anjalyy Sharma!   (Sanjh_)
3.1k Followers · 23 Following

read more
Joined 7 May 2018


read more
Joined 7 May 2018
anjalyy Sharma! 21 MAR AT 21:14

कहीं उड़े अबीर ,, तो कहीं महके है गुलाल !
हर जिस्म है रंगा हुआ,, नीला अंबर भी हुआ है लाल!
प्रेम रंग से हर तिनके ने, खुद को रंगा है गहरा लाल !
इस श्याम वर्ण की होली में ब्रज का हाल हुआ बेहाल!!

कभी जकड़े कलाई ,,तो कभी चूमे यह गोरा गाल!
केशव की नजरों के आगे,, काला काजल भी बनना पाया ढाल!
भीगी जुल्फें,, छनकी पैजनिया,, श्वेत चुनर भी रंगी चटक लाल,,
इस श्यामवर्ण की होली में ब्रज का हाल हुआ बेहाल!!

दौड़ी राधा कुंज गलियन में,, छलिये ने बरसाई है गुलाल!
तीखे नैना,, घुंघराली लट पर,, नंदलाला हुआ निहाल!
झुका के पलके ,, शरमाई राधा,, खड़ी हाथों को बना अपनी ढाल!!
सांवरे की अठखेली पर ,,राधा भई शर्म से लाल!!
इस श्यामवर्ण की होली पर ब्रज का हाल हुआ बेहाल!!

-


61 likes · 8 comments
anjalyy Sharma! 16 MAR AT 23:02

क्या उसका अस्तित्व ,,
क्या उसका मुकाम है ??,,
आज तुम जान ही लो,
की क्या उसकी पहचान है!!!
भोर में खिलता आफ़्ताब है ,,
निशा में महका ख्वाब है!!
नीर में छुपती अग्नी है ,,
पावक में तपती ठंडी है!!
नवनिर्माण का वो श्रोत है ,,
पवित्रता की वो ज्योत है!!
वो एक नही अनेक किरदार है,,
वो " वो है,, यही उसकी पहचान है!!
घर आंगन की सज्जा है ,,
घूंघट में झलकी लज्जा है!!
ज्ञान का वेद- पुराण है ,,
सदियों से अटल पाषाण है!!
फसलों से सजा खेत है ,,
पुष्पन से लदा पेड़ है!!
वो एक नही अनेक किरदार है,,
वो" वो है,, यही उसकी पहचान है!!

-


Show more
195 likes · 38 comments · 1 share
anjalyy Sharma! 1 MAR AT 11:45

मां की लोरी सहम गई,, शोर मचाते मातम पर।।
बूढ़ी लाठी ठहर गई,, देख लाल को कंधों पर।।
तड़प भरी रूह चीख रही ,,
मेरा पूत पड़ा मेरी चोखट पर।।।।

-


Show more
306 likes · 35 comments · 3 shares
anjalyy Sharma! 28 FEB AT 20:07

सुनो ना ,,

जख्म देना है तो ऐसे जख्म दो,,
जिन पर ये अल्फाज मरहम ना लगा पाये,,,

क्योंकि तुम्हारे दिये हर मर्ज को ये बेजुबान अक्षर भर देते है।।।

-


267 likes · 56 comments · 1 share
anjalyy Sharma! 27 FEB AT 9:48

लगता है ,,
इक खामोशी भरी आह भर कोई मेरी चोखट पर आया है,,,
अंदाजन तेरे सांथ बिताया एक और लम्हा लफ़्जों मै बदल इन पन्नों को सजाने आया है।।।

-


217 likes · 13 comments · 1 share
anjalyy Sharma! 25 FEB AT 21:50

हमारी मोहब्बत मेरेे पैरों में लिपटे घुंघरू की उस मधुर झंकार की तरह है """
जिसकी डोर बंधी मेरे कदमों से है ,,
लेकिन इसकी छम- छम छिपी तेरी आहट में है!!!

-


204 likes · 13 comments
anjalyy Sharma! 24 FEB AT 17:46

किसी भी हकीम की दवा,,
और किसी भी फकीर की दुआ,,
उस बाप को सुकून की नींद नही सुला सकती,,,

जिसके घर का आंगन उसकी बेटियों की चहचहाट से सजा हो,,
और उसके घर का टूटा दरवाजा हबस भरी निगाहों से घिरा हो!!!!

-


216 likes · 29 comments · 1 share
anjalyy Sharma! 24 FEB AT 14:21

उन रास्तों से परिंदे भी दबे पैर लौट जाते हैं"""

जहां सर पर छत ना होने पर भी ,,कुछ नन्ही आंखे अपने सपनों को जीने के लिए बड़े सुकून से फुटपाथ को ही अपना बिस्तर बनाती हैं !!!

-


186 likes · 14 comments
anjalyy Sharma! 23 FEB AT 21:11

सालों बाद उन्होंने इक पैगाम भेजा है, खुदकी तस्वीर के सांथ,,,,

क्या इक पैगाम हम भी भेज बतादें उन्हें,,
की हमारे दिल में छपी उनकी तस्वीर भी उनके दिए ज़ख्मों को हल्का ना कर पाई ,,ये तो महज इक कागज का टुकड़ा है!!!

-


159 likes · 16 comments · 1 share
anjalyy Sharma! 23 FEB AT 11:33

ख्वाहिश थी ना तुझे आबाद होने की,,
ले कर दिया तुझे आबाद,,

तुझे आजाद कर के,,
ले कर लिया खुद को बर्बाद!!!

-


161 likes · 11 comments · 2 shares

Fetching anjalyy Sharma! Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App