूस करती हूँ
उस एहसास की परिभाषा लिखूँ...!
हे प्रकृति अब तू ही बता मैं क्या लिखूँ...!

-


Show more
346 likes · 45 comments · 1 share
Hiral 20 MAY AT 14:57

कोरोना की वजह से लोग घर में है
कुछ लोग गेम्स खेल रहे है
कुछ सोशल मीडिया का उपयोग करते है
कुछ लोग टीवी देखने में समय बर्बाद करते है

ऐसे में...मेरे दो सुझाव है...
समय का सही उपयोग करने के लिए।

एक तो आप रोज़ ध्यान, व्यायाम, एक्सरसाइज
करना सुरु कर दीजिए ताकि आप हेल्दी स्वस्थ बने

और दूसरा आप रोज़ किताबें पढ़ये
फ़ोन में भी ऐप द्वारा किताबें पढ़ सकते हो
ताकि ज्ञान में वृद्धि हो अनुभूति हो!

-


Show more
345 likes · 42 comments · 1 share

Fetching Hiral Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App