Akanksha   (आकांक्षा)
1.3k Followers · 72 Following

Joined 26 April 2017


Joined 26 April 2017
Akanksha 11 FEB AT 22:05

इस शहर की बसावट को कोई क्या कहे
माचिस की डिबियों से बनी इमारतों में
तीलियों की तरह आदमी भरे जाते हैं
4×4 की बालकनियों में बच्चे बड़े हो जाते हैं
परले घर कोई छींके तो भी कान खड़े हो जाते हैं

-


Show more
112 likes · 22 comments
Akanksha 5 FEB AT 10:58

हम भोर‌ की‌ ओर मुंह करके बैठे
छोर पर जिसके दो मोर थे रहते
वे रोते, नाचते, फिर गुम हो जाते
क्षण भर की अरुणिमा में विलीन हों जैसे
उस क्षण आंख लाल हुई कुछ ऐसे, जैसे
नभ ने पावन कुंकुम से अपने
भाल पर रक्तिम सूर्य लगाया
दूर किसी शिवाले में तभी
एक शंखनाद ने गांव गुंजाया
इस सुंदर, सरस दृश्य के मध्य
उस मोर को बोलो, कौन रुलाया
वो क्षितिज सरक जाएगा कभी
मगर तुम्हें हम मिलेंगे वहीं
बाहर से ठहरे भीतर बहते
गुम हो जाने को‌ तत्पर तत्क्षण
उन नीले पंखों के पीछे-पीछे

-


Show more
1282 likes · 48 comments · 18 shares
Akanksha 5 JAN AT 19:41

what do you consider
a perfect date?
is it when when my grip on your arm
starts to feel like a noose
and i draw close to you
while we watch the sun rise
when the clock chimes at midnight
a piercing white beam
breaches through our dark hours
climbs on my face
illuminates your eyes
and we watch the life in these eyes
fade away
sounds of a stampede break out
outside our door
this is it
do you hear jets roaring?
do you hear gunshots firing?
do you see a new horizon?
take my hand, take me there

let's watch the nuke detonate

-


Show more
78 likes · 5 comments
Akanksha 31 DEC 2019 AT 8:06

[wan•der•lust] /n./
सफ़र का अनुराग
भाग-५

-


Show more
579 likes · 32 comments · 5 shares
Akanksha 26 DEC 2019 AT 13:16

once upon a night
there was a song
the one that stayed
but never been played
undisturbed, it aged
like wine
like a ballad
like a book
revived by the touch
of your lips
of your voice
of your fingers

years later
it will come to life
again
a song that once
pacified the mother
is now a lullaby
for their daughter

-


i'm getting older




#yqbaba #love #songs #relationships

89 likes · 13 comments
Akanksha 23 DEC 2019 AT 20:21

तसले के अंदर
राख में बची आग
अब ठंडी हो रही है
खटिया पर
दो सुईयों के बीच अधूरा पड़ा
हाथ का बुना स्वेटर
टसुए बहा रहा है
वापसी की गाड़ी ने
धीरे से रफ्तार पकड़ ली है
एक घर उबासी लेकर
फिर से खंडहर बन रहा है

-


Show more
94 likes · 22 comments · 3 shares
Akanksha 13 DEC 2019 AT 17:37

what do we call a phenomenon where the delhi metro is wrapped in advertisments about how good delhi metro is?

"modissism!"

-


"narcissism"


please don't lynch me


#yqbaba #humour #delhi #metromusings

68 likes · 1 share
Akanksha 9 DEC 2019 AT 20:29

समय छूकर गुज़र गया
मैं तटस्थ-सा खड़ा वहीं
अब अवरोध है वहां
जहां गति थी कभी
खड़ी है ज़िन्दगी
जिस मुकाम पर अभी
वहां ख़त्म कुछ नहीं
मुकम्मल भी कुछ नहीं

-


my mind rebels at stagnation




#yqdidi #stagnant #problems #life #still

71 likes · 5 comments · 1 share
Akanksha 2 DEC 2019 AT 13:57

निर्जीव अंगुलियों से
निरुद्देश्य पंक्तियों के,
सृजन को कला कहूँ कैसे
दिग्भ्रमित अर्थ,
हर छंद व्यर्थ
सफ़ेद पर्चों पर बेफ़िक्री से
सुस्ताते-अलसाए शब्दों को
कविता की संज्ञा दूं कैसे
कहो, लिखूं तो लिखूं कैसे

-


Show more
85 likes · 21 comments
Akanksha 14 NOV 2019 AT 20:37

"यह शहर हमें जितना देता है,
बदले में उससे कहीं ज़्यादा हम से ले लेता है..."

-


Show more
1833 likes · 48 comments · 17 shares

Fetching Akanksha Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App