Harshit Mishra Naman   (हर्षित "नमन")
1.0k Followers · 676 Following

मुझको "हर्षित" कहते हैं सब,
मेरा कोई नाम नहीं है!............🇮🇳🇮🇳❤️💕💗😍😘
Joined 13 June 2017


मुझको "हर्षित" कहते हैं सब,
मेरा कोई नाम नहीं है!............🇮🇳🇮🇳❤️💕💗😍😘
Joined 13 June 2017
20 NOV AT 12:25

आदित संगे अईहS अँगनवा हे छठी मइया!
तहार करSब हम पूजनवा हे छठी मइया!

फलवा मँगईनी अउर दउरा सजईनी
सुपवा के संगे माई ऊँखियो ले अईनी
चार दिन के आईल बा परबवा हे छठी मइया!

ठेकुआ खजूर सSजल दउरा में भारी
जोड़े-जोड़े फलवा अउर पान सुपारी
माथे पे दउरा लेके जाई सभे घटवा हे छठी मइया!

जल बीच ठाढ़ होखे सुरुज मनाइब
दूध के अरघ दीनानाथ के दिआइब
फूले-फले सभे जन अउर आपन देसवा हे छठी मइया!

-


2 NOV 2019 AT 14:21

सुनि ली ना हमरो अरजिया,
हे छठी मइया!
बिटिया तS करेले बरतिया,
हे छठी मइया!

नारियर, ठेकुअवा जे दउरा सजाइब,
ननदी बोलाइब माई कोसिया भराइब।
नदिया के तीरे हम देइबे अरघिया,
हे छठी मइया!

सजा दीं हे आदित उजड़ल बगिया हमार,
राम जइसन होरिल खेले गोदिया हमार,
सीता जइसन सुगनी दीं चहके दुअरिया,
हे छठी मइया!

बरतिन के मनसा पुरायीं हे दीनानाथ,
सेनुरा के टहटह बचा लीं हे दीनानाथ,
हमनी पे बनल रहे रउरो अशीषिया,
हे छठी मइया!

-


1 JUN 2019 AT 23:44

अनमोल थी,
किन्तु लाखों में बिकी,
हाँ, वो बेटी थी!

-


17 FEB 2019 AT 1:03

धरा रो पड़ी है, गगन रो पड़ा है,
पुनः आज अपना चमन रो पड़ा है।
छूकर के वीरों के चरणों को अब,
तिरंगा बना जो कफ़न रो पड़ा है।

-


16 FEB 2019 AT 22:27

सो गए हैं वीर भारत के तिरंगा ओढ़ कर,
चल दिए हैं नेह के वे सारे नाते तोड़ कर।
अपने दिल से तुम कभी भी उनको न बिसराना,
मर मिटे जो देश पर मासूम बच्चे छोड़ कर।

-


26 JAN 2019 AT 12:03

सूरज की किरणें भी गाथा आज गा रही हैं, भारतीय गणतंत्र पर्व की बधाई है।
लहर-लहर लहरा रहा तिरंगा आज, भारत में पूरे गूँज रही शहनाई है।
शेखर, सुभाष, अशफ़ाक और बिस्मिल जी, भारती के लालों ने आजादी दिलवाई है।
तिरंगा कफ़न ओढ़े पिया आये मण्डप में, प्रेयसी ने रक्त की रोली माथे लगाई है।

-


12 NOV 2018 AT 18:53

सुनि लीं ना हमरो अरजिया हे छठी मइया !
बलका तोहार माई कइलस बरतिया ।
नारियर , ठेकुअवा जे दउरा सजाइब ,
नदिया के तीरे माई देइब अरघिया ।
सुनि लीं ना हमरो अरजिया.....
हमरो तS गोदिया में दे दीं होरिलवा ,
सीता जइसन बिटिया दीं , महके दुअरिया ।
सुनि लीं ना हमरो अरजिया.....
अपने में लड़S ताटे सगरो तS लोगवा ,
देखउतीं हे सूरुजदेव रउरे डगरिया ।
सुनि लीं ना हमरो अरजिया.....
बरतिन के मनसा पुरायीं हे दीनानाथ ,
हमनी पे बनल रहे हरदम अशीषिया ।
सुनि लीं ना हमरो अरजिया.....

-


1 OCT 2018 AT 2:00

हे माँ सुहासिनी , शास्त्ररूपिणी , आपको है प्रणाम ।
श्वेतकमलासिनी , हंसवाहिनी , आपको है प्रणाम ।।
माँ शोकनाशिनी , मात तारिणी , आपको है प्रणाम ।
माँ वरप्रदायिनी , ब्रह्मचारिणी , आपको है प्रणाम ।।

-


28 AUG 2018 AT 20:38

हमने तुमको देखा तो नहीं ,
फ़ख़्र है तुमको पढ़ा 'फ़िराक़' ।

-


16 AUG 2018 AT 20:29

साहित्य के वो सतत पुजारी यूँ मुँह मोड़कर चले गए ,
सारे प्रयास बेकार हुए , वो प्राण छोड़कर चले गए ।
जीवन पूरा ही किया समर्पित मातृभूमि की सेवा में ,
हमसे तो दिल का गठबंधन वो आज तोड़कर चले गए ।

-


Fetching Harshit Mishra Naman Quotes