Anamika Raj  
7.6k Followers · 22 Following

|CAGED|HOPELESS ROMANTIC|YOU|
Joined 8 November 2017


|CAGED|HOPELESS ROMANTIC|YOU|
Joined 8 November 2017
24 SEP AT 12:46

"FLAMES OF THE FIRE"

We are flames of the fire-
unstable, fierce, zealous to the core;
we hanker to fly higher in the air,
and touch the boundless blue floor.

Tiny parts of us segregate from us;
some soar higher, some fuse mid-way.
We keep longing and attempting;
who knows if in vain!

Unaware, all that we do is preordained;
unaware, our roles are predestined;
unaware, nothing is minute or monstrous;
unaware, liberation is all we seek.

We remain unaware, rather foolishly,
until the log finally burns out,
and only ashes linger on the ground.

-


22 SEP AT 13:08

"Writers don't hide themselves in heavy words.
They hide themselves in the pauses, spaces and the mess they create."

-


20 SEP AT 15:29

"Every writer thinks he doesn't write well.
It is the job of the reader to offer them the truth."

-


19 SEP AT 0:47

I have deleted them from my phone;
they shall fade away from my memory.
Pictures! Ah! How transient!
A day shall come when I would sit,
on grainy sands, near the shore of a beach;
a distant memory would fly to my mind.
I would be perplexed and lost.

Was it the same beach?
Was it the same bridge?
Was it the same everything sans me?
I shall think more about it and think deep;
maybe I would even let my mind imagine.
But eventually, I will say he was happy,
and I was in so much pain.

-


17 SEP AT 13:32

"मैं तुम्हे मिलूंगी नही।"

मैं तुम्हे नही मिलूंगी किसी खेत के पार,
ना ही दो जहानों के बीच,
ना ही आसमानों के परे जो जगह है वहां।

जब तक तुम अपने हृदय के भीतर झांक कर देख ना लो,
वहां मेरी मौजूदगी को महसूस ना कर लो,
मैं भले ही इस छोटी सी दुनिया में तुम से रूबरू हो जाऊं,
लेकिन मैं तुम्हे मिलूंगी नही।

तुम ढूंढते रह जाओगे मुझे,
तुम्हारे सबसे करीब होने के बावजूद,
लेकिन मैं तुम्हे मिलूंगी नही।

-


14 SEP AT 14:36

प्रेम क्या है?

प्रेम सम्भावित वह भाषा है जिसका प्रयोग,
मां ने उचित समझा था अपनी ममता जताने के लिए।
वही भाषा जिसका स्वाद मेरी जीभ पर मानो
आत्मा जैसे बस गया है;
वही भाषा जिसके शब्द घाव भी दे सकते हैं,
एवं औषधि भी लगा सकते हैं;
वही भाषा जो मुझे मेरी मिट्टी से बांधता भी है,
और दूसरों से मुक्त भी करता है।

हां, वही तो है प्रेम- संपूर्णतः!
बिल्कुल मेरी भाषा, 'हिंदी' की तरह।

-


5 SEP AT 15:19

"आज़ादी"

शायद पांच साल की थी मैं
जब मां को रंग बिरंगी चूड़ियां पहने देखकर
मेरी सूनी कलाइयां मुझे कोस रही थी।
कितना जिद्द किया था मैंने, कितना रोई थी मै,
कि मुझे भी उनकी तरह चूड़ियां चाहिए।

मां ने मुझको समझाया था,
कुछ तो बताया था जो हर्फ़-दर-हर्फ़ मुझे याद नही।
आज जब चूड़ियां खनकती हैं मेरी कलाइयों में,
मुझे वो बचपन जैसी खुशी नही होती।
जब टूट जाती हैं ये कांच की चूड़ियां,
एक अजीब सा सुकून मिलता है मुझे सीने में।

कि एक दिन एक-एक करके
इन कांच की चूड़ियों की तरह ये बेड़ियां टूट जाएंगी;
उस दिन मैं आज़ाद हो जाऊंगी।
चूड़ियों के नए डब्बों को देखकर अक्सर सोचती हूं,
"क्या मां भी आज़ाद होने के ख्वाब देखती थी?"

-


4 SEP AT 22:09

























-


3 SEP AT 13:43

Pustule near the elbow of my right hand-
tiny from outside, roots engraved deep;
even mom couldn't see the monster beneath.

It thrived and spread, claiming parts of me.
But hey! It swelled my hand and made it stiff.
"So, I am now tough," I declared to myself.

But a single touch of even the touch-me-nots,
made my swollen right hand hurt like hell.
It made me wonder if this is the case with all.

All those who claim to be strong like rock,
and endure the ordeals of life and silly folks,
still remain mum, like a volcano, dormant.

-


2 SEP AT 13:29

सुकून की तलाश में हम भटके कहां कहां "अरज",
एक तेरा ख़्याल आया तब जाकर हम चैन से सोए।

-


Fetching Anamika Raj Quotes