Amit Mishra   (✍️Amit ('मौन'))
7.8k Followers · 158 Following

read more
Joined 5 November 2017


read more
Joined 5 November 2017
Amit Mishra 18 HOURS AGO

व्याकुलता की पीड़ा को
सीता से बेहतर जाने कौन
द्वंद छिड़ा है मन के भीतर
अधरों पर है धारण मौन

-


Show more
279 likes · 22 comments · 5 shares
Amit Mishra 5 APR AT 12:52

है इश्क़ अगर तो जताना ही होगा
दिलबर को पहले बताना ही होगा

पसंद नापसंद की है परवाह कैसी
तोहफ़े को पहले छुपाना ही होगा

धड़कन हृदय की सुनाने की ख़ातिर
उसको गले तो लगाना ही होगा

आँखों ही आँखों में जब हों इशारे
ओ पगली लटों को हटाना ही होगा

छूकर तुम्हें अब है महसूस करना
होठों को माथे लगाना ही होगा

ख़्वाबों को रस्ता देने की ख़ातिर
नींदों को रातों में आना ही होगा

मज़ा बेक़रारी का लेना अगर हो
मिलन के पलों को घटाना ही होगा

-


Show more
378 likes · 41 comments · 9 shares
Amit Mishra 3 APR AT 21:40

हवा की नियति है उड़ना
उसे पैकेट में बंद कर के
रोक तो सकते हैं
मग़र पैकेट में हाथ डाल कर
पकड़ नही सकते।

वैसे ही प्रेम की नियति है
बस महसूस होना
मैं तुमसे प्रेम करता हूँ
ये मेरा हृदय जानता है

काश ये अनुभूति
तुम तक पहुँच सकती।

-


अनुभूति ही आनंद है...
.
.



#amit #love #feelings #amitmaun

359 likes · 23 comments · 4 shares
Amit Mishra 1 APR AT 11:27

नजरिये का फ़र्क वैसा ही है जैसे पन्ने के इस तरफ़ का V पन्ने के उस तरफ़ से अधूरा A दिखता है।

(शेष अनुशीर्षक में)

-


Show more
465 likes · 19 comments · 7 shares
Amit Mishra 31 MAR AT 16:26

ये बार बार दुत्कारने पर भी आपके पास चला आता है। ये तब तक आपसे दूर नही जाता जब तक आप ख़ुद उसे बहुत दूर तक छोड़ कर नही आते।

दुःख एक वफ़ादार कुत्ता है।

और ये दूसरा ऐसा है कि कहीं टिकता ही नही। जहाँ कहीं इसे आपसे अच्छी किस्मत की लकीरें दिखी ये झट से आपको छोड़ कर निकल पड़ता है।

सुख एक निहायती लालची इंसान है।

-


Show more
190 likes · 16 comments · 1 share
Amit Mishra 30 MAR AT 12:37

◆ आह ◆
_________

-


Show more
388 likes · 16 comments · 2 shares
Amit Mishra 29 MAR AT 12:47

◆ दिल छूना ◆

-


Show more
174 likes · 11 comments
Amit Mishra 27 MAR AT 11:38

◆ नाकाम यात्रा ◆

-


Show more
144 likes · 12 comments · 3 shares
Amit Mishra 27 MAR AT 10:39

प्रेम रस की कविताएं
शर्मीले प्रेमियों द्वारा लिखे गए
वो प्रेम पत्र हैं
जिन्हें पढ़ने का सौभाग्य
उनकी प्रेयसी को
कम ही मिल पाया।

इन्हें अक़्सर
दूसरे प्रेमियों ने
प्रेरणास्त्रोत के रूप में
उपयोग किया।

-


Show more
472 likes · 20 comments · 7 shares
Amit Mishra 25 MAR AT 14:04

मेरी कविताएं भी बिल्कुल
तुम्हारी तरह हैं
इन्हें भी सम्पूर्ण कहलाना पसंद नही

जैसे तुम हर बार कुछ ना कुछ
अधूरा छोड़ देती हो अपने श्रृंगार में
ताकि मैं इंतज़ार करता रहूँ
तुम्हे अगली बार फ़िर से
सँवरता हुआ देखने का...

वैसे ही ये कविताएं हर बार
अधूरी रह जाती हैं ताकि
अगली बार मैं फ़िर से गोते लगाऊँ
उस कल्पना के सागर में
जहाँ से निकलते हैं मोती
इन कविताओं में पिरोने को.....

किसी अधूरे को पूरा करने की आशा
जीवन को जीवंत रखती है।

-


Show more
591 likes · 29 comments · 13 shares

Fetching Amit Mishra Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App