22 OCT 2019 AT 8:04

वो बेपनाही की तन्हाइयो में हम सुकून ढूंढ़ लेते हैं...
तिरे लिखें अल्फाज़ो को हम आँखों से चूम लेते हैं...

- Deepak Bundela "arymoulik"