Amit Mishra   (✍️Amit ('मौन'))
5.6k Followers · 166 Following

read more
Joined 5 November 2017


read more
Joined 5 November 2017
Amit Mishra 15 JUL AT 19:29

तेरी याद में डूबा हूँ पर
ग़म के प्याले नही भरूँगा
सुन लूंगा इस जग के ताने
नाम तेरा मैं कभी ना लूँगा

सह लूंगा ये ग़म-ए-जुदाई
पर होंठों पे 'मौन' रखूँगा
तुम्हें लिखूंगा हर कविता में
हर पन्ने पर साथ रहूँगा

-


ये वादा रहा....



#amit #yqbaba #yqdidi #amitmaun

163 likes · 21 comments · 5 shares
Amit Mishra 8 JUL AT 9:22

मैंने आँखों में झाँक कर इजाज़त लेनी चाही मगर हर बार उसने नजरें मिलने से पहले ही पलकें झुका ली...
आँखों की सहमती ना मिल पाने के कारण मेरे होंठों ने मौन रहना चुना...
इज़हार के बाद उसके इंकार या स्वीकार के असमंजस ने मुझे प्रेम पत्र लिखने से रोक दिया...
मैंने अपने मन के भावों को कविता का रूप दे दिया और रच डाली कई कविताएं....
मैंने कविताओं में वो सब लिखा जो मैं उससे कहना चाहता था.....
उसने वो कविताएं पढ़ीं और उसे कवि से प्रेम हो गया....

अब मैं उसे महसूस करके कविता लिखता हूँ और वो कविता पढ़ती हुई मुझे महसूस करती है....

-


Show more
171 likes · 33 comments · 1 share
Amit Mishra 3 JUL AT 10:01

चुनाव:
मुझे बुद्ध के मार्ग पर चलना था तो मैंने कृष्ण का उपाय चुना....

जैसे कृष्ण ने संधि और युद्ध में से युद्ध को चुना ताकि शांति लाई जा सके, वैसे ही मैंने तुम्हें ना पाने की व्यथा और तुम्हारे चले जाने के दुःख में से किसी एक को चुनने के क्रम में अपने भीतर चल रहे द्वंद पर विजय पाते हुए तुम्हे जाने देने की अनुमति को चुना..

ताकि उम्र भर इस भ्रम में जी सकूँ की शायद तुम मेरे लिए बनी ही नही थी और साथ में ये सुकून भी रहे कि तुमने अपना चुनाव स्वयं किया और शायद तुम खुश होगी.....

समर्पण की प्रक्रिया का पहला चरण पार करते हुए मैंने तुम्हारी ख़ुशी को अपनी प्रसन्नता का कारण मान लिया.....

-


Show more
159 likes · 29 comments · 3 shares
Amit Mishra 1 JUL AT 19:19

पिय का घूँघट ओढ़ चली हो,
तुम को अब मैं नही दिखूंगा
प्रेम लिखूँगा कविता में बस,
मैं तुम पर कविता नही लिखूंगा

-


Show more
208 likes · 31 comments · 3 shares
Amit Mishra 28 JUN AT 9:41

पहला ख़त

-


Show more
167 likes · 36 comments · 8 shares
Amit Mishra 26 JUN AT 10:41

ज़िंदगी कट तो रही थी तुमसे पहले भी
ज़िंदगी कट जाएगी तुम्हारे बाद भी

-


Show more
200 likes · 22 comments · 3 shares
Amit Mishra 22 JUN AT 10:14


ज़हन की ज़मीन पर यादें उगाया करता हूँ
सिंचाई को उनकी आँसू लगाया करता हूँ
तेरे साथ किये उस एक वादे की ख़ातिर
उन्हीं लम्हों को फिर जी आया करता हूँ

-


Show more
206 likes · 20 comments · 4 shares
Amit Mishra 19 JUN AT 21:32

चाहता मैं भी हूँ मैं उधर जाऊं
है नही वो वहाँ फ़िर भी घर जाऊं

गाँव की सारी गलियों में देखा उसे
ढूँढ़ने अब उसे मैं शहर जाऊं

इश्क़ का दे रहे हो मुझे वास्ता
अब जो है ही नही कैसे डर जाऊं
 
मौत आगे खड़ी पीछे ग़म की झड़ी
अच्छा तुम ही कहो मैं किधर जाऊं

जिस्म से रूह मेरी जुदा हो चली
एक नज़र उस को देखूँ तो मर जाऊं

-


थाम लो तुम मुझे मैं बिखर जाऊं...

#amit #yqbaba #yqdidi #amitmaun

209 likes · 24 comments · 3 shares
Amit Mishra 15 JUN AT 9:31

उम्मीदें:

हौसलों की कुछ स्वरचित कहानियाँ पढ़ने के बाद कभी कभी हम इतने ज्यादा आशावादी हो जाते हैं कि हमें लगने लगता है कि हम भरी बरसात में उफ़नती नदी के बहाव को मिट्टी डाल कर रोक सकते हैं और हम ऐसा करने भी लगते हैं!

मगर बार बार मिट्टी डालने के बाद जब वो हर बार तेज बहाव के दबाव में आकर बह जाती है तब जाकर हमें एहसास होता हैं कि हमनें मिट्टी से उम्मीदें कुछ ज्यादा ही लगा ली थी!

प्रेम कथाओं को पढ़कर हम अक़्सर यही गलती दोहराते हैं और फिर उम्मीदों के साथ साथ हम ख़ुद भी टूट जाते हैं!

-


Show more
168 likes · 15 comments · 2 shares
Amit Mishra 12 JUN AT 14:47

छोटी बिंदी बड़ा सा गजरा
छम छम करती उसकी पायल
सरके चूनर कांधे से जब
तिल गर्दन का करे है घायल

चले तो चूड़ी शोर मचाए
लबों की लाली करे है पागल
नज़र लगे ना उसे जहां की
मैं तोहफ़े में दे आया काजल

-


सब हैं उसके रूप के क़ायल...

#beauty #amit #yqbaba #yqdidi #amitmaun

838 likes · 71 comments · 19 shares

Fetching Amit Mishra Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App