Abhi Singh   (@PoorWriter🐿️)
4.5k Followers · 2.1k Following

read more
Joined 17 February 2019


read more
Joined 17 February 2019
25 NOV AT 12:10

Every morning in Winter
Me to my blanket

"थोड़ी जगह दे दे मुझे तेरे पास कहीं रह जाऊं मैं खामोशियाँ तेरी सुनूँ ओर दूर कहीं ना जाऊं मैं"
😂😂😂😂😂

-


23 NOV AT 12:17

(word of the tree)
हरा भरा मन मोहक हूँ मैं,
तेरे छोड़े कार्बन का दोहक हूँ मैं,
मैं पेड़ हूँ तेरे जीवन का रीढ़ हूँ,
जीवंत हुँ मैं, न ही कोई ऋण हूँ।
हरा- भरा मन मोहक हूँ मैं,
हर इंसान का पोषक हूँ मैं।।
(Read In the Caption)

-


19 NOV AT 19:40

आज अपने जन्मदिन का
एक नया अंदाज़ अपनाया है,
अपने चाहने वालो से,
गमलों में तोहफा मंगाया है।
छोटू- छोटू पौधों को देख,
मेरा दिल फिर से गुनगुनाया है।
सालो रहेंगी साथ यादें सबकी,
हर रोज रहेंगी अब यादें सबकी,
सबने क्या खूब साथ निभाया है,
आज अपने जन्मदिन पर मैंने,
कई नए दोस्तो को अपनाया है।।
😍😍😍😍😍
(Thanks to all)

-


18 NOV AT 21:29

कभी कभी तो
वक्त मिलता है,
फुर्सत में खुद से
बातें करने का।।

-


17 NOV AT 20:47

Feelings of Bird🕊️
मानव अपना भविष्य बना रहे,
हमारा घर उजाड़ कर।
पेड़ो को काट सड़क बना रहे।
हमारे परिवारों को मार कर।
आखिर में हमसे ही पैसा कमा रहे,
अपने जू का तमाशा बना कर।।
【Save Bird, Balance Earth】
🤞🤞🤞🤞🤞

-


17 NOV AT 20:09

ज़िन्दगी खूबसूरत है जनाब,
जरा मुस्कुरा कर तो देखो,
गर्लफ्रैंड बॉयफ्रेंड से निकल,
कभी माँ- बाप से भी,
प्यार जता कर तो देखो।।
🤘🤘🤘🤘

-


6 NOV AT 21:19

ऊपर वाले से मैंने,
दुनियां का सबसे कठिन काम माँगा।
उसने 'जिंदगी' दे दी।।
🙄🙄🙄

-


19 OCT AT 14:01

हाँ तिनका हूँ मैं,
किसी बड़ी शाख़ का टुकड़ा हूँ।
परिंदों के लिये घर हूँ मैं,
हर बड़ी आग का मुखड़ा भी हूँ।
हाँ तिनका हूँ मैं,
डूबते का सहारा भी हूँ,
नासमझों के लिये बस कचड़ा हूँ मैं।।
【Everything is valuable】
🤗🤗🤗🤗🤗

-


15 OCT AT 11:05

गरीबों से करीब के,
रिश्ते छिपाते है लोग।
अमीरों के दूर वाले,
रिश्ते भी गिनाते है लोग।
ना जाने किस दुनियां की तलाश है हमें।
मिट्टी से बने है मिट्टी में ही मिलना है,
बस इतनी सी बात,
अक्सर भूल जाते है लोग।।
(Respect All)
😣😣😣😣

-


3 OCT AT 11:54

20 दिन बीत गये,
फिर भी हाथरस की
कहानी अभी अधूरी है।
मर गया है ये क़ानून देश का,
हेय प्रशासन तेरी
ऐसी भी क्या मजबूरी है।
इतने रंग दिखाये है तूने,
इतने ढंग बताये है,
राम राज्य कह कह कर तूने,
कलयुग के साज सजाये है।
मर गया आज सम्मान देश का,
बस अस्थियों के जलने की देरी है।।
(Shame on you UP Govt)
😢😢😢😢😢😢

-


Fetching Abhi Singh Quotes