Akhand Pratap Singh   (@yourakhand)
7.2k Followers · 43 Following

“Everything you can imagine is real".. Picasso

#yourakhand
Joined 6 July 2020


“Everything you can imagine is real".. Picasso

#yourakhand
Joined 6 July 2020
27 OCT 2020 AT 22:58

We all are walking on a simple street
Where guide is no one else, it's our greed.

It's like an endless battle of time vs need.
Where we think failure is our ultimate enemy and achievement is our inner peace.

Somehow we all are running for fame.
But deep down we all know, our destination is same.

Sometimes we stuck somewhere and reason is nothing , it's only
our deeds .
And then emerges out in our mind,
a temporary but dark black seed.

Then relax, calm down, Don't be afraid like a kid.
Actually nobody really cares for you,creep or run.
Matters only one thing here, is to have somehow a little bit of fun.

So just take out that seed, roll it like weed,
Smoke it out because you are no more a kid.
Yeah, it's true you are no more a kid.

-


12 OCT 2020 AT 22:30

नगर के नजदीक
नदी में एक नाव पर
इसी नरलोक में
निडर सा एक नाविक ।

निर्यात के नशे में
नीले नदी में
नीलम को ढूंढता
निश्छल सा वो नाविक।

नियति के निर्णय में
निष्ठा दिखाता पर
निरश जीवन मे
नीरज खिलाता वो नाविक।

निराश है आज पर
निश्चय भी किया है
नित नीलम की खोज में
निकल जाता वो नाविक।।

-


5 OCT 2020 AT 13:48

नारी का जीवन
जैसे विचित्र एक कहानी
बंदिशें है समुन्द्र जितनी
त्याग जितना कि समुन्द्र में पानी ।।

नारी का जीवन
जैसे विचित्र एक कहानी
संघर्ष है आकाश जितना
पर है उड़ते चील,कौवों से अनजानी।।

-


23 SEP 2020 AT 17:08

कभी कभी ,कुछ बदलने से
बदल जाता है बहुत कुछ ।

तब थोड़ा संभलने से
संभल जाता है बहुत कुछ ।

आज अगर हार ही गए तो क्या हुआ,याद रखो
गमों का गर्दिश भी सिखलाता है बहुत कुछ ।।

-


15 SEP 2020 AT 13:14

मुश्किलें इतनी भी बड़ी नही होती दोस्त,
जितना वो अक्सर दिखा करतीं हैं।

ये तो बस उन वैश्याओं की तरह होती हैं,
जो अपने समय पर खूब बिका करती है।।

-


14 AUG 2020 AT 20:40

अगर तू तलवार होता
काट डालता शीश तू शत्रु का
पर तुझको ना किंचित भी दुख होता।

जख्म देता कितने भी गहरे
और शत्रु जब दुख से रोता,
तनिक भी ना तुझे बुरा लगता नाही तू कभी लज्जित होता।

पर याद रख तू कोई तलवार नही
जख्म देकर खुश ही रहना,इतना भी आसान नही।

माना तेरा जीवन है रणभूमि
पर समय कि है अब पुकार यही
पुनःविचार कर तू फिर से
क्षमादान कर दे तू फिर से
है मानवता कि एक मांग यही।
है मानवता का एक सार यही।।

-


8 AUG 2020 AT 19:18

एक चिता थी सामने,जला जो वो मेरा आक्रोश था।
क्षत्रियता निभा कर आज,फिर से मैं खामोश था।।

-


19 JUL 2020 AT 23:58

REALISATION.....

✏Not just a word,it is..
✏A key which is master key of all
solutions.
✏️A key that changes everything.
✏A key that all we need to have.

📎Go and get it at any cost.
📎Use it to transform your tears
into your laugh..

-


17 JUL 2020 AT 12:17

शून्य!!

(पूर्ण कविता अनुशीर्षक में पढ़ें।)


-


28 NOV 2021 AT 1:25

उनकी बातों ने ऐसी सजावट की है, मानो चिरागों ने रौशनी से बगावत की है..
वो करे ना करे मुहब्बत हमसे ,हमने तो साजिशों से मुहब्बत की है..

और अब इश्क़ शब्द से कोई परहेज नही हमको, बस जिंदगी को नफरतों के हवाले की है..
दूर जितना जाना हो वो बादल चला जाये, अरे हमने कब भीगने की गुजारिश की है..

शोलो से निभा कर जल गए है हम भी, तभी सूखे कोयले से नई दोस्ती की है..
चिराग भले ही रूठे हो रौशनी से गुजरे दिनों से, दिल ने जल कर हरेक रातों को रौशनी की है..

ये बताये कौन उनको उन रास्तो के बारे, जिसपे चल कर हमने ऐसी जिंदगी की है..
दुश्मनी हो गयी थी रातों से हमारी, रोज लड़ते हुए उजालों से दिल्लगी की है..

उनके इरादें भले ही बदले से हो मगर, इन साजिशों ने भी हम ही से आशिक़ी की है..
उनकी बातों ने ऐसी सजावट की है, मानो चिरागों ने रौशनी से बगावत की है..

वो करे ना करे मुहब्बत हमसे, हमने तो साजिशों से मुहब्बत की है!!
वो करे ना करे मुहब्बत हमसे, हमने तो साजिशों से मुहब्बत की है!!

-


Fetching Akhand Pratap Singh Quotes