Deepanshu Gahlaut   (Deepanshu Gahlaut)
6 Followers · 6 Following

I am the writer of my life.
Joined 14 January 2019


I am the writer of my life.
Joined 14 January 2019
10 MAY AT 5:58

खुद जागकर तुझे सुलाती है,
खुद रोकर तुझे हंसाती है,
तन्हा रहती है खुद मगर,
तेरा साथ हमेशा निभाती है,
माँ सब जानती है....

-


2 MAR AT 8:55

ज़माना बदल गया है,
लोग प्यार को ख्यालों में नहीं,
फेसबुक के Likes में ढूंढ़ते हैं..

-


22 FEB AT 16:04

जब सोकर उठता हूं तो बस तेरे दीदार की ही ख्वाहिश रहती है...

-


8 FEB AT 0:14

रुका हूं तेरे इंतजार में
कि तुम कहोगी चलो
फिर से शुरू करते हैं
उन बातों को जो बाकी है..

-


7 FEB AT 18:47

कुछ बातें जो मैं करता हूं
और कुछ जिनसे डरता हूं
नाकामी दिखती है
और धुंधला सा अक्श मेरा.....

-


6 FEB AT 21:41

लोग कहते है तेरे आने से मैं बदल सा गया हूं
अपने अल्फाजो में कुछ सुधर सा गया हूं।

-


30 JAN AT 22:04

आइने सी टूट कर यूं बिखर जा
मेरी बांहों में आ सिमट जा

-


22 DEC 2019 AT 20:49

Leadership seems as simple as pie, and yet it is a mystery that can only be learned by doing with a mindset of action.

-


3 NOV 2019 AT 15:10


There are so many colors in life. The best way is to adopt the change and match the color with the situation.

-


14 JUL 2019 AT 12:52

SEO is simple and can be learned easily by doing and experimenting. All you need is patience and time!


-


Fetching Deepanshu Gahlaut Quotes