Km Prakirti   (Prakirti)
3.2k Followers · 7 Following

I am..........
Joined 5 June 2020


I am..........
Joined 5 June 2020
24 JAN AT 14:39

बेटियां

पापा मेरे हीरो मैं उनकी सेहजादि
वो मेरा पहले प्यार और मैं उनकी आखरी !!

Read the full poem below 👇👇👇👇

-


23 JAN AT 15:38

बातें हुआ करती हैं हमारी
झिलमिलाते सितारों के बीच
कुछ अनकही सी एहसासे हैं हमारी
चांदनी रातों के नज़रो के बीच

दिल में तमनाओं का शोर हैं
आख़िर उनकी अदाओ पर किसका जोर हैं
उनकी बातों में मीठी सी रस का घोल हैं
उनकी एक नज़र पर हुए हम मदहोश हैं

जब हो वो हमसे नाराज़ कभी
दिल में जैसे चुभता एक तीर हैं
हाले दिल की बातें बतलाऊँ कैसे
आख़िर मेरा भी तो एक नाजुक सा दिल हैं ||

-


21 JAN AT 12:43

बीज

छोटे से बीज की अनोखी हैं कहानी
मीटी से लिपट कर जिसकी होती हैं जिंदगानी
धुप, पानी और पोषक तत्व से खुद को बड़ा करें
अपनी जड़ को धरती माँ से लिपटा कर खुद को खड़ा करें
कलिया फूलो में तब्दील करें
और तितलियों, भवरों को अपनी और आकर्षित करें
आख़िर में फलो, सब्जियों से खुद को भरपूर करें
छोटा सा बीज अनेक जीवो का पेट भरने का काम करें
बिना इसके जीवन ना चले
एक छोटा सा बीज जीवन देने का काम करें

-


19 JAN AT 22:22

काश 🤗

काश मैं बादल बन जाऊँ
तो पूरी गगन की सैर कर आऊँ
कभी पानी बनके बरसू
तो कभी हवाओं के साथ बहता जाऊँ
बेफिक्री में उड़ता जाऊँ
हर शहर की सैर कर आऊँ ||


-


18 JAN AT 23:56

🌠सुकून के कुछ पल 🌠

चलो किसी दूर वादियों में
कुछ लम्हे सुकून के बिताये
शोर गुल से दूर
कोई नयी दुनिआ में घर बसाये

थके हारे जब घर आये
तो कुछ लम्हे कुदरत के संग बिताये
जहाँ ताजी हवा,चिड़ियों का चेह्चहाना सुन
सारी परेशानिया जैसे गुल हो जाये

चलो चले कोई ऐसी दुनिआ में
जहाँ कुछ पल हम सुकून के बिताये
सारी परेशानियों को भूल जहाँ
हर लम्हे को हम खुल कर बिताये ||


-


14 JAN AT 16:23

आज उनकी तस्वीर का दीदार हुआ
पुराने लम्हो का सैलाब हुआ
जो खो गयी थी यादें कही
फिर से सारी छवि का एहसास हुआ
समय के चक्र का पता चला
एक अनचाहे दर्द का एहसास हुआ ||

-


8 JAN AT 10:27

कही दूर फिज़ाओ में
नयी मंजिल ढूंढने की तलाश में
खुद को पाने की चाह में
निकल परे हैं हम
उन सारी तमन्नाओं को पूरा करने में
जो चका चोंध में खो गयी थी कही !!

-


6 JAN AT 21:51

दुनिया की रितो में
कोई जकड़ ना ले हमें कही
ये ना करना वो ना करना
बस इसी का हैं यहाँ रोना
तुम हो एक लड़की
हर कदम पर हमें समझाना
हुई क्या हमसे गलती
जरा हमें कोई बताना
अपनी शर्तो पर हमें हैं जीना
ना कोई बंदिशे हमें हैं सेहना
दिल में जो ठाना हैं वो हमें हैं बनना
आख़िर हमारे सपनो में हमें भी हैं उड़ान भरना
छोटी सी तो जिंदगी हैं
हर एक पल खुल करके हमें हैं जीना
आख़िर अपने सारे अरमानो को हमें भी तो हैं पूरा करना ||

-


5 JAN AT 20:02

दिल जिसे देख खुश हो जाये वो गुलाब हो तुम
जिसकी खुसबू से दिल बेगाना हो जाये वो अफसाना हो तुम
पंखुरियों की कोमलता सा एहसास हो तुम
दिल तुम्हरी ओर खींचा चले जाये वो तराना हो तुम !!


-


3 JAN AT 0:50

चांदनी वाली रात हैं
टिमटिमाते तारों के साथ हैं

कोहरे से लबालब ये रैन हैं
उसे ठिठुरती सभी की चैन हैं

लम्बी होती ये रात हैं
दिन तो जैसे लुका छुपी खेलता हमारे साथ हैं

पानी को सब दूर से करते सलाम हैं
सर्द हवाओ ने लुटा सबका आराम हैं

दिल तो कम्बल, स्वेटर के साथ हैं
आख़िर वही तो देता हमारा साथ हैं ||




-


Fetching Km Prakirti Quotes