Adarsh Anand   (आदर्श आनन्द)
3.4k Followers · 2 Following

🇸​🇹​🇷​🇴​🇳​🇬​ 🇧​🇪​🇱​🇮​🇪​🇻​🇪​🇷​
🇮​🇳​ 🇰​🇦​🇷​🇲​🇦​.
Joined 4 October 2019


🇸​🇹​🇷​🇴​🇳​🇬​ 🇧​🇪​🇱​🇮​🇪​🇻​🇪​🇷​
🇮​🇳​ 🇰​🇦​🇷​🇲​🇦​.
Joined 4 October 2019
Adarsh Anand 20 JUN AT 20:20

गजब की मिठास है तेरे यादों का
जो इन आंखों को इतना भाया है ;
तभी तो फिर से पलकों पर आंसू आया है ।

-


Adarsh Anand 24 APR AT 13:52

Tum Insaan Bhale Hi Roop Se Badal Jao,
Par Fitrat Tumhari Kabhi Nhi Badalega.

Tumhari Ersha Aur Jalan
Tumhari Sachi Roop Dikha Hi Deti Hai,
Aur Tab Pta Chlta Hai
Tum To Us Biswas Ke Kabil Hi Nhi The.

-


Adarsh Anand 16 APR AT 19:50

Torture , Affliction
Catch , Convulsion
Crick , Distress
Gripe , Hurt
Laceration , Malady
Pang , Paroxysm
Prick , Smarting
Stink , Stitch , Throb
Throe , Tingle.

''Everyone does it,
but it is not a matter of
everyone to maintain it."

-


Adarsh Anand 6 APR AT 1:30

धर्म से विविध मानवता है;
आज फिर से हमने अपना कर्तव्य को निभाया,
इस मुश्किल घड़ी में हमने आशा का ज्योत तो जलाया ।

-


Adarsh Anand 4 APR AT 20:17

उस जलते दीप से उम्मीद ही क्या रखना,
एक झोंका हवा का आयेगा और वो उसे ले जायगा ।

-


Adarsh Anand 20 MAR AT 7:42

अपने एक निए रौशनी को
संसार में बिखेरते हुए ,
ये सूरज का उगाना , तत्प्रय है
की हम आज जीवन कि
एक निये शरुआत कर सकते हैं ।

-


Adarsh Anand 20 MAR AT 7:34

कांटे भरे रास्ते आएंगे,
इस समय की पहिए को कैसे चलाना है,
ये आप पर निर्भर करता है ।

-


Adarsh Anand 12 JAN AT 20:14

हंस के सह लू मै जो तुम कहों फिर क्यों
पागल, आवारा, पर आशिक़ हूं मैं तुम्हारा,
रो लू मै, सारी परेशानी को मुस्कुराहट से तौलू मैं,

शैली ना जीने का तुम बीन आता नहीं,
आलोचना क्या करु इस संसार से मै
जब तुम ही खड़े ना हो मेरे समक्ष में ।

-


Adarsh Anand 6 JAN AT 17:37

ज़ुल्मे-ये-एहसान अगर न होता तेरा तो यू न खेलता शब्दों से मैं
ये मेहरबानी तेरी है जो मैंने खुद का खोया रूह को पाया हूं ।

-


Adarsh Anand 2 JAN AT 8:05

Zindagi Mein Dhokhe Na Fir Sabak Kaha Milti ,
Talab Wo Kuch Paane Ki Is Zindagi Me
Fir Kahan Se Milti ?

Koi Likh Baya Kr De Zindagi Ye Ajib Se Khisse
Haan Disste Yha Log Saapo Se Gahare Jakham Dete Yha Log,
Sapno Ko Baya Krte Kyun Fir Haste Yha Log ?

Jab Saam Baitha Likhne Kyun Dilate Gusse Inke Yaadein ?
Saama Ki Pravana Aashiqui Ki Kya Doosh Hai Ye ?
Nhi..Nhi.. Ye Saari Kartut Kholale Samaz Ki Hai.

-


Fetching Adarsh Anand Quotes