Abhi Singh   (@PoorWriter🐿️)
3.4k Followers · 12.2k Following

read more
Joined 17 February 2019


read more
Joined 17 February 2019
Abhi Singh 28 OCT AT 21:38

फूल की पंखुड़ियों से कोमल है ये रिश्ते,
जैसे जैसे पुराने होते है, झड़ते जाते है।
कभी कलियों जैसे आपस मे बँधे होते है
लेकिन समय के साथ एक दूजे से,
दूर होते जाते है फिर टूट कर बिखर जाते है।।
🙁🙁🙁🙁

-


288 likes · 46 comments · 3 shares
Abhi Singh 30 SEP AT 17:59

दुनियां की चाहत में,
खुद से तो मुहब्बत करना ही भूल गये।।
🙂🙂

-


285 likes · 41 comments · 2 shares
Abhi Singh 24 SEP AT 16:27

Don't stop healing,
No matter what. Keep the process
going, try your best, keep building
Yourself, there's never a pause in
growing, Life will hit you hard
throw stone at you and you may
stumble and fall but thats life and
thats how you heal and grow. no one
can do this for you, but yourself. Be
easy on yourself, heal. Its okay grow
at your own pace and glow in
the best possible ways you can.

-


260 likes · 42 comments · 4 shares
Abhi Singh 15 SEP AT 7:12

【Dear Women】
कभी माँ का आँचल बन कर आती हो,
तो कभी बहन की राखी बन जाती हो,
कभी जीवन संगिनी बन, खुद पर इतराती हो।
सच कहूँ तो,
मुझे किस्मत से मिली एक रीत हो तुम,
मेरे लाखों गमो को सह कर,
मुझको खुशी देने वाली सबसे हसीन प्रीत हो तुम।।
(Salute To Your Love)
🤗🤗🤗🤗🤗

-


425 likes · 110 comments · 10 shares
Abhi Singh 13 SEP AT 15:40

कोई स्टार राइटर,
Because m know
that m very👇

-


Show more
318 likes · 28 comments
Abhi Singh 12 SEP AT 9:16

【समाज का आईना】

अपने ख्वाहिशो को चूल्हे में जला देते है,
दिन भर दुनिया का बोझ उठाते है,
और खुद ही बोझ बन कर रह जाते है।
चाह तो हममे भी है कमसे कम,
अपने बच्चों को अच्छी जिंदगी दे पाऊ,
खुद को भी दुनियां के रंगों में रंग पाऊ।
लेकिन क्या करे साहेब ,
बस पेट भरने का ही कमा पाते है।
खून-पशीने और ईमानदारी से कमाते है,
खुद के ख्वाब जलाकर सबके ख्वाब सजाते है,
फिर भी न जाने क्यों,
सबकी नजरों में खुद को गिरा ही पाते है।
हम कोई और नही एक गरीब मजदूर कहलाते है।।
😶😶😶😶
(Give Respect to Him)

-


350 likes · 67 comments · 3 shares
Abhi Singh 11 SEP AT 20:37

तुम खुद से हो मुहब्बत करते ,
हमेसा हो बस दुसरो के लिए रोते,
क्यों नही कभी खुद के लिए जीते,
अपने अरमानो का हो बस गला घोटते,
क्यो हो हमेसा झूठी ख़ुशी के लिये मरते,
क्यो नही तुम कभी खुद से मुहब्बत करते।।
😏😏😏

-


Show more
360 likes · 63 comments
Abhi Singh 11 SEP AT 6:09

पानी सा Attitude है मेरा,
कोई पत्थर सा जज़्बात नही।
जो हाथ फैला कर रोको,
तो थोड़ा ठहर भी जाऊ मैं।
वरना मुठ्ठी में कैद कर सके,
इतनी किसी की औकात नही।।
🤘🤘🤘

-


406 likes · 84 comments · 9 shares
Abhi Singh 10 SEP AT 19:02

रे समय मेरे उड़ानों को,
आज तू रोक सकता है।
लेकिन मेरे जज्बात के,
तुफानो को कैसे रोकेगा।
बेसक मुझे गिरा कर,
आज तू महान बन सकता है।
लेकिन मेरे दिल की दहकते,
ज्वाला को कब तक रोक पायेगा।।
【Never Give Up】
😏😏😏😏😏

-


311 likes · 40 comments · 3 shares
Abhi Singh 10 SEP AT 18:29

बेवफा हम नही,
बेवफा तुम नही।
बेवफा तो ये समय है,
बेवफा है अपनी किस्मत,
वक्त- बेवक्त दगा दे जाती है।।
😔😔😔😔

-


Show more
311 likes · 83 comments · 1 share

Fetching Abhi Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App