Avinash Kumar   (अविनाश “कर्ण”)
3.2k Followers · 55 Following

read more
Joined 14 July 2017


read more
Joined 14 July 2017
9 MAY AT 10:53

ये मकां मेरा, कभी घर भी न होगा
माँ तेरा आँचल मेरे सर जो न होगा

दूर कितना भी रहूँ तुम साथ रहना
तू रहे तो, खोने का डर तो न होगा

-


8 MAY AT 23:54

हर चीज़ के
होते हैं दो पहलू,
दोनो के होते हैं
क़ायदे अलग अलग
अलग अलग महत्व,

अंधेरा हमेशा
बुरा नहीं होता,
और
न होती है
सदा रौशनी अच्छी,

लाज़िम है कि
चाँद के
दीदार को
बहुत जरूरी है
रौशनी का छट के
अंधेरा हो जाना।

-


6 MAY AT 19:12

लाज़मी है चाँद को यूँ रश्क होना
चाँद के बदले, तुम्हें सब देखते हैं

-


29 MAR AT 7:49

फाग के राग की है बस ये कहानी
रंग खोजे केवल, चेहरा और पानी

रंग के संग दिल भी मिलते रहें तो
पूर्ण हो प्रेम की प्यारी सी निशानी

-


11 MAR AT 10:09

जहां तैयार है जिस शिव के दर्शन को
वो शंभू हैं आज आतुर गौर दर्शन को

-


27 FEB AT 11:24

मोहब्बत में बँटवारा , जब चर्चे में आयेगा
पूछेंगे सब, चंदा किसके हिस्से में आयेगा

-


17 FEB AT 14:07

Paid Content

-


14 FEB AT 19:52

रात है गर तो महताब होना चाहिए
नींद में तेरा ही ख़्वाब होना चाहिए

फूल, ख़त,चंदा-तारे पुराने हैं सभी
तोहफा हो तो नायाब होना चाहिए

होंठ पे तेरे जानाँ, हँसी आये जभी
बाग को पूरा, शादाब होना चाहिए

बात है कैसी, कैसे बताऊँ मैं तुम्हें
इश्क़ में जानाँ बेताब होना चाहिए

रास्ते ये सारे, जाते हैं तेरी ही गली
छोर से जन्नत पायाब होना चाहिए

-


26 JAN AT 9:36

इस देश में सबकी विशेष पहचान है
समरूप हैं सब, कह रहा संविधान है

-


23 JAN AT 20:43

उसी के हो, हिमायत क्यूँ नहीं करते
ऐ दिल मेरे, मुहब्बत क्यूँ नहीं करते

चुराता, हर अमावस, चाँद है कोई
सितारों तुम बग़ावत क्यूँ नहीं करते

-


Fetching Avinash Kumar Quotes